।।परशुराम स्तवन।।

FILE जय परशुराम ललाम करूणाधाम दुखहर सुखकरं। जय रेणुका नंदन सहस्त्रार्जुन निकंदन भृगुवरं॥ जय परशुराम… जमदग्नि सुत बल बुद्घियुक्त, गुण ज्ञान शील सुधाकरं। भृगुवंश चंदन,जगत वंदन, शौर्य तेज दिवाकरं॥ शोभित जटा, अद्भुत छटा, गल सूत्र माला सुंदरम्‌ । शिव परशु कर, भुज चाप शर, मद मोह माया तमहरं॥ जय परशुराम… क्षत्रिय कुलान्तक, मातृजीवक मातृहा पितुवचधरं। … Read more

शिव चालीसा : मिलेगी भोलेनाथ की अपार कृपा…

शिव चालीसा : मिलेगी भोलेनाथ की अपार कृपा... - WPage - क्यूंकि हिंदी हमारी पहचान हैं

    शिव चालीसा के माध्यम से अपने सारे दुखों को भूला कर शिव की अपार कृपा प्राप्त कर सकते हैं। शिव पुराण के अनुसार शिव-शक्ति का संयोग ही परमात्मा है। शिव की जो पराशक्ति है उससे चित्‌ शक्ति प्रकट होती है। चित्‌ शक्ति से आनंद शक्ति का प्रादुर्भाव होता है, आनंद शक्ति से इच्छाशक्ति का … Read more

शिव की आरती आरती : जय शिव ओंकारा

FILE जय शिव ओंकारा ॐ जय शिव ओंकारा । ब्रह्मा विष्णु सदा शिव अर्द्धांगी धारा ॥ ॐ जय शिव…॥ एकानन चतुरानन पंचानन राजे । हंसानन गरुड़ासन वृषवाहन साजे ॥ ॐ जय शिव…॥ दो भुज चार चतुर्भुज दस भुज अति सोहे। त्रिगुण रूपनिरखता त्रिभुवन जन मोहे ॥ ॐ जय शिव…॥ अक्षमाला बनमाला रुण्डमाला धारी । चंदन … Read more

पढ़ें प्रामाणिक और पवित्र राम अवतार स्तोत्र

पढ़ें प्रामाणिक और पवित्र राम अवतार स्तोत्र - WPage - क्यूंकि हिंदी हमारी पहचान हैं

रामावतार स्तोत्र हिन्दी में…    भये प्रगट कृपाला, दीनदयाला कौसल्या हितकारी हरषित महतारी, मुनि मनहारी अद्भुत रूप बिचारी लोचन अभिरामा, तनु घनस्यामा, निज आयुध भुज चारी भूषन वनमाला, नयन बिसाला, सोभासिंधु खरारी   कह दुइ कर जोरी, अस्तुति तोरी, केहित बिधि करूं अनंता माया गुन ग्यानातीत अमाना, वेद पुरान भनंता करुना सुख सागर, सब गुन … Read more

मां सिद्धिदात्री की आरती : जय सिद्धिदात्री तू सिद्धि की दाता

मां सिद्धिदात्री की आरती : जय सिद्धिदात्री तू सिद्धि की दाता - WPage - क्यूंकि हिंदी हमारी पहचान हैं

जय सिद्धिदात्री तू सिद्धि की दाता तू भक्तों की रक्षक तू दासों की माता, तेरा नाम लेते ही मिलती है सिद्धि तेरे नाम से मन की होती है शुद्धि कठिन काम सिद्ध कराती हो तुम हाथ सेवक के सर धरती हो तुम, तेरी पूजा में न कोई विधि है तू जगदंबे दाती तू सर्वसिद्धि है … Read more

श्री गंगाजी की आरती

FILE ॐ जय गंगे माता, श्री गंगे माता। जो नर तुमको ध्याता, मनवांछित फल पाता। ॐ जय गंगे माता… चन्द्र-सी ज्योत तुम्हारी जल निर्मल आता। शरण पड़े जो तेरी, सो नर तर जाता। ॐ जय गंगे माता… पुत्र सगर के तारे सब जग को ज्ञाता। कृपा दृष्टि तुम्हारी, त्रिभुवन सुख दाता। ॐ जय गंगे माता… … Read more

चित्रगुप्त महाराज की आरती

चित्रगुप्त महाराज की आरती - WPage - क्यूंकि हिंदी हमारी पहचान हैं

* आरती श्री चित्रगुप्त महाराज की श्री विरंचि कुलभूषण, यमपुर के धामी। पुण्य पाप के लेखक, चित्रगुप्त स्वामी॥ सीस मुकुट, कानों में कुण्डल अति सोहे। श्यामवर्ण शशि सा मुख, सबके मन मोहे॥ भाल तिलक से भूषित, लोचन सुविशाला। शंख सरीखी गरदन, गले में मणिमाला॥ अर्ध शरीर जनेऊ, लंबी भुजा छाजै। कमल दवात हाथ में, पादुक … Read more

मां मंगला गौरी आरती

मां मंगला गौरी आरती - WPage - क्यूंकि हिंदी हमारी पहचान हैं

जय मंगला गौरी माता, जय मंगला गौरी माता ब्रह्मा सनातन देवी शुभ फल कदा दाता। जय मंगला गौरी माता, जय मंगला गौरी माता।।     अरिकुल पद्मा विनासनी जय सेवक त्राता जग जीवन जगदम्बा हरिहर गुण गाता। जय मंगला गौरी माता, जय मंगला गौरी माता।।   सिंह को वाहन साजे कुंडल है, साथा देव वधु … Read more

कार्तिक मास की चतुर्दशी और पूर्णिमा पर अवश्य पढ़ें श्री विष्णु चालीसा, मिलेगा शुभ फल

कार्तिक मास की चतुर्दशी और पूर्णिमा पर अवश्य पढ़ें श्री विष्णु चालीसा, मिलेगा शुभ फल - WPage - क्यूंकि हिंदी हमारी पहचान हैं

Vishnu jee   किसी भी खास अवसर पर श्रीविष्णु पूजन का विशेष महत्व है। कार्तिक मास की चतुर्दशी और कार्तिक पूर्णिमा के दिन इस चालीसा का पाठ करने से पुण्‍य फल, शुभ फल प्राप्त होता हैं। विष्‍णु जी को प्रिय यह चालीसा आपके हर दुख-दर्द को मिटाने में सहायक सिद्ध है। यहां पढ़ें विष्णु चालीसा… … Read more

close