करीना कपूर की अनसुनी कहानी | Kareena Kapoor Biography In Hindi

Kareena Kapoor – करीना कपूर अपने वैवाहिक नाम करीना कपूर खान के नाम से भी जानी जाती है, वह भारतीय हिंदी फिल्मो की अभिनेत्री है। वह अभिनेता रणधीर कपूर और बबिता की बेटी है और अभिनेत्री करिश्मा कपूर की छोटी बहन भी है। रोमांटिक, कॉमेडी से लेकर क्राइम ड्रामा जैसी कई फिल्मो में करीना ने अलग-अलग किरदार को बखूभी निभाया है। कपूर को बहोत से पुरस्कार भी मिल चुके है जिनमे 6 फिल्मफेयर अवार्ड भी शामिल है, वह बॉलीवुड की सबसे प्रसिद्ध और सर्वाधिक फीस लेने वाली अभिनेत्रियों में भी शामिल है।

करीना कपूर की अनसुनी कहानी / Kareena Kapoor Biography In Hindi

2000 में युद्ध पर आधारित फ़िल्म रिफ्यूजी से करीना ने अपने फ़िल्मी करियर की शुरुवात की थी और इसके बाद इतिहासिक ड्रामा फ़िल्म अशोका में अपने किरदार में उन्होंने अभिनय से जान डाल दी थी और हिंदी सिनेमा को उन्होंने खुद को साबित किया था। उनकी यह फ़िल्म उस समय ब्लाकबस्टर साबित हुई थी।

इसके बाद उन्होंने एक और ब्लाकबस्टर फ़िल्म कभी ख़ुशी कभी गम (2001) भी की थी। अपने करियर में जल्द ही सफलता पाने वाली इस अभिनेत्री को बाद में असफलता का सामना करना पड़ रहा था, उन्हें फिल्मो में भी एक ही तरह के किरदार मिलते थे, जिससे दर्शको के बीच उनको नकारात्मक प्रतिक्रिया का सामना करना पड़ता था।

वर्ष 2004 करीना के जीवन में टर्निंग पॉइंट बनकर आया था। इस साल उन्होंने एक सेक्स वर्कर पर आधारित ड्रामा फ़िल्म चमेली की थी। इसके बाद 2004 में ही आयी फिप्म देव में उनके किरदार की काफी आलोचना को गयी थी, इसके बाद उन्होंने 2006 में आयी फ़िल्म ओमकारा भी की थी, जो क्राइम पर आधारित थी।

2007 में रोमांटिक कॉमेडी जब वी मेट और 2010 को ड्रामा वी आर फॅमिली के लिए उन्हें फ़िल्म फेयर बेस्ट एक्ट्रेस अवार्ड और बेस्ट सपोर्टिंग एक्ट्रेस का अवार्ड भी मिला।

भारत की 4 सबसे सफल फिल्मो में भी करीना ने मुख्य अभिनेत्री की भूमिका निभाई है – 2009 की कॉमेडी-ड्रामा 3 इडियट्स, 2011 की रोमांटिक ड्रामा बॉडीगार्ड, 2011 की साइंस फिक्शन रा.वन और 2015 की सोशल ड्रामा बजरंगी भाईजान। इसके साथ ही 2009 में आई थ्रिलर फ़िल्म कुर्बान और 2012 की ड्रामा फ़िल्म हेरोइन में उनके किरदार की काफी प्रशंसा भी की गयी थी।

उन्होंने अभिनेता सैफ अली खान से शादी की, कपूर की परदे के पीछे की ज़िन्दगी हमेशा से ही खबरों का कारण बनी हुई है। मीडिया में वे कभी अपना मुह नही खोलती और ना ही कुछ बोलना चाहती है और अपने किरदार और फैशन स्टाइल के जरिये वर दर्शको को आकर्षित करना चाहती है।

कपूर एक स्टेज परफ़ॉर्मर और 3 किताबो की सह-लेखक भी है – इनमे एक जीवनी पर आधारित किताब और दो न्यूट्रिशन गाइड की किताबे है। रिटेल चैन ग्लोब्स (Globus) के साथ मिलकर उन्होंने खुद की कपड़ो की एक लाइन / रेंज भी शुरू की है।

प्रारंभिक जीवन और बैकग्राउंड –

21 सितम्बर 1980 को कपूर का जन्म मुम्बई के एक फ़िल्मी परिवार में हुआ था, कपूर (इन्हें बेबो के नाम से भी जाना जाता है) रणधीर कपूर और बबिता की सबसे छोटी बेटी है। उनकी बड़ी बहन करिश्मा भी एक अभिनेत्री है।

अभिनेता और फ़िल्म निर्माता राज कपूर की वह पैतृक पोती है, अभिनेता हरी शिवदासानी की मातृक पोती है और एक्टर ऋषि कपूर की भतीजी है। कपूर के अनुसार उनका नाम “करीना” एक किताब एना कैरेनिना से लिया गया है, जिसे उनकी माता गर्भकाल के समय पढ़ती थी।

अपने पिता की तरफ से देखा जाये तो वह एक पंजाबी है और अपनी माता की तरफ से देखा जाये तो वह सिंधी और ब्रिटिश है। वे बचपन में खुद को “शरारती बच्ची” बताती है, किशोरावस्था से ही उन्हें एक्टिंग का शौक था। विशेषतः करीना अभिनेत्री नरगिस और मीना कुमारी के कार्यो से प्रभावित थी।

पारिवारिक पृष्ठभूमि फ़िल्मी सितारों से भरी होने के बावजूद उनके पिता महिलाओ को फिल्मो में काम नही करने देना चाहते थे क्योकी उनका मानना था की महिलाओ की जिम्मेदारियाँ परिवार और घर को सँभालने की होती है। इसी वजह से करीना और उनके माता-पिता के बीच हमेशा अनबन होती रहती थी और कुछ समय बाद वे अलग भी हो गए थे।

बाद में उनकी माता ने ही उनका पालन पोषण किया, जिन्होंने अपनी बेटी के सपने को पूरा करने के लिए कई जॉब भी किये थे, तभी 1991 में करिश्मा ने फिल्मो में अपना डेब्यू किया। कई सालो तक अलग रहने के बाद अक्टूबर 2007 में उनका परिवार फिर एकसाथ रहने लगा था। कपूर कहती है की, “मेरे पिता मेरी ज़िन्दगी के मुख्य अंगो में से एक है, भले ही ज़िन्दगी के कुछ वर्षो में मैंने उन्हें न देखा हो, लेकिन हम हमेशा से ही एक परिवार की तरह रहे।”

कपूर ने मुम्बई की जमनाबाई नरसी स्कूल से प्रारंभिक शिक्षा और फिर देहरादून की वेल्हम गर्ल्स स्कूल से शिक्षा ग्रहण की। अपनी माता की इच्छा को पूरा करने के लिए ही वे स्कूल जाती थी।

कपूर के अनुसार इंजे शिक्षा में काफी रूचि नही थी, बल्कि ऊंज कभी भी अच्छे ग्रेड्स भिन्धि मिले थे, उन्हें सिर्फ गणित में ही अच्छे मार्क मिलते थे। वेल्हम कॉलेज से ग्रेजुएट होने के बाद मुम्बई के मिठीबाई कॉलेज से इन्होंने 2 साल तक कॉमर्स की पढाई की।

बाद में यूनाइटेड स्टेट की हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से उन्होंने तीन महीने का माइक्रोकंप्यूटर कोर्स भी किया था। बाद में लॉ में उनकी रूचि जागृत हुई और मुम्बई के गवर्नमेंट लॉ कॉलेज में उन्होंने एडमिशन लिया। लॉ का एक साल पूरा करने के बाद ही कपूर एक्ट्रेस बनना चाहती थी। तभी मुम्बई के ही एक एक्टिंग इंस्टिट्यूट से उन्होंने ट्रेनिंग लेना शुरू किया।

अवार्ड –

कपूर को फ़िल्मफेयर के 10 नामनिर्देशनो में से 6 अवार्ड मिले है। रिफ्यूजी में उनके किरदार के लिए कपूर को सन 2000 में बेस्ट फीमेल डेब्यू का अवार्ड भी मिला था।

2003 में आयी उनकी फ़िल्म चमेली के लिए उन्हें विशेष सम्मान दिया गया था और इसके बाद देव (2004) और ओमकारा (2006) के लिए क्रिटिक्स (Critics) अवार्ड भी मिले थे।

कपूर को बाद में 2007 में आयी फ़िल्म जब वी मेट के लिए बेस्ट एक्ट्रेस और 2010 में आयी फ़िल्म वी आर फॅमिली के लिए बेस्ट सपोर्टिंग एक्ट्रेस का पुरस्कार भी मिला है।

कुछ रोचक बाते –

1. बॉलीवुड की ब्लाकबस्टर फ़िल्म कभी ख़ुशी कभी गम में उन्होंने एक कॉलेज गर्ल का किरदार बजी निभाया था।

2. करीना बॉलीवुड की रॉयल्टी है और एक्टर राज कपूर की पोती भी है।

3. करीना उन अभिनेत्रियों में भी शामिल है जिन्होंने बॉलीवुड में एक के बाद एक लगातार सुपरहिट फिल्म की है और तीनो खान के साथ भी काम किया है। आमिर खान के साथ 3 इडियट्स, सलमान खान के साथ बॉडीगार्ड और शाह रुख खान के साथ कभी ख़ुशी कभी गम।

4. वर्तमान में करीना 16 से बजी ज्यादा ब्रांड से जुड़ चुकी है और कई ब्रांड की तो ब्रांड एम्बेसडर भी बन चुकी है।

5. आज कपूर बॉलीवुड की हाईएस्ट पेड एक्ट्रेस (सर्वाधिक फीस लेने वाली अभिनेत्री) में भी शामिल है। कहा जाता है की फ़िल्म हेरोइन के लिए उन्होंने 80 लाख रुपये लिए थे।

6. कमर्शियल रूप से उनकी पहली सफल फ़िल्म मुझे कुछ कहना है थी जो 2001 में आयी थी।

7. कपूर को विदेश जाने का बहोत शौक है, गस्टाड और लंदन आज उनके पसंदीदा जगहों में शामिल है।

8. 27 अक्टूबर 2011 को कपूर के मोम के पुतले का प्रदर्शन UK में किया गया था।

9. करीना हमेशा से ही अपनी क्लोथिंग स्टाइल और फैशन स्टाइल के लिए जानी जाती है।

10. बॉलीवुड में वह एकमात्र हेरोइन है जिनकी चार फिल्मो ने 1 बिलियन से ज्यादा की कमाई की है।

11. कपूर कभी मीडिया में ज्यादा नही बोलती क्योकि वह जब भी बोलती है तब मीडिया में कोई ना कोई खबर जरूर बनती है। इसी वजह से कपूर मीडिया के सामने शांत रहना ही पसंद करती है।

12. उनका ऐसा मानना है की एक ही लीग को 2 अभिनेत्रिया कभी भी बेस्ट फ्रेंड नही बन सकती।

13. अपने पुराने बॉयफ्रेंड शाहिद कपूर के साथ रहते समय 2006 में करीना शाकाहारी बन चुकी थी. लेकिन इम्प्रेस करने के लिए उन्होंने कभी भी अपनी लाइफस्टाइल को नही बदला।

14. 2008 में करीना ने बॉलीवुड में जीरो फिगर ट्रेंड की शुरुवात की।

15. कपूर का पसंदीदा फिटनेस काम योगा करना है। उनके योग सलाहकार के अनुसार वह 50 सूर्य नमस्कार करती है और 30 से ज्यादा सेकंड तक वह योग की विविध अवस्थाओ में रहती है।

16. उनकी पसंदीदा पाक शैली इटालियन और पसंदीदा डिश स्फगेट्टी है। कपूर अपनी फिटनेस को लेकर सीरियस रहती है और उनके अनुसार ही भोजन करती है।

17. फ़िल्म देव में वे सिंगर भी बनी। लेकिन यह फ़िल्म बॉक्स ऑफिस पर सुपर फ्लॉप रही, लेकिन उनके द्वारा गाया गया गाना जब नहीं आये की सभी ने प्रशंसा की थी।

18. कौन कहता है की बहोत बड़ी मूल्यवान रिंग लेने के लिए आदमी की जरूरत होती है? 2010 में कपूर ने स्वयं को 7 कैरट की मूल्यवान रिंग गिफ्ट की थी। लेकिन एक इंटरव्यू में उन्होंने बताया था की उन्होंने एस्ट्रोलॉजर को सलाह पर ही वह रिंग पहनी थी। ताकि उनके जीवन में खुशियाँ बनी रहे।

जरुर पढ़े :-

  1. अमिताभ बच्चन जीवनी
  2. ऐश्वर्या राय बच्चन की जीवनी
  3. एक्ट्रेस प्रियंका चोपड़ा की कहानी
  4. रेखा की अनसुनी कहानी
  5. दबंग गर्ल सोनाक्षी सिन्हा
  6. अभिनेता अजय देवगन की कहानी
  7. Karishma Kapoor biography
  8. Shilpa Shetty biography

Please Note :- आपके पास About Kareena Kapoor Biography In Hindi मैं और Information हैं, या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिखे हम इस अपडेट करते रहेंगे.

अगर आपको Life history of Kareena Kapoor in Hindi language अच्छी लगे तो जरुर हमें WhatsApp status और facebook पर share कीजिये. E-MAIL Subscription करे और पायें Essay with short biography about Kareena Kapoor in Hindi language and more new article. आपके ईमेल पर.

यह भी पढ़े:  रामास्वामी वेंकटरमण | Ramaswamy Venkataraman Biography In Hindi
close