एकादशी भजन : इस पवित्र Bhajan से करें एकादशी पर जागरण

* एकादशी भजन
ग्यारस माता से मिलन कैसे होय कि पांचों खिड़की बंद पड़ी।

पहली खिड़की खोलकर देखूं, कूड़ा-कचरा होय।
मुझमें इतनी अकल नहीं आई कि झाड़ू-बुहारा करती चलूं। ग्यारस माता से…
दूजी खिड़की खोलकर देखूं, गंगा-जमुना बहे।
मुझमें इतनी अकल नहीं आई कि स्नान करके चलूं। ग्यारस माता से…
तीजी खिड़की खोलकर देखूं, घोर अंधेरा होय।
मुझमें इतनी अकल नहीं आई कि दीया तो लगाती चलूं। ग्यारस माता से…
चौथी खिड़की खोलकर देखूं, तुलसी क्यारा होय।
मुझमें इतनी अकल नहीं आई कि जल तो चढ़ाती चलूं। ग्यारस माता से…
पांचवीं खिड़की खोलकर देखूं, सामू मंदिर होय।
मुझमें इतनी अकल नहीं आई कि पूजा-पाठ करती चलूं। ग्यारस माता से…

ALSO READ:
Ekadashi dates in 2021 : वर्ष 2021 में कब-कब आएगा एकादशी व्रत, पढ़ें संपूर्ण सूची

ALSO READ:
Ekadashi 2021 Rules : एकादशी के नियम, जानिए क्या नहीं करना चाहिए इस दिन

संकलनकर्ता – श्रीमती चंद्रमणी दुबे

यह भी पढ़े:  दीपावली विशेष : महालक्ष्मी को प्रसन्न करना है तो अवश्‍य पढ़ें लक्ष्मी चालीसा