डॉक्टर(Doctor) कैसे बने? और डॉक्टर बनने के लिए क्या करे?

क्या आप भारत में डॉक्टर बनना चाहते हैं? यदि हां, तो यह Article आपकी मदद करेगा. भारतीय चिकित्सा उम्मीदवारों(Indian medical aspirants) की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए इस कैरियर गाइड को तैयार किया गया है. यहां, मैंने step-by-step guide प्रदान की है जिसमें पात्रता मानदंड(eligibility criteria), प्रवेश परीक्षा(entrance tests), प्रवेश प्रक्रिया(admission process) और अन्य महत्वपूर्ण विवरण(other important details) जैसे विषयों को शामिल किया गया है.

doctor kaise bane hindi

सबसे पहले, मुझे ‘डॉक्टर’ शीर्षक के बारे में कुछ तथ्यों का उल्लेख करने दें. भारत में, एक व्यक्ति कई तरीकों से ‘डॉक्टर’ शीर्षक कमा सकता है. इसे एक विशिष्ट क्षेत्र में पीएचडी(PhD) प्राप्त करके अर्जित किया जा सकता है, इसे एमबीबीएस(MBBS) और बीडीएस(BDS) जैसे मेडिकल कोर्स पूरा करने के बाद भी प्राप्त किया जा सकता है, इसे बीपीटी(BPT), बीएएमएस( BAMS), बीएचएमएस(BHMS) और अन्य relevant courses जैसे पाठ्यक्रमों को पूरा करने के बाद भी प्राप्त किया जा सकता है.

इस article में, मैं केवल एमबीबीएस(MBBS) पाठ्यक्रम के बारे में चर्चा करूँगा. यह गाइड आपको भारत में मेडिकल प्रैक्टिशनर (एमबीबीएस) बनने में शामिल steps के बारे में और जानने में मदद करेगा.

डॉक्टर क्यों बनें?

एक डॉक्टर रोगियों का इलाज करता है और इस प्रकार अपने मरीजों के जीवन में राहत और खुशी लाता है. एक डॉक्टर अपने मरीजों के जीवन को बदल सकता है.

यह मौद्रिक(monetary) लाभ के साथ-साथ नौकरी की संतुष्टि भी लाती है. भारत में, डॉक्टरों के पास उनके सामने सरकारी और निजी दोनों क्षेत्र के रोजगार के अवसर उपलब्ध होते हैं.

इन दोनों क्षेत्रों में जो डॉक्टर बनते है, उन्हें अच्छी वेतन की पेशकश की जाती है. संक्षेप में, यह करियर आर्थिक रूप से पुरस्कृत है.

एक डॉक्टर daily basis पर रोगियों के साथ interact करता है और बातचीत करता है. वह रोगियों को ठीक करता है और इस प्रकार रोगियों के जीवन में खुशी लाता है. यह कैरियर लोगों को सीधे लोगों की मदद करने का अवसर प्रदान करता है.

नौकरी की संतुष्टि का स्तर जो यह काम देता है वह प्रभावशाली होता है.

इन्हे भी पढ़ें: पढाई में मन कैसे लगाये ? पढाई मे मन लगाने के आसान टिप्स

डॉक्टर के क्या-क्या कर्तव्य होते है?

एक डॉक्टर नीचे दिए गए कार्यों को निष्पादित करता है, उसकी विशेषज्ञता के आधार पर –

  • रोगियों की जांच करना और उसका निदान करना.
  • जरूरमंदों के लिए दवाएं लिखना.
  • सर्जरी करना.
  • नर्स , पैरामेडिकल और सहयोगी हेल्थकेयर श्रमिकों सहित कर्मचारियों का प्रबंधन करना.
  • रोगियों और उनके परिवार के सदस्यों को बिमारियों के बारे में शिक्षित करना.
  • रोगियों के रिकॉर्ड की जांच करना और उनकी recovery/rehabilitation पर नजर रखना.

अच्छा डॉक्टर बनने के लिए कौन-कौन से कौशल की आवश्यकता होती है?

इस पेशे में आगे बढ़ने के लिए, किसी के पास निम्नलिखित गुण होना चाहिए –

  • करुणा और दूसरों की मदद करने के लिए हमेशा तैयार रहना.
  • धीरज.
  • Detail जानने के लिए अच्छी आँखे.
  • एकाग्रता.
  • शारीरिक सहनशक्ति.
  • शांत और रचनात्मक प्रकृति.
  • भावनात्मक ताकत.
  • चिकित्सा कैसे काम करती है पता होना चाहिए.
  • जल्द से जल्द सोचने समझने की क्षमता.
  • नए-नए कौशल सीखना और खुद को updated रखना होगा.

जैसा कि पहले mentioned किया गया है, हम इस article में केवल एमबीबीएस कोर्स(MBBS course) के बारे में चर्चा करेंगे, तो चलिए जानते है इस कोर्स की पूरी details.

एमबीबीएस(MBBS) का फुल फॉर्म बैचलर ऑफ मेडिसिन एंड सर्जरी(Bachelor of Medicine and Surgery) होता है.

यह 5.5 साल का अकादमिक कार्यक्रम होता है. अकादमिक कार्यक्रम का अंतिम एक वर्ष इंटर्नशिप के लिए समर्पित होता है.

MCI (Medical Council of India) या एमसीआई (भारतीय चिकित्सा परिषद) गवर्मेन्ट द्वारा संचालित मंडल है जो भारत में चिकित्सा शिक्षा(medical education) के विभिन्न पहलुओं का ख्याल रखती है. भारत भर में कई एमसीआई अनुमोदित चिकित्सा शिक्षा संस्थान (सरकारी और निजी) मौजूद हैं.

इन्हे भी पढ़ें: IAS क्या है और आईएएस ऑफिसर (IAS Officer) कैसे बने पूरी जानकारी

भारत में डॉक्टर कैसे बने Step By Step जानकारी

भारत में डॉक्टर बनने में शामिल कदम(Setps) यहां दिए गए हैं –

#1 – योग्यता मानदंड(Eligibility Criteria) को पूरा करें

एक छात्र को एमबीबीएस पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए योग्य तभी माना जायेगा जब वह Science stream (भौतिकी, रसायन विज्ञान और जीवविज्ञान) के साथ 12वीं की परीक्षा पास किया हो. तो, पहली चीज जिसकी आपको देखभाल करनी चाहिए वह योग्यता मानदंड है.

प्रवेश के लिए आवेदन करने से पहले, सुनिश्चित करें कि आपके पास इस पाठ्यक्रम को आगे बढ़ाने के लिए आवश्यक न्यूनतम शैक्षणिक योग्यताएं हैं या नहीं.

#2 – प्रवेश परीक्षा(Entrance Exam) के लिए अपनी उपस्थिति दर्ज करें

यदि आप एक प्रतिष्ठित चिकित्सा संस्थान में जाना चाहते हैं, तो प्रवेश परीक्षाओं के लिए उपस्थित होना और उसे  क्रैक करना आवश्यक होता है. भारत में कुछ प्रमुख चिकित्सा प्रवेश परीक्षाएं(medical entrance exams) हैं –

  • एनईईटी(NEET)
  • एम्स(AIIMS)
  • एएफएमसी(AFMC)
  • राज्यवार प्रवेश परीक्षा(State-wise entrance tests)
  • संस्थानवार प्रवेश परीक्षाएं(institute-wise entrance tests) etc.

#3 – प्रवेश(Admission) के लिए आवेदन करें

यदि आप योग्यता मानदंडों(eligibility criteria) को पूरा करते हैं और प्रासंगिक प्रवेश परीक्षा(relevant entrance test) में वैध अंक प्राप्त करते हैं, तो प्रवेश के लिए आवेदन करें.

प्रवेश प्रक्रिया(Admission process) एक राज्य से दूसरे राज्य में भिन्न-भिन्न हो सकती है.

#4 – पाठ्यक्रम(Course) को पूरा करें

एक अच्छे कॉलेज में प्रवेश प्राप्त करने के बाद, अकादमिक कार्यक्रम सफलतापूर्वक पूरा करें, 4.5 साल के कक्षा प्रशिक्षण(classroom training) और 1 साल का इंटर्नशिप पूरा करने के बाद, आप ‘डॉक्टर(Doctor )’ का खिताब अर्जित करेंगे.

इन्हे भी पढ़ें: आईटीआई कोर्स(ITI Course) क्या है? और आईटीआई कैसे करे?

हालांकि एमबीबीएस डिग्री भारत में डॉक्टर के रूप में अभ्यास करने के लिए पर्याप्त है, लेकिन यह रास्ते का अंत नहीं है. आजकल, एमएस(MS), एमडी(MD)और पीजीडीएम(PGDM) जैसे स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम आगे बढ़ने के लिए पूरा करना आवश्यक हो गया है.

हालांकि यह Article एमबीबीएस कोर्स तक ही सीमित है, लेकिन आप निम्नलिखित पाठ्यक्रमों के माध्यम से ‘डॉक्टर’ शीर्षक कमा सकते हैं – बीडीएस (दंत चिकित्सा), बीएएमएस (आयुर्वेद), बीएचएमएस (होम्योपैथी), बीयूएमएस (यूनानी), बीवीएससी. और एएच (पशु चिकित्सा विज्ञान), फार्म डी, बीपीटी (फिजियोथेरेपी), बीओटी (व्यावसायिक थेरेपी), पीएचडी कार्यक्रम इत्यादि.

तो दोस्तों! यह पोस्ट डॉक्टर(Doctor) कैसे बने? और डॉक्टर बनने के लिए क्या करे? आपको कैसा लगा comment के द्वारा जरूर बताये और इसे अपने social media account में जरूर share करे.

यह भी पढ़े:  Android Device के कुछ छिपे हुए Features जो आपको जरुर जानने चाहिये
close