मां नर्मदाजी की आरती

 

WD

 

ॐ जय जगदानन्दी, मैया जय आनंद कन्दी।

ब्रह्मा हरिहर शंकर, रेवा शिव हर‍ि शंकर

रुद्रौ पालन्ती।

ॐ जय जगदानन्दी (1)

 

देवी नारद सारद तुम वरदायक, अभिनव पदण्डी।

सुर नर मुनि जन सेवत, सुर नर मुनि…

शारद पदवाचन्ती।

ॐ जय जगदानन्दी (2)

 

देवी धूमक वाहन राजत, वीणा वाद्यन्ती।

झुमकत-झुमकत-झुमकत,

झननन झमकत रमती राजन्ती।

ॐ जय जगदानन्दी (3)

 

देवी बाजत ताल मृदंगा,

सुर मण्डल रमती।

तोड़ीतान-तोड़ीतान-तोड़ीतान,

तुरड़ड़ रमती सुरवन्ती।

ॐ जय जगदानन्दी (4)

 

यह भी पढ़े:  भगवान शिव की पौराणिक आरती : जय गिरिजाधीशा