Exclusive: स्नैपडील आईपीओ के लिए आज दाखिल कर सकती है पेपर, 1,250 करोड़ रुपये का होगा फ्रेश इश्यू

सॉफ्टबैक के निवेश वाली स्नैपडील आज अपने आईपीओ से संबंधित पेपर सेबी में दाखिल कर सकती है।

सॉफ्टबैक के निवेश वाली स्नैपडील आज अपने आईपीओ से संबंधित पेपर सेबी में दाखिल कर सकती है। इस आईपीओ में 1250 करोड़ रुपये का फ्रेश इश्यू है। यह जानकारी सूत्रों के हवाले से दी जा रही है। इस आईपीओ में स्नैपडील का लीड इन्वेस्टर अपनी शेयरहोल्डिंग 34 फीसदी से घटाकर 24 फीसदी ला सकता है।

बता दें कि मनीकंट्रोल ने आपको पहले ही सूचित किया था कि सॉफ्टबैंक स्नैपडील में करीब 5 करोड़ डॉलर के आसपास की अपनी आंशिक हिस्सेदारी की बिक्री करेगा। कंपनी ने Bank of America, Axis Bank और JM Financial के इस आईपीओ के लिए बुक रनिंग लीड मैनेजर नियुक्त किया है।

पिछले हफ्ते स्नैपडील के फाउंडर कुणाल बहल ने अपने ब्लॉग में कहा था कि कंपनी एक ऐसा ब्रांड है जो मेट्रो शहरों के जेहन में नहीं बसता। स्नैपडील के 70 फीसदी कस्टमर टियर 2 टाउन से आते है जो वैल्यू फॉर मनी, किफायती वस्तुओं की खरीद के लिए स्नैपडील की और रुख करते है।

LIC IPO: सरकार ने देरी अटकलों को खारिज करके कहा, मार्च 2022 तक आ जाएगा LIC का इश्यू

उन्होंने इस ब्लॉग में आगे कहा था कि हमारे अधिकांश कस्टमर ऐसे है जिनकी आय 40,000 रुपये प्रति माह के आसपास है। इनमें से अधिकांश टियर 2 शहरों और कस्बों में रहते है। इनमें से अधिकांश परिवहन साधन के रुप में पब्लिक ट्रांसपोर्ट और टू-व्हीलर का उपयोग करते है।

अगर स्नैपडील का आईपीओ आता है तो यह पेटीएम के बाद आने वाला दूसरा सबसे बड़ा टेक कंपनी का आईपीओ होगा। बता दें कि स्नैपडील की स्थापना कुणाल बहल ने साल 2010 में की थी। कंपनी का फोकस टियर टू और टियर थ्री शहरों पर ज्यादा है। हालांकि कंपनी ने इस बारे में मीडिया के सवालों का कोई जवाब नहीं दिया है।

यह भी पढ़े:  Sigachi Industrial IPO: शेयरों का अलॉटमेंट ऐसे चेक करें और जानिए लिस्टिंग से पहले क्या चल रहा है GMP
close