दिल किसी से Dil Kisi Se Lyrics in Hindi – Arjun Kanungo

Dil Kisi Se Lyrics in Hindi

Dil Kisi Se Lyrics in Hindi sung and music composed by Arjun Kanungo and this song is written by Kunaal Vermaa. Starring Arjun Kanungo and Nikki Tamboli.

Dil Kisi Se Song Details

Song Title Dil Kisi Se
Singer Arjun Kanungo
Lyrics Kunaal Vermaa
Music Arjun Kanungo
Music Label Saregama

Dil Kisi Se Lyrics in Hindi


क्या गुजरी है दिल पे मेरे
तुझे क्या पता
तुझे चाहने की हमको
मिली यूं सजा

फिर जुड ना पायेगा
दिल अब ये मेरा
इतने टुकड़ों में टूटा

ना मिले तू ऐसी
कोई भी जगह है ही नहीं
दिल किसी से क्या लगाये
दूसरा है ही नहीं

चांद लेके चल रही हैं
हम सजय तो कहां
जब नसीबों में हमारे
आसमान है ही नहीं

दिल किसी से क्या लगाये
अब तो दिल है ही नहीं

तुझे ढूंढती है सारी
शामें आज भी हमारी
फिर भी तेरी इंतजार
खतम ना हुई

राहें देखता रहा मैं
याही सोचा रहा मैं
होगी आरज़ू ये पूरी
कभी ना कभी

ऐसा नहीं है
के कोई मिला नहीं
जिसमे तू ना हो
ऐसा एक भी था नहीं

क्या ऐसा माँगा था
जो पा ही ना सका
दिल से तुझको चाहा था

जिसको तू ले गया
वो दिल था मेरा
अब किसे मैं चाहुंगा

ना मिले तू ऐसी कोई भी
जगह है ही नहीं
दिल किसी से क्या लगाये
दूसरा है ही नहीं

मेरी आँखों में तुम्हारा ही
तसब्बूर रह गया
जिसमे आऊं मैं नज़र
वो आया है ही नहीं

दिल किसी से क्या लगाये
दूसरा है ही नहीं
दिल किसी से क्या लगाये
अब तो दिल है ही नहीं

यह भी पढ़े:  चेन्नई एक्सप्रेस Chennai Express Title Song Lyrics in Hindi

More Songs by Arjun Kanungo:
तुम ना हो Tum Na Ho
तू ना मेरा Tu Na Mera
दिल खो के Dil Kho Ke

Music Video of Dil Kisi Se:

Dil Kisi Se Lyrics (English)

Kya guzri hai dil pe mere
Tujhe kya pata
Tujhe chahne ki humko
Mili yoon saja

Phir jud na payega
Dil ab yeh mera
Itne tukdon mein toota

Na mile tu aisi
Koyi bhi jagah hai hi nahi
Dil kisi se kya lagaye
Dusra hai hi nahi

Chand leke chal rahein hain
Hum sajaye toh kahan
Jab naseebon mein humare
Aasmaan hai hi nahi

Dil kisi se kya lagaye
Ab toh dil hai hi nahi

Tujhe dhoondti hai saari
Shamein aaj bhi humari
Phir bhi teri intezari
Khatam na hui

Raahein dekhta raha main
Yahi sochta raha main
Hogi aarzoo yeh poori
Kabhi na kabhi

Aisa nahi hai
Ke koyi mila nahi
Jisme tu na ho
Aisa ik bhi tha nahi

Kya aisa manga tha
Jo paa hi na saka
Dil se tujhko chaha tha

Jisko tu le gaya
Woh dil tha mera
Ab kise main chahunga

Na mile tu aisi koyi bhi
Jagah hai hi nahi
Dil kisi se kya lagaye
Dusra hai hi nahi

Meri aankhon mein tumhara hi
Tasabbur reh gaya
Jisme aayun main nazar
Woh aayina hai hi nahi

Dil kisi se kya lagaye
Dusra hai hi nahi
Dil kisi se kya lagaye
Ab toh dil hai hi nahi