राजस्थान के भरतपुर में बना अदभुत लक्ष्मण मंदिर – Laxman Mandir

Laxman Mandir Bharatpur

रामायण के नायक श्री राम की महिमा तो सभी जानते है इसीलिए उनके हर जगह पर, हर गाव हर शहर में उनके मंदिर देखने को मिलते है। प्रभु श्री राम का जीवन सभी के लिए एक आदर्श है। उनके त्याग और बलिदान की कोई तुलना नहीं कर सकता।

लेकिन सभी लोग एक बात भूल जाते है की जब प्रभु श्री राम 14 साल तक वनवास में रहे तो उनका साथ उनके छोटे भाई लक्ष्मण ने दिया था। लक्ष्मणजी ने जो किया था वह कोई भी नहीं कर सकता। उन्होंने वनवास के पुरे 14 साल तक कुछ भी नहीं खाया था। केवल इतना ही नहीं अपने बड़े भाई की रक्षा करने के लिए वे 14 साल में कभी भी सोये भी नहीं थे। इनका इतना बड़ा बलिदान बहुत ही कम लोगो को मालूम है।

इसीलिए लक्ष्मणजी के मंदिर बनाने पर कभी लोगो ने ज्यादा सोचा ही नहीं। लेकिन राजस्थान में एक ऐसी जगह है जहापर लोग काफी जागरूक है और इसीलिए वहा के लोगो ने लक्ष्मण जी का एक मंदिर बनाया है। राजस्थान के भरतपुर में लक्ष्मणजी का यह मंदिर – Laxman Mandir स्थित है। आज हम आपको इसी राजस्थान के मंदिर के बारे में बताने वाले है।

राजस्थान के भरतपुर में बना अदभुत लक्ष्मण मंदिर – Laxman Mandir

Laxman Mandir Bharatpur

लक्ष्मण मंदिर का इतिहास – Laxman Mandir History

राजस्थान के भरतपुर में लक्ष्मण मंदिर स्थित है। ऐसा कहा जाता है की इस मंदिर को ऋषि संत दास के कहनेपर भरतपुर के राजा बलदेव सिंह ने मंदिर का निर्माण किया था। इस मंदिर में लक्ष्मणजी और उनकी पत्नी उर्मिला की मूर्ति है। इस मंदिर में जो मुर्तिया बनायीं गयी है सभी अष्टधातु से बनायीं गयी है जिसके कारण सभी का ध्यान इन मूर्तियों की तरफ़ आकर्षित हो जाता है।

यहाँ की सभी मुर्तिया आठ तरह के धातुओ से बनायीं गयी है इसीलिए उन्हें अष्टधातु कहा जाता है। हनुमानजी, शत्रुघ्न, भरत और श्री राम की भी मुर्तिया इस मंदिर में स्थित है। यह मंदिर 300 साल से भी अधिक पुराना है इस मंदिर को संगेमरमर और रेतीले पत्थर से बनाया गया है। युद्ध में जीत हासिल करने के बाद इस मंदिर का निर्माण राजा ने करवाया था और राजा इस मंदिर में नियमित रूप से भगवान की पूजा और प्रार्थना करते थे।

लक्ष्मण मंदिर की वास्तुकला – Laxman Mandir Architecture

इस मंदिर को जिस वास्तुकला में बनाया गया है वह काफी अद्भुत है। इस मंदिर के शुरुवाती हिस्से में बहुत ही खुबसूरत तरीके से सजावट की गयी है। इस मंदिर के जगमोहन हिस्से को काफी सुन्दर तरीके से बनाया गया है जिसमे फुल और पंछियों के चित्र दिखाई देते है। इस मंदिर के जगमोहन का छत भी काफी सुन्दर बनाया गया है।

इस मंदिर को बंसी फडपुर से लाये बादाम रंग के रेतीले पत्थरो से बनाया गया है। पहली मंजिल पर यह मंदिर स्थित है। इस मंदिर को बहुत ही सुन्दर तरीके से बनाया गया है इस मंदिर की दीवारों पर नक्काशी का काम किया गया है।

लक्ष्मण मंदिर का स्थान – Laxman Temple Location

यह मंदिर शहर के मार्किट के बिच में स्थित है। इस मंदिर को राजस्थानी शैली में बनाया गया है। हर साल इस मंदिर में लाखों भक्त दर्शन करने के लिए आते है।

लक्ष्मण मंदिर खुलने का समय – Laxman Mandir Timing

मंदिर में रोज भगवान की आरती की जाती है और आरती के समय बड़ी संख्या में भक्त मौजूद रहते है। यह मंदिर हर रोज सुबह 7 बजे से शाम 7 बजे तक भक्तों के लिए खुला रखा जाता है।

यह मंदिर दूर से ही काफी सुन्दर दीखता है क्यों की इसे बादामी रंग के पत्थरों से बनाया गया है। यह मंदिर भरतपुर में बिलकुल बिच में स्थित होने की वजह से मंदिर में भक्तों की बड़ी भीड़ देखने को मिलती है। इस मंदिर में साल भर सभी तरह के त्यौहार मनाये जाते है।

Read More:

  • History in Hindi
  • Famous Temples in India

Hope you find this post about ”Laxman Mandir” useful. if you like this Article please share on Facebook & Whatsapp. and for latest update download: Gyani Pandit free Android app.

यह भी पढ़े:  जन गण मन भारत का राष्ट्रगान | Jana Gana Mana National Anthem Of India
close