सचिन बंसल की Navi 6.4% ब्याज पर दे रही होम लोन, जानिए क्या करना होगा आपको?

The entire home loan application process is digital and the company claims quicker processing than banks

एक आरबीआई रजिस्टर्ड एनबीएफसी Navi Finserv (Navi), NAVI ऐप के जरिए पात्रता प्राप्त बारोवर्स को तत्काल होम लोन मंजूरी की सुविधा दे रही है। इस होम लोन की प्रक्रिया पूरी तरह डिजिटल है और कंपनी का दावा है कि उसके लोन अप्रुवल की प्रक्रिया परंपरागत बैंकों की तुलना में ज्यादा तेज है। इसकी ब्याज दर भी काफी प्रतिस्पर्धी है। Navi से आप 6.46 फीसदी ब्याज दर पर होम लोन पा सकते हैं।

अब आइए देखते है कि क्या आपको नए जमाने के फिनटेक कंपनियों से इस तरह के लोन लेने चाहिए या फिर परंपरागत बैंक या हाउसिंग फाइनेंस कंपनियां ही ज्यादा बेहतर विकल्प हैं? सबसे पहले आइए डालते हैं Navi के ऑफर पर एक नजर।

Navi इस ऑफर के तहत 20 लाख रुपये से 5 करोड़ रुपये तक का होम लोन दे रही है जिसकी अवधि 25 साल है। कंपनी बेंगलुरु, मैसूर, हुबली, दावणगेरे, गुलबर्गा, चेन्नई, दिल्ली, गुरुग्राम और हैदराबाद जैसे शहरों में इस तरह की सुविधा दे रही है। जल्द ही मुंबई और पुणे में भी यह सेवा शुरु करने की तैयारी है। इस होम लोन की ब्याज दर 6.46 फीसदी प्रति वर्ष से शुरु होती है। यह ब्याज दर उन ग्राहकों के लिए है जिनकी आय स्थिर है, क्रेडिट स्कोर अच्छा है और जिनका लोन री-पेमेंट ट्रैक रिकॉर्ड अच्छा रहा है।

कस्टमर लोन की लगभग सारी प्रक्रिया बगैर ब्रांच गए सीधे NAVI ऐप पर पूरी कर सकते हैं। कंपनी इस तरह के लोन पर कोई प्रोसेसिंग फीस भी नहीं लेती। इसके अलावा इस तरह के लोन पर कोई अतिरिक्त एडमिनिस्ट्रेटिव फीस, सेंट्रल रजिस्ट्री फाइलिंग चार्ज और सर्च रिपोर्ट जांच जैसे अतिरिक्त शुल्क भी नहीं लगाए जाते।

Emcure और Adani Wilmar सहित 38 IPO को मिली मंजूरी, एक्सपर्ट्स से जानिए आगे क्या हो प्राइमरी मार्केट में आपकी रणनीति

बता दें कि Navi Technologies एक नए युग की फिनटेक कंपनी है जिसकी शुरुआत 2018 में Flipkart के को -फाउंडर सचिन बंसल और उनके कॉलेज फ्रैंड अंकित अग्रवाल ने की।

कैसे कर सकते हैं अप्लाई

Navi से इस तरह के लोन के लिए आपको अपने फोन पर Navi ऐप डाउनलोड करना होगा और इस ऐप पर अपना अकाउंट बनाना होगा। अकाउंट पर जाने पर आपको जो भी निर्देश मिले उसके हिसाब से पेैन कार्ड, डेथ ऑफ बर्थ जैसे जानकारियां डालनी होगी। आपका अकाउंट बन जानें के बाद आप इस ऐप के जरिए होम लोन का एप्लीकेशन डाल सकेंगे। इस ऐप पर आपके बैंक अकाउंट से ऑटो डेबिट की सुविधा भी होगी।

जानकारों का कहना है कि Navi के होम लोन की ब्याज दर लीडिंग बैंकों और हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों की तुलना में काफी प्रतिस्पर्धी है। इस पर ग्राहकों को फिक्सड रेट और वेरिएबल रेट में चुनाव की भी सुविधा है। इसमें किसी ग्राहक के क्रेडिट स्कोर के आधार पर उसके होम लोन की मात्रा तय होती है। इसके अलावा Navi कस्टमर के प्रोफाइल और कंपनी के इंटरनल प्राइसिंग फ्रेमवर्क के आधार पर ब्याज दर तय करती है।

कंपनी अपने ऐप के जरिए बिना किसी मध्यस्ता के सीधे ग्राहक तक पहुंचती है जिससे उसके लागत में कमी आती है और लागत में हुई बचत का फायदा कंपनी ग्राहकों को ब्याज दर कम करके देती है। इसके अलावा इस पर किसी तरह को कोई प्री-पेमेंट चार्ज भी नहीं लगता।

MyMoneyMantra.com. के राज खोसला का कहना है कि अपने लेंडर का चुनाव करने के पहले आपको बाजार में मिल रहे होम लोन की तुलना सिर्फ सस्ते होने के आधार पर नहीं करना चाहिए बल्कि यह तुलना करते समय सर्विस क्वालिटी और लोन पर लागू होने वाले शुल्कों को भी ध्यान में रखना चाहिए। उन्होंने आगे कहा कि क्योंकि Navi Finserv आरबीआई रजिस्टर्ड एनबीएफसी है इसलिए कंपनी का ऑफर रेगुलेटर और एनबीएफसी लोकपाल के दायरे में आता है। इसलिए Navi ऐप के जरिए होम लोन अप्लाई करना सुरक्षित है।

इस बात का ध्यान रखें कि Navi के नियमों और शर्तों के मुताबिक बारोवर्स को अपने मोबाइल डिवाइस से तब तक Navi ऐप अनइनस्टॉल करने की मंजूरी नहीं होगी जब तक वह लोन का भुगतान ना कर दें। अगर असावधानी या दुर्घटनावश भी इस नियम का उल्लंघन होता है तो उसे फ्रॉड माना जाएगा और Navi को बोरोवर्स के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने का अधिकार होगा।

जानकारों का कहना है कि डिजिटल लेंडर से कर्ज लेना सुविधाजनक होता है लेकिन इसके तहत बोरोवर्स और लेंडर का संबंध पूरी तरह डिजिटल होता है। लेंडर को बोरोवर्स के फोन में स्टोर तमाम सूचनाओं की एक्सेस मिल जाती है । इसके लिए आपको यह समझना होगा कि फिनटेक कंपनियों द्वारा किसी ग्राहक के पर्सनल डेटा और होम लोन के डॉक्युमेंट को किस तरह से सुरक्षित रखा जाता है।

दिसंबर में Navi ने तमाम यूजर्स को पेन डेटा के आधार पर पर्सनल लोन ऑफर भेजे थे उसके बाद उसको मीडिया में काफी आलोचना का सामना करना पड़ा था। इसके साथ ही इस तरह के होम लोन को अप्लाई करने के पहले कस्टमर को डिजिटल लेंडर के मैनेजमेंट के बैक ग्राउंड की जांच कर लेनी चाहिए। अगर होम लोन के लिए डिजिटल लेंडर का चुनाव करते हैं तो लोन की अवधि और लोन की मात्रा जितना कम रखें उतना ही बेहतर होगा। अगर आप पुरानी परंपरा में ही विश्वास रखते हैं तो बैंकों और हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों के पास आपके लिए काफी अच्छी दरों पर होम लोन उपलब्ध हैं।

यह भी पढ़े:  Business Idea: मामूली निवेश के साथ शुरू करें यह बिजनेस, जिंदगी भर होगी घर बैठे मोटी कमाई

Redirecting in 10 seconds

Close
close