रेडिएंट कैश मैनेजमेंट सर्विसेज ने IPO से फंड जुटाने के लिए फाइल किए डॉक्यूमेंट

कंपनी फंड का इस्तेमाल वर्किंग कैपिटल की जरूरतों और 220 स्पेशियली फैब्रिकेटेड आर्मर्ड वैन खरीदने में करेगी

रेडिएंट कैश मैनेजमेंट सर्विसेज ने IPO से फंड हासिल करने के लिए मार्केट रेगुलेटर SEBI के पास डॉक्यूमेंट जमा किए हैं। IPO में 60 करोड़ रुपये के नए शेयर्स जारी किए जाएंगे और प्रमोटर्स और मौजूदा शेयरहोल्डर्स की ओर से लगभग 3.01 करोड़ शेयर्स का ऑफर फॉर सेल (OFS) होगा।

OFS में कर्नल डेविड देवाश्यम लगभग 1.01 करोड़ शेयर्स और एसेंट कैपिटल एडवाइजर्स 2 करोड़ तक शेयर्स बेचेगी। कंपनी में अभी देवाश्यम की 54.40 प्रतिशत और एसेंट कैपिटल की 37.22 प्रतिशत हिस्सेदारी है।

TCS के नतीजे अनुमान से रहे कमजोर, जानिये इस दिग्गज IT STOCK पर ब्रोकरेजेस का नजरिया

IPO से मिलने वाले फंड में से 20 करोड़ रुपये का इस्तेमाल वर्किंग कैपिटल की जरूरतों के लिए किया जाएगा।

रेडिएंट कैश मैनेजमेंट सर्विसेज प्रति दिन औसत 400 करोड़ रुपये की कैश वॉल्यूम को संभालती है। लंबे वीकेंड पर यह आंकड़ा बढ़कर लगभग 1,000 करोड़ रुपये तक हो जाता है। वर्किंग कैपिटल को बढ़ाने से कंपनी को अधिक कैश वॉल्यूम को संभालने की अपनी क्षमता में वृद्धि करने में मदद मिलेगी।

कंपनी की योजना 220 स्पेशियली फैब्रिकेटेड आर्मर्ड वैन खरीदने की भी है। इस पर लगभग 24 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। कंपनी के पास अभी ऐसी 694 वैन हैं।

IPO के लिए मोतीलाल ओसवाल, IIFL सिक्योरिटीज और यस सिक्योरिटीज लीड मैनेजर्स हैं।

रेडिएंट कैश मैनेजमेंट सर्विसेज रिटेल कैश मैनेजमेंट सेगमेंट में बड़ी कंपनियों में से एक है।

सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।

यह भी पढ़े:  LIC IPO: 31 जनवरी के बाद जारी हो सकता है प्रॉस्पेक्ट्स, 15 लाख करोड़ के वैल्यूएशन पर जोर देगी सरकार
close