Aditya Birla AMC IPO: कितना चल रहा ग्रे मार्केट प्रीमियम, अलॉटमेंट से पहले क्या मिल रहा संकेत?

2,769 करोड़ रुपये का यह पब्लिक इश्यू अपने आखिरी दिन 5.25 गुना सब्सक्राइब हुआ

Aditya Birla Sun Life AMC (आदित्य बिड़ला सन लाइफ एएमसी) का आईपीओ (IPO) 1 अक्टूबर 2021 को बंद हुआ। करीब 2,769 करोड़ रुपये का यह पब्लिक इश्यू अपने आखिरी दिन 5.25 गुना सब्सक्राइब हुआ। अब सभी की निगाहें आईपीओ अलॉटमेंट की तारीख पर टिकी हैं, जो 6 अक्टूबर 2021 को होने की उम्मीद है।

कितना चल रहा है GMP?
हालांकि आईपीओ का सब्सक्रिप्शन उम्मीद से कम रहने की वजह से  Aditya Birla AMC के ग्रे मार्केट प्रीमियम (GMP) में गिरावट आई है। मार्केट ऑब्जर्वर के मुताबिक, सोमवार को Aditya Birla AMC के शेयर ग्रे मार्केट में सिर्फ 3 रुपये के प्रीमियम पर ट्रेड कर रहे थे, जो कल के GMP से 17 रुपये कम है। मार्केट ऑब्जर्वर का कहना है कि Aditya Birla AMC के ग्रे मार्केट प्रीमियम में इस तरह की गिरावट से संकेत मिलता है कि 11 अक्टूबर को शेयर मार्केट में इसकी लिस्टिंग “फ्लैट” रह सकती है।

लाइफटाइम-हाई पर पहुंचा Vijay Kedia के पोर्टफोलियो में शामिल यह शेयर, एक्सपर्ट दे रहे BUY की सलाह

मार्केट ऑब्जर्वर्स ने बताया कि Aditya Birla AMC का जीएमपी केवल एक सप्ताह के समय में 70 रुपये से गिरकर 3 तक आ गया है, जो मुख्य रूप से निवेशकों की कमजोर प्रतिक्रिया के कारण है। उन्होंने कहा कि आईपीओ खुलने की तारीख से पहले, आदित्य बिड़ला एएमसी के शेयर ग्रे मार्केट में 70 रुपये के प्रीमियम पर उपलब्ध थे। लेकिन निवेशकों की तरफ से कमजोर प्रतिक्रिया के बाद इसमें गिरावट आनी शुरू हो गई। 

निवेशकों की तरफ से क्यों अच्छी प्रतिक्रिया नहीं मिली? यह पूछे जाने पर मार्केट ऑब्जर्वर्स ने कहा कि यह आईपीओ 100 पर्सेंट ऑफर फॉर सेल (OFS) था, जो शायद निवेशकों को बहुत पंसद नहीं आया।

इस रियल्टी स्टॉक में जारी है HNI buying, ब्रोकरेजेस ने दी पोजीशनल खरीदारी की सलाह

इस GMP का क्या मतलब है?
मार्केट ऑब्जर्वर्स ने कहा कि GMP का सीधा सा मतलब है ग्रे मार्केट को आईपीओ के इतने अधिक प्रीमियम पर लिस्ट होने की उम्मीद है। उदाहरण के लिए Aditya Birla AMC IPO का आज जीएमपी 3 रुपये है। इसका मतलब है कि Aditya Birla AMC IPO के 715 रुपये ((712 रुपये आईपीओ के ऊपरी प्राइस बैंड की सीमा + 3 रुपये ग्रे मार्केट प्रीमियम) पर लिस्ट  होने की उम्मीद है।

हल्दी में गिरावट, जानिए क्या है वजह, एक्सपर्ट्स कहां दे रहे खरीद की सलाह

हालांकि शेयर बाजार का कहना है कि बोली लगाने वालों को ग्रे मार्केट के आंकड़ों से परेशान नहीं होना चाहिए। यह अनाधिकारिक डेटा है जिसका कंपनी की वित्तीय स्थिति से कोई लेना-देना नहीं है। उन्होंने कहा कि किसी भी पब्लिक इश्यू के सफल और विफल होने के उस कंपनी की वित्तीय स्थित सबसे ज्यादा मायने रखती है।

सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।

यह भी पढ़े:  MapmyIndia IPO : इस सप्ताह आईपीओ खुलने से पहले ग्रे मार्केट में कीमतें मजबूत, जानें पूरी डिटेल
close