श्रीराम जनरल इंश्योरेंस ने ग्रामीण बीमा कारोबार पर फोकस करने के लिए लॉन्च की नई यूनिट

श्रीराम ग्रुप ग्रामीण बीमा पर काम करने के लिए 1500 कर्मचारियों की करेगा भर्ती

श्रीराम ग्रुप (Shriram Group) की नॉन लाइफ प्राइवेट इंश्योरेंस यूनिट श्रीराम जनरल इंश्योरेंस (Shriram General Insurance) ने ग्रामीण बीमा पर फोकस करने के लिए एक अलग वर्टिकल शुरू किया है। इसमें कंपनी 1,500 कर्मचारियों की भर्ती करेगी और इंश्योरेंस प्रोडक्ट वित्त वर्ष 25 तक ग्रामीण विस्तार के लिए तीन साल की योजना के रूप में 25,000 पॉइंट-ऑफ-सेल (पीओएस) के जरिये उपलब्ध होंगे।

अगले साल, श्रीराम जनरल इंश्योरेंस की योजना 600 तहसीलों में फोकस करने की है जहां बीमा की पहुंच कम है। इसके लिए 20,000 से 1 लाख के बीच की आबादी वाले क्षेत्रों में जाया जाएगा। ऐसे क्षेत्रों में लोगों की औसत आय आमतौर पर ₹20,000 से ₹25,000 तक होती है लिहाजा कई मामलों में सम एश्योर्ड तुलनात्मक रूप से छोटा होगा।

एक प्रेस रिलीज के अनुसार, बीमाकर्ता सरल प्रोडक्ट्स पेश करेगा जो ग्रामीण आबादी के लिए महत्वपूर्ण हो सकते हैं। ग्राहकों का आधार और जनसंख्या के अनुसार श्रीराम जनरल इंश्योरेंस ने होमकेयर और व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा कवर (personal accident insurance covers) बनाये हैं। इसके अलावा कंपनी लंबी अवधि के टू-व्हीलर इंश्योरेंस, माल ढोने वाले वाणिज्यिक वाहन बीमा और छोटे व्यवसायों, संपत्तियों और दुकानों के लिए पॉलिसी पेश करेगा।

साल के आखिरी दिन बाजार में तेजी का जश्न, जानें Catalyst Wealth के प्रशांत सावंत की बाजार पर राय और ट्रेडिंग आइडियाज

श्रीराम जनरल इंश्योरेंस के एमडी और सीईओ, अनिल कुमार अग्रवाल (Anil Kumar Agarwal, MD & CEO, Shriram General Insurance) ने लॉन्च के मौके पर कहा, “भारत के किसान और उनका कृषि व्यवसाय देश की तरक्की में एक अभिन्न भूमिका निभाते हैं। ग्रामीण बीमा यह सुनिश्चित करेगा कि ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले परिवारों का भविष्य महफूज और अनिश्चितता से सुरक्षित रहे। श्रीराम ग्रुप ने हमेशा अपने सभी व्यापारिक प्रयासों के केंद्र में आम आदमी को रखा है। हमने यह सुनिश्चित किया है कि हमारी ग्रामीण बीमा योजनाओं को समझना आसान हो, ये वाजिब हो, आर्थिक नुकसान की भरपाई हो और ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को आत्मनिर्भर होने में मदद मिले। हमें उम्मीद है कि वित्त वर्ष 25 तक ग्रामीण बीमा कंपनी की सेल्स इंकम का एक चौथाई या कुल प्रीमियम आय में 16% का योगदान देगा।”

 

यह भी पढ़े:  Cryptocurrency prices: बिटकॉइन गिरा, Solana और Dogecoin चढ़े
close