IPOs के घटते ग्रे मार्केट प्रीमियम क्या रिटेल और HNI निवेशकों को चेतावनी दे रहे हैं?

कई एनालिस्टों का मानना है कि शेयर बाजारों में आई हालिया गिरावट का असर इन IPO के GMP पर पड़ा है

इनीशियल पब्लिक ऑफर (IPO) मार्केट में पिछले एक साल से जो जोश और उत्साह दिखाई दे रहा था, उसमें अब कुछ कमी आने के संकेत दिखने लगने हैं। हाल में कई आईपीओ की लिस्टिंग कमजोर देखने को मिली है और जो आईपीओ अभी सब्सक्रिप्शन के लिए खुले हैं या लिस्टिंग का इंतजार कर रहे हैं, उनके ग्रे मार्केट प्रीमियम (GMP) में तेज गिरावट देखने को मिली है।

एनालिस्टों का कहना है कि शेयर बाजारों में आई हालिया गिरावट और कुछ आईपीओ की हालिया कमजोर लिस्टिंग ने रिटेल और हाई नेट वर्थ इनवेस्टर्स (HNI) को एक तरह से चेतावनी दी है IPO मार्केट में आया बूम कभी भी पटरी से उतर सकता है।

एक ट्रेडर्स ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि सिर्फ एक हफ्ते पहले तक कई IPOs वाले कंपनियों के शेयर पीक पर ट्रेड कर रहे थे। उसने बताया एक हफ्ते पहले मैपमायइंडिया की पैरेंट कंपनी CE इंफोसिस्टम्स (CE Info Systems), मेडप्लस हेल्थ सर्विसेज (Medplus Health Services), डेटा पैटर्नस इंडिया (Data Patterns India), मेट्रो ब्रांड्स लिमिटेड (Metro Brands Ltd), HP एडहेसिव्स लिमिटेड (HP adhesives Ltd), सुप्रिय लाइफसाइसेंज लिमिटेड (Supriya Lifescience Ltd) के ग्रे मार्केट प्रीमियम क्रमश: 1060 रुपये, 250 रुपये, 600 रुपये, 22 रुपये, 200 रुपये, 270 रुपये थे। सोमवार को यह प्रीमियम घटकर क्रमश: 550 रुपये, 150 रुपये, 175 रुपये, 100 रुपये डिस्काउंट पर, 62 रुपये और 87 रुपये पर आ गया।

आप इसे इस ग्राफ से भी समझ सकते हैं:

कई एनालिस्टों का मानना है कि शेयर बाजारों की वैल्यूएशन अधिक होने और उनमें आई हालिया गिरावट का असर भी इन GMP पर पड़ा है, जिसके चलते इनमें गिरावट देखी जा रही है। हाल ही में बाजार से काफी अधिक रकम जुटाने वाली कंपनियों के IPO की कमजोर लिस्टिंग ने भी निवेशकों के सेंटीमेंट को प्रभावित किया है।

JST Investments के सीओओ आदित्य कोंडावर ने बताया, “यह कोई छिपा हुआ तथ्य नहीं है कि हाल में आए कुछ IPO अपने वैल्यूएशन में सेफ्टी मार्जिन के लिए कोई जगह नहीं छोड़ रहे हैं।”

उन्होंने कहा, “IPO के लिए आगे की राह थोड़ी कठिन लगती है। खासतौर से हाल में कुछ आईपीओ की डिस्काउंट पर लिस्टिंग होने, शेयर बाजारों में आई हालिया गिरावट और कुछ हाल में लिस्ट हुए शेयरों में भारी गिरावट को देखते हुए यह आसानी से कहा जा सकता है। आदर्श रूप से देखें तो इन परिस्थितियों में कंपनियां बाजार में सही माहौल के लौटने का इंतजार कर सकती है। आने वाले समय में दुनिया भर में सेंट्रल बैंकों की तरफ से सख्ती और ओमीक्रोन वेरिएंट के चलते कुछ देशों में लॉकडाउन जैसे उपायों से बाजार प्रभावित रहेगा।”

Paytm की पैरेंट कंपनी वन97 कम्युनिकेशंस लिमिटेड (One97 Communications Ltd) और हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी स्टार हेल्थ एंड एलाइड इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड (Star Health & Allied Insurance Co Ltd ) जैसे कुछ बड़े IPO की लिस्टिंग उम्मीद कमजोर रही। Paytm के शेयर अपने IPO प्राइस से 40%, जबकि स्टार हेल्थ एंड एलाइड के शेयर 11% नीचे गिर गए हैं। अन्य लिस्टिंग की बात करें तो श्रीराम प्रॉपर्टीज (Shriram Properties) और रेटगेन ट्रैवल टेक्नोलॉजीज (RateGain Travel Technologies) के IPO अपने इश्यू प्राइस से करीब 20% कम पर लिस्ट हुए थे। आनंद राठी वेल्थ (Anand Rathi Wealth) और सैफायर फूड्स (Sapphire Foods) की लिस्टिंग भी कमजोर रही थी।

यह भी पढ़े:  AGS Transact IPO: 19 जनवरी को खुलेगा साल का ये पहला आईपीओ, जानिए प्राइस बैंड और दूसरी अहम बातें
close