Foxconn की भारतीय शाखा और Xiaomi के लिए फोन बनाने वाली Bharat FIH ने IPO के लिए सेबी में दाखिल की अर्जी

Kotak Mahindra Capital, Citi और BNP Paribas इस आईपी IPO के बुक रनिंग लीड मैनेडर होंगे।

Foxconn टेक्नोलॉजी ग्रुप कंपनी Bharat FIH ने सेबी में अपने आईपीओ के लिए अर्जी डाल दी है। मनीकंट्रोल को सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक कंपनी की इस आईपीओ के जरिए 5000 करोड़ रुपए जुटाने की योजना है। Bharat FIH एक लीडिंग इलेक्ट्रॉनिक मैन्यूफैक्चरिंग सर्विसेज ( EMS) कंपनी है जो मार्केट लीडर Xiaomi के लिए फोन बनाती है।

इस आईपीओ में 2500 करोड़ रुपए का फ्रेश इश्यू और 2500 करोड़ रुपए का ही ऑफर फार सेल होगा। कंपनी की पैरेंट Parent FIH Limited हांगकांग में लिस्ट है। इस आईपीओ से मिले पैसे का इस्तेमाल कंपनी के अपग्रेडेशन और वर्तमान कैंपस के विस्तार में किया जाएगा। कुछ पैसे का इस्तेमाल कंपनी की सहायक कंपनी RSHTPL की जरूरतों को पूरा करने के लिए किया जाएगा। इसके अलावा कंपनी की वर्किंग कैपिटल जरूरतों को पूरा करने के लिए कुछ पैसे का इस्तेमाल होगा।

Kotak Mahindra Capital, Citi और BNP Paribas इस आईपी IPO के बुक रनिंग लीड मैनेडर होंगे। जबकि Shardul Amarchand Mangaldas और S&R Associates इसके लिए लीगल एडवाइजर हैं। ये भी बता दें कि मनीकंट्रोल को इस खबर पर अभी तक Bharat FIH से कोई टिप्पणी नहीं मिली है।

Zee-Sony के मर्जर को बोर्ड की मंजूरी, मर्ज्ड इकाई में Sony की होगी 50.86% हिस्सेदारी

Bharat FIH ने आईपीओ के लिए दाखिल किए गए अपने DRHP में कहा है कि मार्च 2021 से हम अपने कारोबार में मोबाइल फोन के आलावा इंडस्ट्री के दूसरे क्षेत्रों में विस्तार कर रहे हैं। हमारा फोकस हाई ग्रोथ वाली ऐसी इंडस्ट्रीज  पर है जिसको मशीन, एलेक्ट्रिक व्हीकल टेलीविजन और हियरेबल्स के कारोबार वाली कंपनियों से काम मिलता है। इस तरह की कुछ इंडस्ट्रीज को भारत सरकार की पीएलआई स्कीम और आत्मनिर्भर भारत जैसी ये पहलों से फायदा होगा। mobile phone, telecom और networking products और IT hardware industries के लिए कंपनी के PLI आवेदन के अक्टूबर 2020, अक्टूबर 2021 और जुलाई 2021 में मंजूरी मिल गई है।

कंपनी ने आगे कहा है कि भारत में भारी अंडर पेनीटरेशन (चीजों, वस्तुओ या सेवाओं की आम लोगों तक कम पहुंच) और बढ़ते पर कैपिटा यूज को देखते हुए अनुमान है कि वित्त वर्ष 2026 तक भारत में कुल EMS (इलेक्ट्रॉनिक मैन्यूफैक्चरिंग सर्विसेज ) मार्केट 135 अरब डॉलर का होगा और इसमें 2021 से 2026 के बीच सालाना आधार पर 30.3 फीसदी की बढ़त देखने को मिल सकती है। जिसको देखते हुए भारत में कंपनी के लिए बड़ी संभावनाएं नजर आ रही हैं।

Bharat FIH भारत में  आंध्रप्रदेश और तमिलनाडु मे स्थित अपने कैंपस के जरिए कारोबार करती हैं। यहां मैन्यूफैक्चरिंग, वेयरहाउसिंग, लॉजिस्टिक्स और दूसरी सुविधाएं हैं। इस तीनों कैंपस में कुल 94 प्रोडक्शन लाइन्स हैं।

यह भी पढ़े:  Cryptocurrency: नए साल में क्रिप्टो निवेशक क्या करें?
close