भौतिक विज्ञानी स्टीफन हॉकिंग | Stephen Hawking Biography in Hindi

Stephen Hawking in Hindi

स्टीफन विलियम हॉकिंग एक विश्व प्रसिद्ध भौतिक विज्ञानी, ब्रह्माण्ड विज्ञानी, लेखक और कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में सैधांतिक ब्रह्माण्ड विज्ञान केंद्र (Centre For Theoretical Cosmology) के शोध निर्देशक है।
स्टीफन हॉकिंग ने ब्लैक होल और बिग थ्योरी की समझाने में अहम योगदान दिया है। उनके विकिरण (रेडिएशन) को हम हॉकिंग रेडिएशन भी कहते है।

विश्व प्रसिद्ध भौतिक विज्ञानी स्टीफन हॉकिंग – Stephen Hawking Biography In Hindi

Stephen Hawking Biography In Hindi

स्टीफन हॉकिंग के बारेमें – Stephen Hawking Information in Hindi

पूरा नाम (Name) स्टीफन विलियम हॉकिंग (Stephen Hawking)
जन्म (Birthday) 8 जनवरी 1942
जन्मस्थान (Birthplace) ऑक्सफ़ोर्ड, इंग्लैंड
माता (Mother Name) इसोबेल
पिता (Father Name) फ्रैंक
मृत्यु (Death) 14 मार्च 2018

स्टीफन हॉकिंग के जीवन की कहानी – Stephen Hawking Story in Hindi

स्टीफन हॉकिंग ऐसे पहले व्यक्ति थी जिन्होंने ब्रह्माण्ड को समझने की थ्योरी विकसित की थी। वैश्विक स्तर पर उन्होंने बहुत से अभियानों में अपना सहयोग भी दिया है।
स्टीफन हॉकिंग का जन्म 8 जनवरी 1942 को इंग्लैंड के ऑक्सफ़ोर्ड में हुआ था। उनके पिता का नाम फ्रैंक और माता का नाम इसोबेल था, उनकी माता स्कॉटिश थी।
शुरू से ही स्टीफन हॉकिंग किसी बीमारी से गरसिं से जिसे मोटर न्यूरॉन भी कहा जाता है। कई सालो से उन्हें ये बीमारी जकड़ी हुई थी।
इस बीमारी के चलते उन्हें बोलने में भी काफी परेशानी होती थी। इसी वजह से वे स्पीच जनरेटिंग डिवाइस का उपयोग करते थे। स्टीफन हॉकिंग ने अपने जीवन में दो बार शादी की और उनके तीन बच्चे है।
स्टीफन हॉकिंग / Stephen Hawking रॉयल सोसाइटी ऑफ़ आर्ट्स के वे सम्माननीय सभासद है, एक साथ ही धर्माध्यक्षीय विज्ञान अकादमी के जीवनपर्यंत सदस्य है। इसके साथ ही उन्हें राष्ट्रपति का मैडल ऑफ़ फ्रीडम भी दिया गया था, जो यूनाइटेड स्टेट का सर्वोच्च पुरस्कार है।
1979 से 2009 तक वे कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में गणित के प्रोफेसर थे और अपनी थ्योरी के चलते जल्द ही उन्हें कमर्शियल सफलता भी मिली। उनके द्वारा लिखित किताब ए ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ़ टाइम उस समय की सबसे ज्यादा समय तक बिकने वाली किताब बनी, उस समय वह किताब लगभग रिकॉर्ड 237 हफ्तों तक चली।

“मै अभी और जीना चाहता हु।”

ये कथन किसी और के नहीं बल्कि विश्व के महान वैज्ञानिको में से एक स्टीफन हॉकिंग के है। जो उन्होंने अपने पिछले जन्मदिन पर कहे थे, जिसे सुन दुनिया एक पल के लिये अचंभित सी रह गयी थी। आज उन्हें भौतिकी के छोटे-बड़े कुल 12 पुरस्कारों से नवाजा जा चूका है।

स्टीफन हॉकिंग की मृत्यु – Stephen Hawking Death

14 मार्च 2018 को यह महान वैज्ञानिक इस दुनिया को छोड़ कर चले गए।
जरुर पढ़े:- स्टीफन हॉकिंग के सुविचार
Note: आपके पास About Stephen Hawking in Hindi मैं और Information हैं। या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिखे हम इस अपडेट करते रहेंगे।
अगर आपको Life History of Stephen Hawking in Hindi language अच्छी लगे तो जरुर हमें Whatsapp और Facebook पर share कीजिये। E-MAIL Subscription करे और पायें Essay with short Information about Stephen Hawking Biography in Hindi And All Details Inventions For Kids and more new article… आपके ईमेल पर।

यह भी पढ़े:  प्रेरणादायक स्त्री ओपरा विनफ्रे | Oprah Winfrey Biography
close