Dubai: 100% पेपरलेस वाली दुनिया की पहली सरकार बनी दुबई, क्राउन प्रिंस शेख हमदान ने किया ऐलान

दुबई सरकार के 100% पेपरलेस होने से 35 करोड़ डॉलर की बचत हुई है

दुबई सरकार दुनिया में पहली ऐसी सरकार बन गई है जो शत प्रतिशत पेपरलेस है। संयुक्त अरब अमीरात (UAE) के युवराज शेख हमदान बिन मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम (Sheikh Hamdan bin Mohammed bin Rashid Al Maktoum) ने घोषणा की कि दुबई सरकार शत प्रतिशत पेपरलेस वाली दुनिया की पहली सरकार बन गई है, जिससे 1.3 अरब दिरहम (35 करोड़ डॉलर) और एक करोड़ 40 लाख श्रम घंटों की बचत हुई है।

दुबई सरकार में सभी आंतरिक, बाहरी लेनदेन और प्रक्रियाएं अब शत प्रतिशत डिजिटल हैं तथा एक व्यापक डिजिटल सरकारी सर्विस प्लेटफॉर्म इसका प्रबंधन करता है। इस लक्ष्य की उपलब्धि जीवन के सभी पहुलओं को डिजिटलाइज करने की दुबई की यात्रा के नए पड़ाव की शुरुआत है।

Miss Universe Harnaaz Sandhu: भारत की हरनाज संधू के सिर पर मिस यूनिवर्स 2021 का सजा ताज

दुबई की पेपरलेस रणनीति को 5 लगातार चरणों में क्रियान्वित किया गया और हर चरण में दुबई सरकार के विभिन्न ग्रुप शामिल थे। पांचवे चरण के अंत में रणनीति को अमीरात में सभी 45 सरकारी विभागों में लागू कर दिया गया। ये विभाग 1,800 डिजिटल सेवाएं प्रदान करते हैं और 10,500 से ज्यादा प्रमुख लेन-देन करते हैं।

शेख हमदान ने एक बयान में कहा कि इस लक्ष्य को हासिल करना जीवन के सभी पहलुओं को डिजिटल बनाने की दुबई की यात्रा में एक नए चरण की शुरुआत का प्रतीक है। इस यात्रा का आधार कलात्मकता और भविष्य पर केंद्रित है।

उन्होंने कहा कि यह उपलब्धि दुबई की स्थिति को विश्व-अग्रणी डिजिटल पूंजी के रूप में और सरकारी संचालन और सेवाओं को डिजाइन करने में एक आदर्श मॉडल के रूप में इसकी स्थिति को मजबूत करती है जो ग्राहकों की खुशी के लिए काम करेगा।

दुबई युवराज ने कहा कि सरकार अगले पांच दशकों में दुबई में डिजिटल जीवन बनाने और बढ़ाने के लिए उन्नत रणनीतियों को लागू करने की योजना बना रही है। हालांकि यूएस, यूके, यूरोप और कनाडा ने बड़े पैमाने पर सरकारी संचालन को डिजिटाइज करने की योजना व्यक्त की है, लेकिन साइबर हमले की आशंका से उनका डिजिटाइज होने पर संशय बरकरार है।

यह भी पढ़े:  क्या 15सीए और 15सीबी फॉर्म इलेक्ट्रॉनिकली फाइल करना है अनिवार्य?
close