दुनिया का सबसे बड़ा किला- रानीकोट फोर्ट – Largest Fort in the World

Largest Fort in the World

क्या आप जानते हैं कि दुनिया का सबसे बड़ा किला हमारे पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान में  स्थित हैं- जी हां रानीकोट फोर्ट जो कि दुनिया का सबसे बड़ा किला माना जाता है वो पाकिस्तान के सिंध प्रांत के जमशोरों में किर्थर रेज के लक्की पहाड़ पर स्थित है। इस किले को ‘’सिंध की दीवार’’ भी कहा जाता है।

इसे साल 1993 में पाकिस्तान के नेशनल कमीशन फॉर यूनेस्को द्धारा विश्व धरोहर स्थळ का दर्जा देने के लिए चिन्हित किया गया था। तो आइए जानते हैं, दुनिया के इस सबसे बड़े किला रानीकोट के बारे में –

दुनिया का सबसे बड़ा किला- रानीकोट फोर्ट – Largest Fort in the World

Largest Fort in the World

रानीकोट फोर्ट का निर्माण एवं बनावट – Ranikot Fort History

दुनिया का यह सबसे बड़ा ऐतिहासिक किला करीब 32 किलोमीटर के दायरे में फैला हुआ है। इस किले की तुलना चीन की दीवार से की जाती है, जिसकी लंबाई करीब 6400 किलोमीटर है।

यूनेस्को की वर्ल्ड हेरिटेज साइट्स की लिस्ट में शामिल इस किले के निर्माण को लेकर इतिहासकारों के अलग-अलग मत हैं, कुछ इतिहासकार इसका निर्माण 20वीं सदी की शुरुआत में मानते हैं, तो कुछ लोग इस किले का निर्माण  8वीं-9वीं सदी में मानते हैं।

कुछ इतिहासकारों की माने तो इस किले का निर्माण सिंध के गर्वनर के पद पर अपनी सेवाएं दे चुके पर्सियन नोबल इमरान बिन मूसाबर्मकी ने किया था, हालांकि इस किले के निर्माण को लेकर कोई भी ठोस प्रमाण मौजूद नहीं है।

ऐसा मानना है कि इस किले का वर्तमान ढांचा मीर अली खान तालपुर और उनके भाई मीर मुरादत अली ने साल 1812 में बनवाया था, जो कि तालपुर राजवंश से तालुक्क रखते थे।

आपको बता दें कि तालपुर राजवंश ने 1783 से 1843 तक सिंध और वर्तमान पाकिस्तान के कई हिस्सों पर राज किया था और यह बलूच जनजाति के राजवंश माने जाते थे।

वहीं अगर इस किले की बनावट की बात करें तो यह बेहद आर्कषक, अद्भुत एवं भव्य है, जो कि कई पहाड़ों और किर्थर की पहाडियों को जोड़ता है। इस किले की उत्तरी हिस्से में एक बेहद विशाल एवं प्राकृतिक पहाड़ी है, जबकि अन्य तीन तरफ से इसे दीवारों द्धारा कवर किया गया है,

इसके अंदर 4 प्रमुख गेट है, जिन्हें सैन गेट, मोहन गेट, अमरी गेट, और शाह-पेरी गेट के नाम से जाना जाता है।

यही नहीं इस विशाल किले के अंदर एक छोटा सा किला “मिरी किला” भी स्थित है, जो कि सैन गेट से करीब 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

इसके अलावा रानीकोर्ट के किले की दीवारों में बेहद आर्कषक प्राचीन वास्तुकला की नक्काशी की गई है जो कि देखते ही बनती है।

यह भी पढ़े:  “गुफा के महान देवता” यानी कंदारिया महादेव मंदिर - Kandariya Mahadeva Temple
close