Best Computer Courses In Hindi: स्नातक(Graduation) के बाद कंप्यूटर कोर्स करे

Best Computer Courses In Hindi अर्थात इस article में हम जानेंगे की स्नातक(Graduation) के बाद कौन – कौन से कंप्यूटर कोर्स कर सकते है? और कौन सा कंप्यूटर कोर्स आपके लिए बेहतर होगा? अधिक जानकारी के लिए पूरा article जरूर पढ़ें.

क्या आपने अपना बैचलर डिग्री प्रोग्राम(Bachelor’s Degree program) पूरा कर लिया है? क्या आप स्नातक होने के बाद एक अच्छा कंप्यूटर कोर्स(computer course) करने में रुचि रखते हैं? यदि हां, तो यह लेख आपकी मदद करेगा. यहां, मैंने स्नातकों(graduates) के सामने उपलब्ध कुछ सबसे लोकप्रिय कंप्यूटर पाठ्यक्रमों को सूचीबद्ध किया है.

computer courses after graduation hindi

आप पूछ सकते हैं, स्नातक स्तर के बाद अतिरिक्त कंप्यूटर कोर्स क्यों करें. आखिरकार, स्नातक की डिग्री आपको नौकरी पाने में तो मदद करेगी ही, है ना?

स्नातक स्तर की पढ़ाई पूरी करने के बाद एक अच्छा कंप्यूटर कोर्स कर आप अपने करियर के लिए नए दरवाजे खोल सकते हैं.

आप पूछ सकते हैं, कैसे? आइए कुछ उदाहरण देखें  –

स्नातक स्तर के बाद कंप्यूटर शिक्षा का महत्व(IMPORTANCE OF COMPUTER EDUCATION AFTER GRADUATION)

हम दो उदाहरण देखेंगे. यह पहला विकल्प है –

मान लें कि आपने बीकॉम या बीए जैसे गैर-तकनीकी पाठ्यक्रम(non-technical course) को पूरा कर लिया है. आप कंप्यूटर के बारे में विस्तृत ज्ञान नहीं रखते. देखें, यह डिजिटल युग है. हम कंप्यूटर और आईटी सिस्टम पर अत्यधिक निर्भर हैं.

उनके बिना, हमारे जीवन बहुत कम उत्पादक बन जाएगा. कंप्यूटर और आईटी सिस्टम हमारी गतिविधियों जैसे कि बैंकिंग, खरीदारी, मनोरंजन, शासन, स्वास्थ्य देखभाल इत्यादि का ख्याल रखते हैं.

गैर-तकनीकी स्नातकों के लिए, कंप्यूटर ज्ञान एक मूल्यवान संपत्ति होगी. चूंकि हम कंप्यूटर और आईटी सिस्टम पर काफी निर्भर हैं, इसलिए इन क्षेत्रों ने नौकरी के अवसरों का भार उत्पन्न किया है.

स्नातक स्तर के बाद कंप्यूटर पाठ्यक्रम गैर तकनीकी स्नातकों के लिए असली मददगार हो सकता है. इन पाठ्यक्रमों का पालन करके, वे सीएस और आईटी सिस्टम में अंतर्दृष्टि(insights) प्राप्त करने में सक्षम होंगे.

यहां दूसरा उदाहरण दिया गया है –

इस उदाहरण में, मान लीजिए कि आपने कंप्यूटर विज्ञान से संबंधित स्नातक की डिग्री प्रोग्राम को किया है (उदाहरण – सीएस में बी.टेक). यहाँ नौकरी का बाजार वास्तव में संतृप्त(saturated) और अत्यधिक प्रतिस्पर्धी(highly competitive) है.

भारत भर के कॉलेज हर साल कंप्यूटर इंजीनियरों के लिए सैकड़ों हजारों फॉर्म भरते हैं. इस प्रकार, इन शत्रुतापूर्ण परिस्थितियों में आगे बढ़ने के लिए, आपको कुछ अतिरिक्त (अकादमिक योग्यता के संदर्भ में) की आवश्यकता होगी.

इस मामले में भी, कंप्यूटर विज्ञान से संबंधित एक अच्छा स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम आपके करियर के लिए चमत्कारिक साबित हो सकता है. मुझे उम्मीद है कि अब आपको सही विचार मिलगया होगा.

इन्हे भी पढ़ें: योग प्रशिक्षक(Yoga Instructor) कैसे बनें? पूरी जानकारी

पाठ्यक्रमों के प्रकार(TYPES OF COURSES)

इस लेख में, मैंने हर किसी के लिए कुछ न कुछ प्रदान किया है. मैंने गैर-तकनीकी स्नातकों के लिए कुछ पाठ्यक्रम सूचीबद्ध किए हैं. यहां वर्णित कुछ अन्य पाठ्यक्रम स्नातक के लिए हैं और  जिन्होंने कंप्यूटर विज्ञान या आईटी से संबंधित स्नातक की डिग्री कोर्स पूरा कर लिया है.

संक्षेप में, आपको यहां पाठ्यक्रमों के निम्नलिखित प्रारूप मिलेंगे –

  • मास्टर डिग्री पाठ्यक्रम(Master’s Degree courses)
  • पीजी डिप्लोमा पाठ्यक्रम(PG Diploma courses)
  • प्रमाणपत्र पाठ्यक्रम(Certification courses)

उपरोक्त उल्लिखित पाठ्यक्रम नीचे उल्लिखित शिक्षण मोड(learning modes) में उपलब्ध हैं –

  • कक्षा में सीखने का तरीका(Classroom learning mode)
  • ऑनलाइन सीखने का तरीका(Online learning mode)
  • दूरस्थ शिक्षा मोड(Distance learning mode)

कई विशेषज्ञता की उपलब्धता(AVAILABILITY OF NUMEROUS SPECIALIZATIONS)

कंप्यूटर विज्ञान एक बहुत विशाल क्षेत्र है. इसमें कई उप-विशेषतायें भी शामिल हैं. इस आलेख में वर्णित कुछ पाठ्यक्रम आपको इन उप-विषयों में विशेषज्ञ बनाने में मदद करेंगे. विशेषज्ञता के कुछ उल्लेखनीय क्षेत्र हैं –

  • प्रोग्रामिंग(Programming)
  • डेटा विज्ञान(Data Science)
  • आईटी सिस्टम(IT Systems)
  • डीबीएमएस(DBMS)
  • नेटवर्किंग प्रौद्योगिकी(Networking Technology)
  • बचाव और सुरक्षा(Safety and Security)
  • हार्डवेयर प्रौद्योगिकी(Hardware Technology)

स्नातक के बाद होने वाले कंप्यूटर कोर्स की सूची(LIST OF COMPUTER COURSES AFTER GRADUATION)

आइए, अब इस मामले की गहराई पर जाएं, स्नातक स्तर के बाद सर्वश्रेष्ठ कंप्यूटर पाठ्यक्रमों की सूची –

1 – एमसीए(MCA)

एमसीए का फुल फॉर्म मास्टर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन(Master of Computer Application) होता है. यह एक मास्टर स्तर का कोर्स है. इस पाठ्यक्रम में योग्य माना जाने के लिए, आपको कंप्यूटर विज्ञान से संबंधित एक स्नातक की डिग्री कोर्स (जैसे बी.टेक., बीई, बीसीए, बीएससी इत्यादि) पूरा करना होगा.

अकादमिक प्रोग्राम्स 3 साल लंबा होता है. भारत में कई सरकारी और स्व वित्तपोषित(Self Financed) कॉलेज मौजूद हैं, जो इस कोर्स की पेशकश करते हैं.

सरकारी कॉलेज Self Financed कॉलेजों की अपेक्षा, अपेक्षाकृत कम शुल्क लेते हैं.

2 – एमएससी(M.SC.)

एमएससी का फुल फॉर्म मास्टर ऑफ साइंस(Master of Science) होता है. यह भी एक मास्टर स्तर का कोर्स है. भारत में, कई M.Sc specialization programs मौजूद हैं. यदि आप कंप्यूटर पाठ्यक्रमों में रूचि रखते हैं, तो आपके पास कई एमएससी कोर्सेस हैं, जिसे आप चुन सकते है.

कुछ लोकप्रिय एमएससी प्रोग्राम्स, जो कंप्यूटर विज्ञान से संबंधित हैं –

  • एमएससी कंप्यूटर साइंस में(M.Sc. in Computer Science)
  • एमएससी आईटी सुरक्षा में(M.Sc. in IT Security)
  • एमएससी नेटवर्किंग प्रौद्योगिकी में(M.Sc. in Networking Technology)
  • एमएससी सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में(M.Sc. in Software Engineering)
  • एमएससी हार्डवेयर और नेटवर्किंग में(M.Sc. in Hardware and Networking)
  • एमएससी साइबर फोरेंसिक में(M.Sc. in Cyber Forensics)
  • एमएससी नैतिक हैकिंग और डेटा सुरक्षा में(M.Sc. in Ethical Hacking and Data Security)

आप एक अच्छा एमएससी कोर्स चुन सकते हैं ,इसका अकादमिक प्रोग्राम्स 2 साल लंबा होता है.

इस पाठ्यक्रम को करने के योग्य माना जाने के लिए, आपको एक स्नातक की डिग्री कोर्स (जैसे – बीई या बीटेक, बीसीए., बीएससी इत्यादि) पूरा करना आवश्यक है .

भारत में कई सरकारी और स्व वित्तपोषित(Self financed) कॉलेज मौजूद हैं, जो इस कोर्स की पेशकश करते हैं. सरकारी कॉलेज स्व वित्तपोषित कॉलेजों की अपेक्षा, अपेक्षाकृत कम शुल्क लेते हैं. एमएससी विस्तृत तरीके से कंप्यूटर विज्ञान विषयों से संबंधित है.

इन्हे भी पढ़ें: विश्व इतिहास सामान्य ज्ञान(World History General Knowledge In Hindi)

3 – एमई या एम.टेक.(M.E. OR M.TECH.)

एमई का फुल फॉर्म मास्टर ऑफ इंजीनियरिंग(Master of Engineering) और एमटेक का फुल फॉर्म मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी(Master of Technology) होता है. दोनों मास्टर स्तर के इंजीनियरिंग प्रोग्राम्स हैं. भले ही उनके नाम अलग-अलग हैं, but ये दोनों लगभग समान पाठ्यक्रम सामग्री साझा करते हैं.

इस कोर्स में योग्य माना जाने के लिए, आपको बीई या बी टेक पूरा करना जरुरी है.  उदाहरण के लिए, बी.टेक. सीएस स्नातक एम.टेक करने के लिए योग्य हैं.

कुछ लोकप्रिय एम.टेक. या एमई प्रोग्राम, जो सीएस से संबंधित हैं –

  • M.Tech. प्रोग्रामिंग में(M.Tech. in Programming)
  • M.Tech. साइबर सुरक्षा में(M.Tech. in Cyber Security)
  • M.Tech. डेटा विज्ञान में(M.Tech. in Data Science)
  • M.Tech. गोपनीयता इंजीनियरिंग में(M.Tech. in Privacy Engineering)
  • M.Tech. डेटा सुरक्षा में(M.Tech. in Data Security)
  • M.Tech. साइबर फोरेंसिक में(M.Tech. in Cyber Forensics)
  • M.Tech. सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में(M.Tech. in Software Engineering)
  • M.Tech. आईटी इंजीनियरिंग में(M.Tech. in IT Engineering)

अकादमिक प्रोग्राम्स 2 साल लंबा होता है. भारत में कई सरकारी और प्राइवेट कॉलेज मौजूद हैं, जो इस कोर्स की पेशकश करते हैं. सरकारी कॉलेज प्राइवेट कॉलेजों की अपेक्षा अपेक्षाकृत कम शुल्क लेते हैं.

4 – सीसीएनए प्रमाणपत्र(CCNA CERTIFICATION)

सीसीएनए एक IT (Information Technology) प्रमाणीकरण प्रोग्राम्स है. इसकी तुलना एक व्यावसायिक प्रशिक्षण पाठ्यक्रम से की जा सकती है. प्रशिक्षण के द्वारा छात्रों को कौशल प्रदान किया जाता है, जो कि उन्हें नौकरी के लिए लाभकारी साबित होंगे.

सीसीएनए प्रशिक्षण आईटी के नेटवर्किंग और हार्डवेयर जैसे विषयों पर केंद्रित करता है. आईटी सिस्टम बनाने, संचालित करने, प्रबंधित करने और बनाए रखने के लिए, हमें हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर की आवश्यकता होती है. सीसीएनए कोर्स आईटी सिस्टम और नेटवर्क बनाने, संचालित करने, प्रबंधित करने और बनाए रखने के लिए उपयोग किए जाने वाले इन सॉफ़्टवेयर, हार्डवेयर और नेटवर्किंग तकनीकों जैस विषयों पर केंद्रित होता है.

5 – एमसीएसई प्रमाणपत्र(MCSE CERTIFICATION)

एमसीएसई का फुल फॉर्म माइक्रोसॉफ्ट प्रमाणित समाधान विशेषज्ञ(Microsoft Certified Solutions Expert) होता है. जैसा कि नाम से पता चलता है, यह प्रशिक्षण प्रोग्राम्स माइक्रोसॉफ्ट द्वारा विकसित किया गया है. प्रशिक्षण प्रोग्राम्स माइक्रोसॉफ्ट प्रौद्योगिकी, उत्पादों और सॉफ्टवेयर पर केंद्रित है.

प्रशिक्षण प्रोग्राम्स आम तौर पर 6-8 महीने लंबा होता है. माइक्रोसॉफ्ट विभिन्न क्षेत्रों में प्रमाणपत्र प्रदान करता है. ऐसे कुछ उल्लेखनीय क्षेत्र हैं –

  • व्यवसाय एप्लिकेशन(Business Applications)
  • क्लाउड टेक्नोलॉजी(Cloud Technology)
  • उत्पादकता(Productivity)
  • डेटा विश्लेषण(Data Analytics)

आईटी पेशेवर, स्नातक और सीएस पेशेवर इस प्रमाणपत्र प्रोग्राम्स का उपयोग अपने करियर की संभावनाओं को बढ़ावा देने के लिए कर सकते हैं.

इन्हे भी पढ़ें: पढाई में मन कैसे लगाये ? पढाई मे मन लगाने के आसान टिप्स

6 – टैली(TALLY)

वित्त और बैंकिंग(finance and banking) जैसे क्षेत्रों में दिलचस्पी रखने वाले स्नातक के लिए यह  प्रोग्राम्स को बहुत उपयोगी है . टैली प्रशिक्षण(Tally training) आपको उपर्युक्त क्षेत्रों में प्रवेश प्राप्त करने में मददकरता है.

टैली प्रशिक्षण प्रोग्राम्सों(tally training programs) को करने वाले वित्त संस्थानों(finance institutions) में काम कर रहे स्नातक को देखना असामान्य नहीं है. टैली का व्यापक रूप से वित्त संस्थानों द्वारा उपयोग किया जाता है.

7 – डिजिटल विपणन(DIGITAL MARKETING)

डिजिटल मार्केटिंग की भारत में भारी गुंजाइश और माँग है. यह एक बहुत विशाल क्षेत्र है और इसके अंदर बहुत से उप-विषय आते है जैसे कि –

  • एसईओ(SEO)
  • एसईएम (SEM)
  • एसएमएम(SMM)
  • विज्ञापन(Advertising)
  • विषयवस्तु का व्यापार(Content Marketing)
  • और अधिक….(And more….)

आप training modules सिखने के लिए जा सकते हैं जो एक specific उप-अनुशासन या एक सामान्य डिजिटल विपणन प्रोग्राम्स(general Digital Marketing program) पर ध्यान केंद्रित करते हैं. ऐसे प्रोग्राम्स विभिन्न प्रारूपों में उपलब्ध हैं जैसे कि –

  • प्रमाणपत्र प्रोग्राम्स(Certification programs)
  • डिप्लोमा प्रोग्राम्स(Diploma programs)
  • डिजिटल विपणन में एमबीए(MBA in Digital Marketing)
  • मास्टर प्रोग्राम्स (Master’s programs)
  • और अधिक….(And more….)

8 – सॉफ्टवेयर परीक्षण(SOFTWARE TESTING)

सॉफ्टवेयर परीक्षण क्षेत्र में बहुत अधिक scope और potential है. सॉफ्टवेयर परीक्षण पाठ्यक्रम(Software testing courses) उन छात्रों के लिए बहुत अच्छा हैं जिनके पास software development और प्रोग्रामिंग के बारे में थोड़ा बहुत ज्ञान है.

यदि आपने सीएस (जैसे बीटेक, बीएससी, बीसीए इत्यादि) से संबंधित एक डिग्री कोर्स पूरा कर लिया है, तो आप स्नातक स्तर के बाद सॉफ्टवेयर परीक्षण प्रोग्राम्स के लिए जा सकते हैं.

कुछ लोकप्रिय सॉफ्टवेयर परीक्षण पाठ्यक्रम प्रारूप हैं –

  • M.Tech.
  • एमएससी(M.Sc.)
  • पीजी डिप्लोमा / एडवांस्ड डिप्लोमा(PG Diploma/Advanced Diploma)
  • पीजी प्रमाणपत्र(PG Certification)

पाठ्यक्रम की अवधि एक पाठ्यक्रम प्रारूप से दूसरे में भिन्न हो सकती है. M.Tech. और एमएससी प्रोग्राम्स आमतौर पर 2 साल लंबे होते हैं. पीजी डिप्लोमा प्रोग्राम्स आमतौर पर लगभग 1 साल लंबा होते हैं.

इन्हे भी पढ़ें: आईटीआई कोर्स(ITI Course) क्या है? और आईटीआई कैसे करे?

9 – प्रोग्रामिंग भाषाएं(PROGRAMMING LANGUAGES)

हमारे यहां कुशल प्रोग्रामर( skilled programmers) की बहुत मांग है. प्रोग्रामिंग पाठ्यक्रम उन छात्रों के लिए बहुत अच्छा होता हैं जिनके पास प्रोग्रामिंग भाषाओं के बारे में थोड़ा बहुत ज्ञान होता हो.

यदि आपने सीएस (जैसे बीटेक, बीएससी, बीसीए इत्यादि) से संबंधित एक प्रासंगिक डिग्री कोर्स पूरा कर लिया है, तो आप स्नातक स्तर के बाद सॉफ्टवेयर परीक्षण प्रोग्राम्स(Software testing programs) के लिए जा सकते हैं.

10 – वेब और ग्राफिक डिजाइन(WEB & GRAPHIC DESIGN)

यदि आप एक रचनात्मक व्यक्ति(creative person) हैं, तो ये प्रोग्राम्स आपके लिए बहुत मददगार होंगे. वेब डिज़ाइन और ग्राफिक डिज़ाइन में प्रोग्रामिंग भाषाएं, इंटरनेट तकनीक, वेब डिज़ाइनिंग, वेब विकास आदि जैसे विषयों को शामिल किया गया है.

कई संस्थान मौजूद हैं, जो पाठ्यक्रमों के निम्नलिखित प्रारूप (ग्राफिक और वेब डिज़ाइन से संबंधित) प्रदान करते हैं –

  • एडवांस्ड डिप्लोमा(Advanced Diploma)
  • प्रमाणीकरण(Certification)
  • स्नातकोत्तर उपाधि(Master’s Degree)
  • स्नातक की डिग्री(Bachelor’s Degree)

11 – नेटवर्किंग प्रौद्योगिकी(NETWORKING TECHNOLOGY)

नेटवर्किंग प्रौद्योगिकी(Networking technology) आईटी (सूचना प्रौद्योगिकी) का एक अभिन्न अंग है. नेटवर्किंग प्रौद्योगिकी की अवधारणाओं का उपयोग आईटी सिस्टम को डिजाइन, संचालित और बनाए रखने के लिए किया जाता है.

नौकरी के बाजार में कुशल नेटवर्क इंजीनियरों(Skilled network engineers) और तकनीशियनों( technicians) की भारी मांग है. चूंकि आईटी प्रत्येक गुजरने वाले दिन के साथ अधिक से अधिक लोकप्रिय हो रहा है, इसलिए कुशल नेटवर्क इंजीनियरों की मांग भविष्य में बहुत बढ़ेगी.

यह कहना सुरक्षित है कि इस क्षेत्र में बहुत अधिक गुंजाइश और क्षमता है. नेटवर्किंग प्रौद्योगिकी प्रोग्राम्स(etworking technology programs) बहुत से प्रारूपों में उपलब्ध हैं जैसे कि –

  • प्रमाणीकरण(Certification)
  • पीजी डिप्लोमा(PG Diploma)
  • स्नातकोत्तर उपाधि(Master’s Degree)
  • स्नातक की डिग्री(Bachelor’s Degree)

12 – एनीमेशन और वीएफएक्स(ANIMATION AND VFX)

हाल के दिनों में एनीमेशन सेक्टर ने बेहद लोकप्रियता हासिल की है. यह क्षेत्र हर गुजरने वाले वर्ष के साथ अधिक से अधिक युवाओं को आकर्षित कर रहा है. कुशल एनीमेशन पेशेवरों(skilled animation professionals) के लिए वहां बड़ी मांग है.

एनीमेशन पाठ्यक्रम अक्सर वेब डिज़ाइन , ग्राफिक डिज़ाइन, गेम डिज़ाइन आदि जैसे अन्य संबद्ध प्रोग्राम्स के साथ बंडल किए जाते हैं . ये प्रोग्राम विभिन्न प्रारूपों में उपलब्ध हैं जैसे –

  • प्रमाणीकरण(Certification)
  • पीजी डिप्लोमा(PG Diploma)
  • स्नातकोत्तर उपाधि(Master’s Degree)
  • स्नातक की डिग्री(Bachelor’s Degree)

13 – बेसिक आईटी प्रोग्राम्स(BASIC IT PROGRAMS)

यदि आप गैर-तकनीकी क्षेत्र(non-technical field) से संबंधित हैं और आईटी क्षेत्र में प्रवेश करना चाहते हैं, तो ये प्रोग्राम्स आपकी मदद करेंगे. अगर आप इतिहास में बीए पास है तो आपका आईटी के साथ लगभग कोई सम्भन्ध नहीं है. तो, बीए इतिहास स्नातक को क्या करना चाहिए, अगर वह आईटी क्षेत्र में प्रवेश करना चाहता है?

वह आईटी से परिचित होने के लिए बुनियादी आईटी प्रोग्राम्स पर भरोसा कर सकता है. इससे उन्हें आईटी उद्योग में करियर की ओर पहला कदम उठाने में मदद मिलेगी.

इन्हे भी पढ़ें: डॉक्टर(Doctor) कैसे बने? और डॉक्टर बनने के लिए क्या करे?

I hope की मेरी यह Hard Work आपको पसंद आई होगी. अगर आपको Computer Courses से related कोई भी problem हो तो आप मुझे comment के through पूछ सकते है. And Friend, इस article को social media के साथ जरूर share करे, ताकि मेरी मेहनत सफल हो सके.

यह भी पढ़े:  अपने Web browser Tabs को सरलता से Manage कैसे करे
close