2021 में इन 10 सेक्टरों पर रही Mutual Funds की नजर, क्या आपने भी किया हैं इनमें निवेश?

कोरोनावायरस के बाद की स्थिति में इक्विटी मार्केट के तमाम सेक्टर सुर्खियों में आ गए और लॉन्ग पोजीशन लेने के लिए फंड मैनेजरों के लिए काफी आकर्षक हो गए

इक्विटी फंडों में निवेश करने वालों के लिए 2021 काफी अच्छा रहा है। कोरोना महामारी के बाद की स्थिति में इक्विटी मार्केट के तमाम सेक्टर सुर्खियों में आ गए और लॉन्ग पोजीशन लेने के लिए फंड मैनेजरों के लिए काफी आकर्षक हो गए। यहां हम ऐसे 10 सेक्टरों की सूचि दे रहे हैं जो 2021 में फंड मैनेजरों की शॉपिंग लिस्ट में शामिल हैं और 30, 2021 को समाप्त 12 महीनों में एमएफ के लिए मल्टीबैगर साबित हुए हैं।

IT-Software:बिजनेस के और ज्यादा डिजिटाइज्ड होने के साथ ही कंपनियां टेक्नोलॉजी पर और निवेश कर रही हैं। इसका फायदा सॉफ्टवेयर कंपनियों को मिल रहा है। ऐसे में कई स्कीमों में आईटी और सॉफ्टवेयर वाली कंपनियों के शेयर शामिल होते नजर आए हैं। Aditya Birla SL ESG, Invesco India ESG Equity, Axis Value, HDFC Dividend Yield और IIFL Quant ने पिछले 1 साल में अपनी स्कीमों में इस सेक्टर के शेयरों को जोड़ा है।

PSU Bank: 2021 में Nifty PSU Bank index ने Nifty 50 से बेहतर प्रदर्शन किया है। इस अवधि में तमाम सरकारी बैंक मुनाफे में आए हैं। CNBCTV18 की रिपोर्ट के मुताबिक PSU banks के वित्त वर्ष 2022 के तिमाही नतीजे पिछली 24 तिमाहियों में सबसे बेहतर रहे हैं। Quant Quantamental, Quant Infrastructure, ITI Value, Aditya Birla SL Pure Value और Indiabulls Tax Savings ने इस सेक्टर में अपनी होल्डिंग बढ़ाई है।

Auto ancillary- EV tech कंपनियों के अधिग्रहण और ग्लोबल मार्केट में बढ़ते मौकों को देखते हुए इनके ऑटो कंपोनेंट बिजनेस में आ रहे विस्तार के चलते ऑटो एंसिलिरी कंपनियों के विकास की काफी बड़ी संभावनाएं नजर आ रही हैं। L&T Large and Midcap, SBI Large & Midcap, Sundaram Large and Mid Cap, Sundaram Large and Mid Cap और and SBI Magnum Midcap ने पिछले 1 साल में ऑटो एंसिलिरी कंपनियों में अपनी होल्डिंग बढ़ाई है।

E-commerce- ई कॉर्मस सबसे तेजी से बढ़ते रिटेल मार्केट में है। कोरोना महामारी के काल में नए युग के इंटरनेट आधारित स्टॉक्स ने सुर्खिया बटोरी हैं जिसको देखते हुए ICICI Pru Retirement Fund-Pure Equity, Kotak Tax Saver, SBI Consumption Opp, Franklin India Opportunities और Axis Special Situations ने पिछले 1 साल में ई-कॉर्मस में अपनी होल्डिंग बढ़ाई है।

Hospital & Healthcare- हालांकि पिछले कुछ सालों से दवा बनाने वाली भारतीय कंपनियों का एक्सपोर्ट बिजनेस कमजोर रहा है। फिर भी हॉस्पिटल डायनोस्टिक चैन और इंश्योरेंस ऑफर देने वाली कंपनियां फंड मैनेजरों के लिए नए मौके उपलब्ध करा रही हैं। जिसको देखते हुए Motilal Oswal Long Term Equity, Motilal Oswal Large & Midcap, HSBC Mid Cap, BOI AXA Flexi Cap Fund ने पिछले 1 साल में इस सेक्टर में अपना निवेश बढ़ाया है।

Engineering- Construction- Nippon India ETF Dividend Opportunities, Motilal Oswal Dynamic, Aditya Birla SL Equity Savings, Invesco India Focused 20 Equity और Invesco India Infrastructure Fund ने 2021 में इस सेक्टर में अपनी हिस्सेदारी बढ़ाई है।

आईआरसीटीसी से टाटा मोटर्स तक, पहले मल्टीबैगर रिटर्न और फिर 50% तक टूटे ये 10 शेयर

Automobiles-trucks/LCV- कमर्शियल व्हीकल स्पेस से संबंधित टॉप ईवी स्टॉक ने फंड मैनेजरों का ध्यान आर्कषित किया है। इनका मानना है कि मांग में मजबूती के साथ सेमी कंडक्टर सप्लाई इश्यू में सुधार के बीच आगे ऑटो मोबाइल से जुड़े शेयरों में तेजी आती दिखेगी। जिसको ध्यान में रखते हुए Axis Value, UTI Transportation & Logistics, UTI Focused Equity, Navi Long Term Advantage ने HSBC Focused Equity Fund ने इस सेक्टर में अपना निवेश बढ़ाया है।

Retailing- रिटेल सेक्टर पर भी म्यूचुअल फंड बुलिश नजर आ रहे हैं। IIFL Quant, Invesco India ESG Equity, Axis Long Term Equity, Axis Focused 25 और Axis Special Situations Fund जैसे फंडों ने 2021 में इस सेक्टर पर अपना निवेश बढ़ाया है। इसके अलावा म्यूचुअल फंडों ने 2021 में फाइनेंस, एनबीएफसी, कंस्ट्रक्शन और रियल एस्टेट में भी अपना एक्सपोजर बढ़ाया है।

यह भी पढ़े:  Gold Price Latest: आज फिर महंगा हुआ सोना-चांदी, 49000 रुपये के करीब आया गोल्ड
close