सुभाषचंद्र बोस के प्रेरणादायक विचार – Quotes By Subhash Chandra Bose

Quotes by Subhash Chandra Bose in Hindi

भारत के स्वतंत्रता दिलाने में बहुत से महान क्रान्तिकारियो ने अपने प्राणों को त्याग दिया। इन्हीं महान स्वतंत्रता सेनानी वो में से एक थे नेताजी सुभाष चंद्र बोस। भारतीय राष्ट्रिय सेना का निर्माण करने वाले सुभाषचंद्र बोस ने पहले थे। Subhash Chandra Bose के सेना का नाम था “आजाद हिन्द फ़ौज़”।

आज हम सुभाष चंद्र बोस के कुछ सर्वश्रेष्ठ प्रेरणादायक विचार इस लेख में पढेंगे। जिन विचारो के वजह से भारत के लोगो को आज़ादी के लिये संघर्ष करने की प्रेरणा मिली थी।

सुभाषचंद्र बोस के कुछ सर्वश्रेष्ठ प्रेरणादायक विचार – Subhash Chandra Bose Quotes in Hindi

“तुम मुझे खून दो मैं तुम्हे आजादी दूंगा।

आज हमारे अन्दर बस एक ही इच्छा होनी चाहिए, मरने की इच्छा ताकि भारत जी सके! एक शहीद की मौत मरने की इच्छा ताकि स्वतंत्रता का मार्ग शहीदों के खून से प्रशश्त हो सके।

“जीवन में अगर संघर्ष न रहे, किसी भी भय का सामना न करना पड़े, तब जीवन का आधा स्वाद ही समाप्त हो जाता है।”

एक सच्चे सैनिक को सैन्य और आध्यात्मिक दोनों ही प्रशिक्षण की ज़रुरत होती है।

“अपनी ताकत पर भरोसा करो, उधार की ताकत तुम्‍हारे लिए घातक है।”

Subhash Chandra Bose Thought

सुभाष चन्द्र बोस भारत के महान स्वतंत्रता सेनानी थे उन्होंने गुलाम भारत देश को अंग्रेजों के चंगुल से आजादी दिलवाने के लए अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

वे स्वतंत्रता आंदोलन के अग्रणी नेता थे जिनके अंदर देशभक्ति की भावना कूट-कूट कर भरी थी। उन्होंने दूसरे विश्वयुद्द के दौरान जापान की मद्द से आजाद हिन्द फौज की स्थापना की थी।

वे आदर्शों पर चलने वाले एक महान शख्सिसत थे, जिनके अंदर त्याग और आत्मसमर्पण की भावना निहित थी। सुभाषचन्द्र बोस जी ने स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान “तुम मुझे खून दो, मैं आजादी का नारा देकर’’ भारतीय युवाओं को बड़ी संख्या में इस आंदोलन में हिस्सा बनने के लिए प्रेरित किया था।

वहीं उनके द्धारा कहे गए कुछ अनमोल विचार आज भी युवाओं के अंदर देशभक्ति की भावना भरने का काम करते हैं। वहीं आज हम आपको अपने इस आर्टिकल में नेता जी सुभाष चन्द्र बोस के कुछ अनमोल विचारों को सांझा कर रहे हैं, जिन्हें आप अपने सोशल मीडिया अकाउंट्स से अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कर सकते हैं।

“आजादी मिलती नहीं बल्कि इसे छिनना पड़ता है।

भारत में राष्ट्रवाद ने एक ऐसी शक्ति का संचार किया है जो लोगों के अन्दर सदियों से निष्क्रिय पड़ी थी।

“याद रखिये सबसे बड़ा अपराध अन्याय सहना और गलत के साथ समझौता करना है।

इतिहास में कभी भी विचार -विमर्श से कोई ठोस परिवर्तन नहीं हासिल किया गया है।

“संघर्ष ने मुझे मनुष्य बनाया, मुझमे आत्मविश्वास उत्पन्न हुआ, जो पहले नहीं था।”

ये हमारा कर्तव्य है कि हम अपनी स्वतंत्रता का मोल अपने खून से चुकाएं। हमें अपने बलिदान और परिश्रम से जो आज़ादी मिले, हमारे अन्दर उसकी रक्षा करने की ताकत होनी चाहिए।

Subhash Chandra Bose Vichar

भारत के स्वतंत्रता संग्राम के अग्रणी नेता सुभाष चन्द्र बोस जी द्धारा दिया गया “जय हिन्द’’ राष्ट्रीय नारा भारत का राष्ट्रीय नारा बन गया है। देश के लिए नेता जी द्धारा दिए गए योगदान को कभी नहीं भुलाया जा सकता है।

उन्होंने देश को आजादी के लिए अपना पूरा जीवन समर्पित कर दिया और ढेरों कुर्बानियां दी। स्वामी विवेकानंद जी का उन पर गहरा प्रभाव पड़ा था।

23 जनवरी, 1897 को उड़ीसा के कटक शहर में जन्में नेता जी सुभाष चन्द्र बोस का जीवन देश के हर युवा के लिए प्रेरणादायक है। वहीं उनके विचारों में उनकी दूरदर्शिता में देशप्रेम की भावना साफ झलकती है।

सुभाष चन्द्र बोस जी के विचार आज भी लोगों के अंदर जोश भरने वाले साबित होते हैं।

“सफलता, हमेशा असफलता के स्तम्भ पर खड़ी होती हैं।”

राष्ट्रवाद मानव जाति के उच्चतम आदर्शों सत्यम, शिवम्, सुन्दरम से प्रेरित है।

“यदि आपको अस्‍थायी रूप से झुकना पड़े तब भी वीरों की भांति झुकना।”

एक सैनिक के रूप में आपको हमेशा तीन आदर्शों को संजोना और उन पर जीना होगा: सच्चाई, कर्तव्य और बलिदान। जो सिपाही हमेशा अपने देश के प्रति वफादार रहता है, जो हमेशा अपना जीवन बलिदान करने को तैयार रहतें है, वो अजेय है। अगर तुम भी अजेय बनना चाहते हो तो इन तीन आदर्शों को अपने ह्रदय में समाहित कर लो।

Subhash Chandra Bose Slogan

नेता जी सुभाष चन्द्र बोस ने ना चाहते हुए भी परिवार के कहने पर इंडियन सिविल सर्विस ज्वॉइन की थी।

हालांकि, उस समय उन्होंने भारतीयों पर ब्रिटिश शासन द्धारा किए जा रहे अमानवीय अत्याचारों को देखा था, जिसके बाद उन्होंने थोड़े समय बाद अपनी नौकरी से इस्तीफा दे दिया था और फिर देश को आजाद करवाने को लेकर खुद को पूरी तरह स्वतंत्रता संग्राम में झोंक दिया था।

कांग्रेस के नेता के रुप में उन्होंने भारत में साइमन कमीशन के विरोध में भी अपनी महत्वपूर्ण भागीदारी निभाई थी। इसके साथ ही देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू जी के साथ मिलकर पूर्ण स्वराज्य की मांग की थी।

इस तरह नेता जी देश को आजादी दिलवाने के अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए अपने पूरे जीवन भर हर संभव प्रयास करते रहे। वहीं आज नेता जी सुभाषचन्द्र बोस जैसे नेताओं के द्धारा आजादी के लिए किए गए अथक प्रयासों की वजह से ही हम सभी भारतीय आजाद भारत में चैन की सांस ले रहे हैं।

सुभाष चन्द्र बोस जी के अनमोल विचार भी काफी प्रेरणा देने वाले और देशभक्ति की भावना को जगाने वाले हैं।

“मेरे मन में कोई संदेह नहीं है कि हमारे देश की प्रमुख समस्याएं गरीबी, अशिक्षा, बीमारी, कुशल उत्पादन एवं वितरण सिर्फ समाजवादी तरीके से ही की जा सकती है।”

“मुझे ये देखकर बहुत दुःख होता है कि मनुष्य – जीवन पाकर भी उसका अर्थ समझ नहीं पाया है। यदि आप अपनी मंजिल पर ही पंहुच नहीं पाए, तो हमारें इस जीवन का क्या मतलब।”

“मुझे जीवन में एक निश्चित लक्ष्य को पूरा करना है। मेरा जन्म उसी के लिए हुआ है। मुझे नेतिक विचारों की धारा में नहीं बहना है।”

और अधिक लेख:

  1. नेताजी सुभाषचंद्र बोस का भाषण
  2. नेताजी सुभाषचंद्र बोस जीवनी

Note: You have more Quotes By Subhash Chandra Bose in Hindi please write in comments, if we like your quotes we will add to this post. If You Like, Subhash Chandra Bose Quotes in Hindi Then Please Share On Facebook and Whatsapp.

यह भी पढ़े:  स्वास्थ पर सर्वश्रेष्ठ सुंदर उद्धरण | Quotes on Health in Hindi
close