कंपनी को घरेलू और एक्सपोर्ट मार्केट में बेहतर ग्रोथ की उम्मीद, साथ ही यूरोप और नॉर्थ अमेरिका में विस्तार पर फोकस- SJS Enterprise

कंपनी के मैनेजमेंट ने कहा कि भारत में ही मैन्युफैक्चरिंग पर कंपनी का जोर बना रहेगा

SJS ENT की सुस्त लिस्टिंग हुई है। इसमें 542 के इश्यू प्राइस के मुकाबले 540 रुपये प्रति शेयर पर लिस्टिंग हुई है जिससे इस कंपनी से निवेशकों को निराशा हुई है। वहीं लिस्टिंग और आगे के रोडमैप पर SJS Enterprise के मैनेजिंग डायरेक्टर KA Joseph और ED & CEO Sanjay Thapar ने सीएनबीसी-आवाज़ से खास चर्चा की और आगे का प्लान ऑफ एक्शन बताया।

संजय थापर ने ऑटो और कंज्यूमर का बिक्री में योगदान के बारे में कहा कि कंपनी को ऑटो से 75% तो कंज्यूमर ड्यूरेबल से 25% आय होती है। वहीं ऑटो में 58% बिक्री टू-व्हीलर सेगमेंट से होती है जबकि ऑटो में 17% बिक्री का हिस्सा पैसेंजर व्हीकल और SUV से आता है। कंपनी को एक्सपोर्ट से 17% रेवेन्यू मिलता है।

कंपनी के ED & CEO संजय थापर ने कहा कि कंपनी के प्रोडक्ट्स की विदेशी मार्केट में भी अच्छी डिमांड है। वहीं एक्सपोर्ट मार्केट से अच्छी डिमांड आ रही है। कंपनी को घरेलू और एक्सपोर्ट मार्केट में बेहतर ग्रोथ की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि कमोडिटी कीमतों में उछाल का ज्यादा असर नहीं होगा।

कंपनी के विस्तार की क्या योजनाएं हैं और खासकर विदेशी मार्केट के लिए क्या प्लानिंग इस सवाल का जवाब देते हुए SJS Enterprise के मैनेजिंग डायरेक्टर KA Joseph ने कहा कि कंपनी का यूरोप और नॉर्थ अमेरिका में विस्तार पर फोकस है। हालांकि इसके साथ ही भारत में ही मैन्युफैक्चरिंग पर कंपनी का जोर बना रहेगा।

SJS Enterprise कंपनी Aesthetics डिजाइन और डिलिवरी सॉल्यूशन देती है। इसके साथ ही ऑटो मोबाइल और कंज्यूमर ड्यूरेबल के लिए डिजाइन उपलब्ध कराती है। इस कंपनी के बंगलुरू और पुणे में प्लांट हैं। कंपनी की ऑटो से 75% तो कंज्यूमर ड्यूरेबल से 30% आय होती है।

बता दें कि SJS Enterprises के IPO को निवेशकों की बहुत कम प्रतिक्रिया मिली थी। कंपनी का इश्यू सिर्फ 1.59 गुना सब्सक्राइब हो पाया था। कंपनी का इश्यू 1 नवंबर को खुला और 3 नवंबर को बंद हुआ था। कंपनी के इश्यू को किसी भी सेगमेंट के इनवेस्टर्स से बहुत ज्यादा प्यार नहीं मिल पाया था। क्वालीफाइड इंस्टीट्यूशनल बायर्स के लिए रिजर्व हिस्से में सिर्फ 1.42 गुना बुकिंग हुई थी। जबकि नॉन-इंस्टीट्यूशनल इनवेस्टर्स ने अपने हिस्से में 2.32 गुना बोली लगाई थी। जबकि रिटेल इनवेस्टर्स का हिस्सा 1.38 गुना भरा था। कंपनी ने पब्लिक इश्यू से 800 करोड़ रुपए जुटाए हैं।

कंपनी के बड़े क्लाइंट में Suzuki, M&M, Volkswagen, John Deree, Ashok Leyland शामिल हैं और इनके अलावा Whirlpool, Panasonic, Samsung भी कंपनी की क्लाइंट लिस्ट में हैं। SJS ENTERPRISES में PROMOTER HOLDING इस इश्यू के पहले तक 98.86% थी और इश्यू के बाद इसमें प्रोमोटर्स की होल्डिंग 50.37% रह गई है।

 

यह भी पढ़े:  Aadhaar-Voter Card link: वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने को लेकर जल्द बनेगा कानून! जानें आप कैसे कर सकते हैं लिंक

Redirecting in 10 seconds

Close
close