कैंसर का इलाज के 10 घरेलू उपाय और देसी आयुर्वेदिक नुस्खे

कैंसर का इलाज : कैंसर का नाम सुनते ही एक घबराहट सी होने लगती है। ये रोग बच्चों से बड़ों तक किसी को भी हो सकता है। इसकी शुरुआत एक गाँठ के रूप में होती है जो देखने में साधारण ही लगती है। अगर समय पर कैंसर को पहचान लिया जाए तो इसका उपचार करके इसे बढ़ने से रोका जा सकता है और इसे खत्म भी किया जा सकता है। पुरुषों में गला, फेफड़ों, मुँह, प्रोस्टेट, खाने की नली, जीभ, आवाज की नली और ओरल कैंसर होता है और महिलाओं में गर्भाशय, ब्रेस्ट, पित्ताशय, मस्तिष्क और थायराइड के कैंसर की संभावना अधिक होती है। 

इस लेख में हम कैंसर का इलाज और इसे रोकने के घरेलू तरीके और आयुर्वेदिक नुस्खे जानेंगे जिसके इस्तेमाल से कैंसर से बच सकते है और अगर कोई कैंसर से प्रभावित है तो इन उपायों से उसे कंट्रोल कर के उसे फैलने से रोका जा सकता है और इससे छुटकारा भी पा सकते है, ayurvedic home remedies for cancer treatment in hindi.

कैंसर के सही लक्षणों की पहचान तो डॉक्टर ही कर सकता है। पर लगातार वजन घटना, बुखार का बना रहना, भूख में लगातार कमी, गले में खराश, थूक में खून आना, किसी घाव का लगातार बना रहना या सामान्य संक्रमण से बार-बार पीड़ित होने, ऐसे लक्षणों को गंभीरता से लेना चाहिए। ऐसे लक्षण आने पर डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

हमारे शरीर में सौ से हज़ार तक खराब सेल्स होते है। हमारी बॉडी में हर समय खराब सेल्स ख़तम होते है और नये सेल्स पैदा होते है, पर कैंसर का रोग होने पर सफ़ेद और लाल रक्त कोशिकाओं का संतुलन बिगड़ने लगता है जिससे सेल्स की बढ़ोतरी नियंत्रण से बाहर हो जाती है। कैंसर के सेल्स शरीर में अच्छे सेल्स के काम में रुकावट डालते है। कैंसर सेल्स बॉडी में नये बीमार सेल्स बनाते है और जिस अंग में ये सेल्स बनते है उस अंग का कामकाज प्रभावित होने लगता है।

कैंसर के लक्षण : Symptoms of Cancer

  • मुंह सिकुड़ना, मुँह में छाले होना और मुँह का पूरा न खुलना।
  • लगातार कमर में दर्द होना।
  • ब्रेस्ट में या किसी और अंग में गांठ का बनना।
  • शौच और मूत्र करने की आदतों में बदलाव होना।
  • खांसी लगातार होना या फिर आवाज बैठ जाना।
  • खाना निगलने, चबाने और हजम करने में कठिनाई आना।
  • सुनने देखने में दिक्कत आना, सिर दर्द होना, यादाशत कमज़ोर होना।

ये लक्षण दूसरी बीमारियों की वजह भी होते है पर अगर इनमे से कोई भी लक्षण 2 हफ्ते से अधिक समय तक दिखे तो तुरंत डॉक्टर से मिले और टेस्ट करवाये।

कैंसर के कारण : Cancer Causes

  • सुपारी, तम्बाकू, पान मसाला और खैनी जैसी चीजों के सेवन से कैंसर की आशंका काफी बढ़ जाती है।
  • शराब के सेवन से भी कैंसर होने की संभावना होती है। शराब पीने से गले का कैंसर, ओरल कैंसर और पेट के कैंसर का ख़तरा ज़्यादा होता है। शराब और सिगरेट का सेवन एक साथ करने पर ये ख़तरा सौ गुना बढ़ जाता है।
  • नमक ज़्यादा खाने से पेट का कैंसर होने की आशंका अधिक होती है।
  • हमारी सेहत के लिए रिफाइंड ऑयल का सेवन ठीक नहीं, भोजन पकाने के लिए ऑलिव ऑयल, मूंगफली के तेल या कोकोनट ऑयल का प्रयोग करें।
  • हेपेटाइटिस बी, मोटापा और एचाइवी के वायरस से भी कैंसर की आशंका होती है।
  • जो महिलाएं अपने बच्चों को स्तनपान नहीं कराती है उन्हें ब्रेस्ट कैंसर होने का खतरा अधिक होता है।
  • गर्भ निरोधक दवाओं का प्रयोग लंबे समय तक करने से महिलाओं को ब्रेस्ट और लिवर कैंसर का ख़तरा बढ़ जाता है और साथ ही दिल की बिमारियों की संभावना भी बढ़ जाती है।

कैंसर का इलाज के घरेलू उपाय और आयुर्वेदिक नुस्खे

Ayurvedic Home Remedies for Cancer Treatment in Hindi

  1. देसी गाय का मूत्र कैंसर का इलाज में बहुत फायदेमंद उपाय है। रोजाना 2 से 3 बार गोमूत्र पीने से कैंसर के रोगी को चमत्कारी ढंग से फायदा मिलता है।
  2. हल्दी कैंसर से बचने और छुटकारा पाने में बहुत उपयोगी औषधी है। अपने खाने में हल्दी का सेवन हर रोज करे, ये बीमार सेल्स को बढ़ने से रोकती है। तुलसी और हल्दी के प्रयोग से मुँह के कैंसर का उपचार करने में मदद मिलती है।
  3. गोमूत्र और हल्दी में कुरकेमिन नाम का एक केमिकल पाया जाता है जो कैंसर सेल्स को ख़तम करता है। आधा चम्मच हल्दी और आधा कप देसी गाय का मूत्र मिला कर गरम कर ले और मरीज को चाय की तरह पिलाये। लगातार तीन महीने तक दिन में 2 बार इस उपाय को करने से कैंसर में आश्चर्यजनक लाभ मिलता है।
  4. पानी अधिक पिए। रात को तांबे के बर्तन में पानी भर कर रखे और सुबह खाली पेट पिएं। इस उपाय से कैंसर के साथ और भी कई रोगों के इलाज में फायदा मिलता है।
  5. आर्गेनिक फ़ूड का इस्तेमाल अधिक करे क्योंकि इनको उगाने में किसी प्रकार के केमिकल्स और पेस्टिसाइड का उपयोग नहीं किया जाता। सब्जियों में फूलगोभी, ब्रोकली और पत्तागोभी में कैंसर के सेल्स को नष्ट करने के गुण होते है।
  6. कैंसर के रोगी को 2 किलो गेहूं के आटे में 1 किलो जों का आटा मिलाकर इसकी रोटियां 40 दिनों तक खाना चाहिए। इसके अलावा आलू, अरबी और बैंगन के सेवन से परहेज करें।
  7. ग्रीन टी पीने से लिवर, स्किन, गले, मुंह, सर्वाइकल, पेट और ब्रेस्ट कैंसर को रोकने में मदद मिलती है।
  8. सोयाबीन या फिर उससे बनी हुई चीज़े खाए इससे प्रोस्टेट और स्तन कैंसर की संभावना कम होती है।
  9. गेंहू के जवारे का रस पीने से काफी लाभ मिलता है। अनार का सेवन ब्रेस्ट कैंसर के इलाज में असरदार है।
  10. हर रोज कुछ देर सूरज की हल्की रोशनी में जरूर बैठे।
  • जाने कैंसर के शुरुआती लक्षण

कैंसर का उपचार के राजीव दीक्षित आयुर्वेदिक तरीके 

  • आजकल महिलाओं में ब्रेस्ट और गर्भाशय के कैंसर का ख़तरा काफ़ी बढ़ गया है। पहले ये एक गाँठ होती है जो कुछ समय बाद कैंसर का रूप ले लेती है। अगर समय रहते ही इसका ध्यान दे तो इस गाँठ को गला भी सकते है। जैसे ही आपको कोई गांठ या किसी रसौली के बारे में पता चले आप पान में खाने वाला चूना प्रयोग करें। 
  • चुने को गेंहू के दाने के आकार में ले और लस्सी, दही पानी, सब्ज़ी या दाल में मिला कर इसका सेवन करे। जैसी भी गाँठ हो इस नुस्खे को करने से गल जाएगी। पथरी के मरीज इस उपाय का प्रयोग ना करे।
  • जाने पथरी का इलाज रामबाण उपाय

कैंसर से बचने के टिप्स

  1. सबूत अनाज, सब्जियां और फल का सेवन करें।
  2. धूम्रपान, तंबाकू और शराब के सेवन से दूर रहे। मीट, तला हुआ खाना और ज्यादा चर्बी वाले खाने से परहेज करें।
  3. मिनरल्स और विटामिन की मेडिसिन खाने की बजाय नेचुरल तरीके अपनाए।
  4. ज़्यादा कैलोरी वाला खाना कम खाए और रोजाना हल्का फुल्का व्यायाम करें। अच्छी सेहत और रोगों से बचने के लिए योग करना भी अच्छा उपाय है। योग सिखने के लिए Baba Ramdev की योग विडियो भी देख सकते है।
  5. खाने में अधिक नमक का इस्तेमाल ना करे और पक्के हुए खाने पर ऊपर से नमक कभी ना डाले।
  6. दर्द निवारक दवाओं के सेवन की आदत छोड़े।
  7. समय समय कैंसर की जांच करते रहे।
  8. लाल, जमुनी, नीले और पीले रंग की सब्जियों और फलों जैसे टमाटर, जामुन, काले अंगूर, पपीता, तरबूज, अमरूद खाने से कैंसर होने का खतरा कम होता है। संतरा, मौसमी या निम्बू किसी एक का जूस हर रोज पीने से गले, पेट और मुँह के कैंसर की आशंका काफी कम हो जाती है।
  9. कैंसर का इलाज और बचाव में लहसुन का प्रयोग काफी फायदेमंद है। लहसुन रोगों से लड़ने की क्षमता बढ़ाता है। किशमिश और बादाम जैसे ड्राइ फ्रूट्स खाने से कैंसर नही बढ़ता।
  10. अधिक लोगों से योन संबंध बनाने से गर्भाशय का कैंसर का खतरा होता है।
  • राजीव दीक्षित के नुस्खे
  • दादी माँ के घरेलु नुस्खे
  • तनाव दूर करने के तरीके

दोस्तों कैंसर का इलाज के घरेलू उपाय और आयुर्वेदिक नुस्खे, Cancer Treatment Tips in Hindi का ये लेख आपको कैसा लगा हमें कमेंट करके बताये और अगर आप के पास कैंसर का इलाज के देसी नुस्खे है तो हमारे साथ शेयर करे।

यह भी पढ़े:  कैनोला तेल के फायदे और उपयोग – Canola Oil in Hindiकैनोला तेल के फायदे – Benefits of Canola Oil in Hindi
close