शनिदोष से छुटकारा पाना है तो शनि जयंती पर अवश्य करें पवित्र शनि स्तोत्र का पाठ

पवित्र शनि स्तोत्र
नमस्ते कोणसंस्थाय पिंगलाय नमोस्तुते।
नमस्ते वभ्रूरूपाय कृष्णाय च नमोस्तु ते॥

नमस्ते रौद्रदेहाय नमस्ते चान्तकाय च।
नमस्ते यमसंज्ञाय नमस्ते सौरये विभो॥
नमस्ते यंमदसंज्ञाय शनैश्वर नमोस्तुते।
प्रसादं कुरु देवेश दीनस्य प्रणतस्य च॥
जाने-अनजाने में हुए पाप-कर्म एवं अपराधों के लिए शनिदेव से क्षमा याचना करें।

यह भी पढ़े:  मां सरस्वती प्रार्थना (हिन्दी अनुवाद सहित)