तुरंत फल देता है सूर्याष्टक का पाठ, चमकदार करियर के लिए जरूर पढ़ें

सूर्यदेव करियर की रुकावटों को दूर करते हैं। रोजगार की चाह रखने वाले अगर प्रति रविवार उनका दूध-भात-मिश्री का भोग लगा कर पूजन करें तो 7 रविवार के बीच में ही नौकरी लगने की संभावना होती है। लेकिन पूरे मन चित्त से पूजन करना अनिवार्य है। यहां प्रस्तुत है पवित्र सूर्याष्टक का पाठ। इसका प्रति रविवार वाचन किया जाए तो फल मिलने की संभावना कई गुना बढ़ जाती है। पुराणों में यह पाठ तुरंत फल के लिए वर्णित है।

‘अथ श्री सूर्याष्टकम्’
श्री साम्ब उवाच:-
आदि देव नमस्तुभ्यं प्रसीद मम भास्कर:।
दिवाकर नमस्तुभ्यं प्रभाकर नमोऽस्तुते ।1।
सप्ताश्वरथ मारुढ़ं प्रचण्डं कश्यपात्पजम्।
श्वेत पद्मधरं तं देवं तं सूर्यं प्रणमाम्यहम् ।2।
लोहितं रथमारुढं सर्वलोक पितामहम्।
महापाप हरं देवं तं सूर्य प्रणमाम्यहम् ।3।
त्रैगुण्यं च महाशूरं ब्रह्मा विष्णु महेश्वरं।
महापापं हरं देवं तं सूर्य प्रणमाम्यहम् ।4।
वृहितं तेज: पुञ्जच वायुराकाश मेव च।
प्रभुसर्वलोकानां तं सूर्य प्रणमाम्यहम् ।5।
बन्धूक पुष्प संकाशं हार कुंडल भूषितम्।
एक चक्र धरं देवं तं सूर्यं प्रणमाम्यहम् ।6।
तं सूर्य जगत् कर्तारं महातेज: प्रदीपनम्।
महापाप हरं देवं तं सूर्य प्रणमाम्यहम् ।7।
तं सूर्य जगतां नाथं ज्ञान विज्ञान मोक्षदम्।
महापापं हरं देवं तं सूर्यं प्रणमाम्यहम् ।8।
सूर्याष्टकं पठेन्नित्यं गृहपीड़ा प्रणाशनम।
अपुत्रो लभते पुत्रं दरिद्रो धनवान भवेत ।9।
अभिषं मधु पानं च य: करोत्तिवे‍दिने।
सप्तजन्म भवेद्रोगी जन्म-जन्म दरिद्रता ।10।
स्त्री तेल मधुमां-सा नित्य स्त्यजेन्तु रवेद्रिने।
न व्या‍धि: शोक दारिद्रयं सूर्यलोकं सगच्छति ।11।
‘इति श्री शिव प्रोक्तं सूर्याष्टकं’

ALSO READ:
अत्यंत प्रभावशाली और शुभ है यह सूर्य कवच

ALSO READ:
सूर्य उपासना से मिलती है कई रोगों से मुक्ति

ALSO READ:
क्या आप जानते हैं नमस्कार और सूर्य नमस्कार का महत्व

ALSO READ:सूर्यदेव को प्रसन्न करने के यह है 5 पौराणिक नियम

यह भी पढ़े:  बजरंगबली को प्रसन्न करने के लिए पढ़ें हनुमान चालीसा