माता रानी माँ वैष्णो देवी मंदिर का इतिहास | Vaishno Devi Temple History

वैष्णो देवी को माता रानी, त्रिकुटा और वैष्णवी के नाम से भी जाना जाता है। वैष्णो देवी को हिन्दू धर्म में देवी माँ महालक्ष्मी का ही रूप माना जाता है। भारत में “माँ” या “माता” शब्द का उपयोग “जन्म देने वाली माँ” क लिए किया जाता है और अक्सर इसका उपयोग वैष्णो देवी के नाम से पहले भी किया जाता है। वैष्णो देवी का मंदिर – Vaishno Devi Temple हिन्दू देवियों को समर्पित एक मंदिर है, जो जम्मू और कश्मीर राज्य के त्रिकुटा पर्वत श्रुंखला के कतरा में स्थित है।

माता रानी माँ वैष्णो देवी मंदिर का इतिहास – Vaishno Devi Temple History

वैष्णो देवी का मंदिर कतरा से 13.5 किलोमीटर की दुरी पर बना हुआ है और कतरा से मंदिर जाने के लिए परिवहन की सुविधा भी की गयी है।

श्रद्धालु पालखी और इलेक्ट्रिक गाड़ी के जरिये मंदिर जा सकते है, जिसमे 2 से 4 लोग आसानी से बैठ सकते है। कतरा से संजीछत तक हेलीकाप्टर की सुविधा भी उपलब्ध करायी जाती है, जो कतरा से 9.5 किलोमीटर दूर है।

श्री माता वैष्णो देवी जी को जाने वाले तीर्थ यात्रा सबसे पवित्र और प्रसिद्ध तीर्थ यात्रा हैं, जिसमे लाखो तीर्थ यात्री पैदल यात्रा करते हैं । वैष्णो देवी माता का मंदिर दुनियाभर में मूह मांगी मुरादे पूरी करने वाली माता के नाम से प्रसिद्ध है।

यह मंदिर त्रिकुटा की पहाडियों की गुफा में बना हुआ है। लाखो लोग इस पवित्र गुफा के दर्शन के लिए हर साल आते है। इतना ही नहीं बल्कि हर साल यहाँ आने वाले तीर्थ यात्रियों की संख्या तो अब 1 करोड़ से भी उपर जा चुकी है।

श्रद्धालुओ का माँ वैष्णो देवी पर अटूट विश्वास होने की वजह से यह मंदिर केवल भारत ही नही बल्कि विदेशो में भी प्रसिद्ध है।

माता की पवित्र गुफा सतह से 5200 फीट की ऊंचाई पर बनी है। यात्रियों को कतरा के बेस कैंप से 13 किलोमीटर की चढ़ाई करनी पड़ती है।

कहा जाता है की तीर्थयात्रा करते समय माँ वैष्णो देवी का आशीर्वाद हमेशा उनके साथ बना रहता है और इसीलिए बूढ़े से बूढ़े यात्री भी इस चढ़ाई को आसानी से पार कर जाते है। माँ वैष्णो देवी के दर्शन तीन प्राकृतिक पत्थरों के रूप में किये जाते है। गुफा के अंदर माँ वैष्णो देवी की कोई स्थापित प्रतिमा नही है।

माँ वैष्णो देवी के दर्शन साल भर श्रद्धालु कर सकते है।

1986 में जब श्री माता वैष्णो देवी मंदिर बोर्ड (सामान्यतः मंदिर बोर्ड के नाम से जाना जाता है) की स्थापना की गयी तभीसे मंदिर और यात्रा के व्यवस्थापन की जिम्मेदारी बोर्ड की है।

बोर्ड ने तबसे लेकर आज तक यात्रियों की सुविधाओ के लिए काफी काम किया और जगह-जगह यात्रियों के रुकने एवं आराम करने के लिए अब छोटे-छोटे कैंप भी लगाए गये है। बोर्ड लगातार यात्रियों की सुविधाओ को विकसित करने में लगा हुआ है और हर साल करोडो यात्रियों को वे जितनी सुविधा हो सके उतनी सुविधाए प्रदान करते है।

और अधिक लेख:

  1. कामाख्या मंदिर का रोचक इतिहास
  2. खजुराहो मंदिर का रोचक इतिहास
  3. चूहों के अनोखे मंदिर का रोचक इतिहास
  4. Amarnath temple history
  5. Kashi Vishwanath Temple

I hope these “Vaishno Devi Temple” will like you. If you like these “Vaishno Devi Temple” then please like our facebook page & share on whatsapp. and for latest update download : Gyani Pandit free android App

यह भी पढ़े:  पल्लिपुरम् किले का इतिहास | Pallipuram Fort History
close