ATM से तय सीमा से ज्यादा बार कैश निकालने पर देनी होगी, 21 रुपए प्रति ट्रांजैक्शन की फीस

10 जून, 2021 को भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की नोटिफिकेशन के बाद ATM लेनदेन पर फीस बढ़ा दी गई है

बैंक ग्राहकों को अब मुफ्त लेनदेन की तय सीमा से ज्यादा किए गए हर एक ATM ट्रांजैक्शन पर एक रुपए ज्यादा का भुगतान करना होगा। 1 जनवरी, 2022 से अगर कोई ग्राहक पहले की दर 20 रुपए प्रति ट्रांजैक्शन के बजाए तय सीमा से ज्यादा का लेनदेन करता है, तो बैंक उससे प्रति ट्रांजैक्शन 21 रुपए लेगा।

10 जून, 2021 को भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की नोटिफिकेशन के बाद ATM लेनदेन पर फीस बढ़ा दी गई है। RBI ने अपनी नोटिफिकेशन में कहा, “हाई इंटरचेंज फीस के लिए बैंकों को क्षतिपूर्ति करने के लिए और लागत में सामान्य बढ़ोतरी को देखते हुए, उन्हें ग्राहक फीस को प्रति लेनदेन 21 रुपए तक बढ़ाने की अनुमति है। यह बढ़ोतरी 1 जनवरी, 2022 से प्रभावी होगी।”

ग्राहक अपने खुद के बैंक ATM से हर महीने पांच फ्री ट्रांजैक्शन (वित्तीय और गैर-वित्तीय लेनदेन सहित) कर सकते हैं। वे दूसरे बैंक के ATM से भी मुफ्त लेनदेन (वित्तीय और गैर-वित्तीय लेनदेन सहित) कर सकते हैं। तीन लेन-देन मेट्रो सेंटर में और पांच लेन-देन नॉन-मेट्रो सेंटर्स में।

दिसंबर में जीएसटी कलेक्शन में मामूली गिरावट, नवंबर के 1.31 लाख करोड़ रुपये से घटकर 1.29 लाख करोड़ रुपये पर रहा

ATM ट्रांजैक्शन के लिए इंटरचेंज फीस स्ट्रक्चर में आखिरी बदलाव अगस्त 2012 में किया गया था, जबकि ग्राहकों की तरफ से पेएबल चार्ज को पिछली बार अगस्त 2014 में बदला गया था।

RBI ने ATM लगाने की बढ़ती लागत और बैंकों या व्हाइट-लेबल एटीएम ऑपरेटरों की तरफ किए गए ATM रखरखाव के खर्च का हवाला देते हुए 1 जनवरी, 2022 से इन बदलावों को नोटिफाई किया है।

वॉयस ऑफ बैंकिंग के फाउंडर अश्विनी राणा ने कहा, “प्रति एटीएम ट्रांजैक्शन सर्विश फीस में बढ़ोतरी संबंधित बैंकों की तरफ से तय सीमा से ज्यादा ग्राहकों से वसूल की जाएगी। यह वृद्धि केवल 1 रुपए प्लस गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (GST) है, जो कि बैंकों की तरफ से भुगतान किए गए मेनटिनेंस फीस के मुकाबले ग्राहकों के लिए बहुत मामूली है, क्योंकि पहले वे 20 रुपए चार्ज कर रहे थे।”

यह भी पढ़े:  7th Pay Commission: चुनावों से पहले कर्मचारियों को न्यूनतम बेसिक वेतन 18000 से 26000 करेगी मोदी सरकार!
close