कन्याकुमारी मंदिर का इतिहास | Kanyakumari Temple History in Hindi

कन्याकुमारी मंदिर का इतिहास | Kanyakumari Temple History in Hindi

Kanyakumari – कन्याकुमारी भारत में तमिलनाडु राज्य का एक शहर है। इस शहर को यह नाम इस क्षेत्र में देवी कन्या कुमारी मंदिर – Kanyakumari Temple से दिया गया है। यह प्रायद्वीपीय भारत का सबसे बड़ा दक्षिणी द्वीप है। कन्याकुमारी तीन सागरों का संगम का शहर है और एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है। कन्याकुमारी मंदिर … Read more

“नृत्य के स्वामी” नटराज के बारेमें | Lord Shiva Nataraja History

“नृत्य के स्वामी” नटराज के बारेमें | Lord Shiva Nataraja History

नटराज जिन्हेँ “नृत्य का स्वामी” भी कहा जाता हैं और जो भगवान शिव का ही एक रूप है। भगवान शिव जी के तांडव के दो स्वरुप हैं लेकिन आज तक हमने सिर्फ शिव जी के रौद्र तांडव रूप ही पता हैं जो वो क्रोध में करते हैं और उनका दूसरा तांडव स्वरुप हैं आनंद प्रदान … Read more

ताज-उल-मसजिद का इतिहास | Taj-ul-Masjid history in hindi

ताज-उल-मसजिद का इतिहास | Taj-ul-Masjid history in hindi

Taj-ul-Masjid – ताज-उल-मस्जिद भारत के भोपाल में स्थित एक मस्जिद है। जबकि इसका सही नाम ताज-उल-मसजिद है, ना की ताज-उल-मस्जिद। “मसजिद” का अर्थ “मस्जिद” से है और ताज-उल-मस्जिद का साधारणतः अर्थ “मस्जिदों के बीच का ताज” होता है। भारत के सबसे प्रसिद्ध और विशालतम मस्जिदों में से यह एक है। ताज-उल-मसजिद का इतिहास – Taj-ul-Masjid … Read more

श्रीरंगम मंदिर का इतिहास | Srirangam Temple History

श्रीरंगम मंदिर का इतिहास | Srirangam Temple History

श्री रंगनाथस्वामी मंदिर भगवान रंगनाथ को समर्पित एक हिंदू मंदिर है। भगवान रंगनाथ को विष्णु का ही अवतार माना जाता है। यह मंदिर भारत के तमिलनाडु राज्य के तिरुचिरापल्ली के श्रीरंगम में स्थित है इसलिए इसे श्रीरंगम मंदिर – Srirangam Temple भी कह जाता हैं। यह मंदिर भगवान विष्णु को समर्पित 108 मुख्य मंदिरों में … Read more

मेहरानगढ़ किले का इतिहास | Mehrangarh Fort History

मेहरानगढ़ किले का इतिहास | Mehrangarh Fort History

Mehrangarh Fort – मेहरानगढ़ किला भारत के प्राचीनतम किलों में से एक है और भारत के समृद्धशाली अतीत का प्रतीक है। यह किला जोधपुर किलों में सबसे बड़े किलों में से एक है। आज हम इसी मेहरानगढ़ किले के बारेमें जानेंगे। मेहरानगढ़ किले का इतिहास – Mehrangarh Fort History मेहरानगढ़ किला राजस्थान के जोधपुर में … Read more

गुरुद्वारा बंगला साहिब का इतिहास | History of Bangla Sahib Gurudwara Delhi

गुरुद्वारा बंगला साहिब का इतिहास | History of Bangla Sahib Gurudwara Delhi

Bangla Sahib Gurudwara – गुरुद्वारा बंगला साहिब प्रसिद्ध सिक्ख गुरुद्वारों में से है, जिसका निर्माण भारत के नयी दिल्ली में किया गया है। यह गुरुद्वारा नयी दिल्ली में कनौट प्लेस पर बाबा खरनाक सिंह मार्ग पर स्थित है और शुरू में इसने अपने गोल्डन डोम और ऊँचे झंडे के पोल, निशान साहिब की वजह से … Read more

संत तुकाराम महाराज की जीवनी – Tukaram Maharaj In Hindi

संत तुकाराम महाराज की जीवनी – Tukaram Maharaj In Hindi

Tukaram – तुकाराम महाराज महाराष्ट्र के भक्ति अभियान के 17 वी शताब्दी के कवी-संत थे। वे समनाधिकरवादी, व्यक्तिगत वारकरी धार्मिक समुदाय के सदस्य भी थे। तुकाराम अपने अभंग और भक्ति कविताओ के लिए जाने जाते है और अपने समुदाय में भगवान की भक्ति को लेकर उन्होंने बहुत से आध्यात्मिक गीत भी गाये है जिन्हें स्थानिक … Read more

चालुक्य वंश के वास्तुशिल्प का प्रतिक बादामी गुफा | Badami Cave Temple in Hindi

चालुक्य वंश के वास्तुशिल्प का प्रतिक बादामी गुफा | Badami Cave Temple in Hindi

Badami cave temple – बादामी की प्रसिद्ध गुफाये भारत की सबसे पुराणी गुफा में गिनी जाती है। इन गुफाओ में हमें हिन्दू, जैन और बौद्ध धर्मं का मिश्रण देखने को मिलता है। इस बादामी गुफा के भारत के कर्नाटक राज्य के बागलकोट जिले में बादामी नाम के शहर में ये गुफाएं हैं। चालुक्य वंश के … Read more

संत सूफी बुल्ले शाह का इतिहास | Poet Bulleh shah history in Hindi

संत सूफी बुल्ले शाह का इतिहास | Poet Bulleh shah history in Hindi

Bulleh shah – सय्यद अब्दुल्ला शाह क़ादरी (शाहमुखी/गुरुमुखी) जीने बुल्ले शाह के नाम से भी जाना जाता है एक पंजाबी दार्शनिक एवं संत थे। उनके पहले आध्यात्मिक गुरु संत सूफी मुर्शिद शाह इनायत अली थे, वे लाहौर से थे। बुल्ले शाह को मुर्शिद से आध्यामिक ज्ञान रूपी खाजने की प्राप्ति हुई और उन्हें उनकी करिश्माई … Read more

ग्वालियर किल्ले का इतिहास और रोचक तथ्य | Gwalior fort information in Hindi

ग्वालियर किल्ले का इतिहास और रोचक तथ्य | Gwalior fort information in Hindi

Gwalior fort – ग्वालियर किला मध्य भारत के मध्य प्रदेश में ग्वालियर के पास स्तिथ है। किला एक सुरक्षित बनावट के के साथ २ भागों में बंटा हुआ है। एक भाग गुजरी महल और दूसरा मन मंदिर। इसे 8 वी शताब्दी में राजा मान सिंग तोमर ने बनवाया था। इतिहास में बहुत से राजाओं ने … Read more

close