श्री सरस्वती चालीसा

 

WD

 

दोहा 

जनक जननि पद्मरज, निज मस्तक पर धरि।

बन्दौं मातु सरस्वती, बुद्धि बल दे दातारि॥

पूर्ण जगत में व्याप्त तव, महिमा अमित अनंतु।

दुष्टजनों के पाप को, मातु तु ही अब हन्तु॥

 

 

यह भी पढ़े:  प्रभावशाली है शिव चालीसा, श्रावण में 40 बार पढ़ने से पूर्ण होगी हर कामना, पढ़ें आसान विधि एवं फायदे