Be Positive सकारात्मक सोच का असर

Be Positive Story in Hindi

एक बार की बात है कि दो मित्र थे और वे किसी जूते बनाने की कंपनी मे जॉब करते थे| कंपनी में जूते बनते थे और उन दोनों का काम था मार्केट में जाकर जूते बेचना|

एक बार कंपनी के मालिक ने उनको किसी एक ऐसे गाँव मे जूते बेचने भेजा जहाँ सभी लोग नंगे पैर रहते थे कोई चप्पल या जूते पहनता ही नहीं था|

be positive

पहला बंदा गाँव में जाता है और वहाँ के लोगों को देखकर बड़ा परेशान हो जाता है कि यहाँ तो कोई जूते ही नहीं पहनता तो यहाँ मैं अपने जूते कैसे बेचूँगा, ये सोचकर वो वापस आ जाता है|

फिर दूसरा मित्र गाँव में जाता है और ये देखकर काफ़ी खुश होता है कि यहाँ तो कोई जूते ही नहीं पहनता, अब तो मैं अपने सारे जूते यहाँ बेच सकता हूँ यहाँ तो मेरे बहुत सारे ग्राहक हैं|

तो मित्रों, यही फ़र्क होता है सकारात्मक और नकारात्मक सोच में| दुनिया सभी के लिए समान है और हर जगह अच्छा करने की संभावनाएं हैं परन्तु नकारात्मक सोच का व्यक्ति रास्तों को देखकर भी मुंह मोड़ लेता है और सकारात्मक सोच वाला इंसान कठिन परिस्थियों में भी राह बना लेता है|

दुनिया मे कुछ भी असंभव नहीं है बस सोच हमेशा सकारात्मक होनी चाहिए |

सकारात्मक सोच रखने वाले लोग चाँद पर भी पहुँच जाते हैं और नकारात्मक सोच वाले लोग जीवन भर कूप मंडूक बने रहते हैं

So Be Positive!! And enjoy

आपको सकारात्मक बनाने के लिए कहानियां –

समय अमूल्य है

“वीर” मोटिवेशनल हिंदी पोएम

कैसे दूर करें अपनी कमियाँ

खुद को रोकने वाले चीजों से पार के बाद ही आप आगे बढ़ सकते हैं

संगठन में शक्ति होती है

यह भी पढ़े:  महान गणितज्ञ रामानुजन की बचपन की एक कहानी | Ramanujan Success Story in Hindi
close