Adani Wilmar का IPO इसी महीने में हो सकता है लॉन्च, साइज घटाकर ₹3,600 करोड़ किया

Adani Wilmar IPO: कंपनी ने अपने IPO साइज को 4,500 करोड़ रुपये से घटाकर 3,600 करोड़ रुपये कर दिया है

Adani Wilmar IPO: एडिबल ऑयल की प्रमुख कंपनी अडानी विल्मर लिमिटेड (Adani Wilmar Ltd) ने अपने इनीशियल पब्लिक (IPO) ऑफर के साइज को 4,500 करोड़ रुपये से घटाकर 3,600 करोड़ रुपये कर दिया है। इस मामले से वाकिफ दो सूत्रों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। अडानी विल्मर अपने कुकिंग ऑयल को ‘फार्च्यून’ ब्रांड नेम से बेचती है।

सूत्रों ने बताया कि Adani Wilmar Ltd (AWL) इसी महीने यानी जनवरी महीने के अंत तक अपना आईपीओ लाने पर विचार कर रही है। अडानी विल्मर लिमिटेड एक ज्वाइंट वेंचर कंपनी है, जिसमें अहमबाद मुख्यालय वाले अडानी ग्रुप और सिंगापुर की विल्मर ग्रुप की 50:50 हिस्सेदारी है।

आईपीओ के लिए दाखिल ड्राफ्ट पेपर के मुताबिक, अडानी विल्मर ने पहले 4,500 करोड़ रुपये का आईपीओ लाने की योजना बनाई थी। हालांकि अब कंपनी आईपीओ का साइज घटाकर 3,600 करोड़ रुपये कर दिया है। कंपनी ने केवल सामान्य कॉर्पोरेट उद्देश्यों पर होने वाले खर्च के हिस्से को घटाया है और आईपीओ के मुख्य उद्देश्यों को कम नहीं किया है।

आईपीओ के तहत पूरे 3,600 करोड़ रुपये के फ्रेश इश्यू जारी किए जाएंगे और इसमें कोई ऑफ-फॉर-सेल नहीं होगा।

Rakesh Jhunjhunwala जैसा बनाना चाहते हैं अपना पोर्टफोलियो? बस निवेश के इस आसान सूत्र का करें इस्तेमाल

आईपीओ से मिलने वाली रकम में से 1,900 करोड़ रुपये कैपिटल एक्सपेंडिचर के लिए इस्तेमाल किए जाएंगे, 1100 करोड़ रुपये कर्ज चुकाने के लिए और 500 करोड़ रुपये स्ट्रैटजिक एक्विजिशन और निवेश में खर्च किए जाएंगे।

बता दें आईपीओ के साइज में कटौती के कदम को निवेशक एक अच्छा कदम मानते हैं क्योंकि इश्यू साइज कम रहने से कंपनी को ‘रिटर्न ऑन कैपिटल एंप्लॉयड (ROCE)’ और ‘रिटर्न ऑन इक्विटी (ROE)’ का बेहतर बनाने में मदद मिलती है।

यह भी पढ़े:  EPFO Portal Down: यूजर्स नहीं कर पा रहे ई-नॉमिनेशन, पोर्टल में आ रही है दिक्कत- कर रहे हैं डेडलाइन बढ़ाने की मांग
close