Latent View IPO: रिकॉर्ड 326 गुना अधिक सब्सक्राइब हुआ इश्यू, निवेशकों को जबरदस्त लिस्टिंग गेन की उम्मीद

Latent View IPO के लिए रिटेल निवेशकों ने 119.44 गुना अधिक बोली लगाई

लैटेंट व्यू एनालिटिक्स (Latent View Analytics) के आईपीओ (IPO) को लेकर निवेशकों में जबरदस्त उत्साह देखने को मिला। कंपनी के 1.75 करोड़ इक्विटी शेयर के बदले में उसे 572.18 करोड़ इक्विटी शेयरों के लिए बोली मिली। इस तरह लैटेंट व्यू के आईपीओ को रिकॉर्ड 326.49 गुना अधिक सब्सक्रिप्शन मिला है।

रिटेल निवेशकों ने इस आईपीओ में काफी दिलचस्पी दिखाई और उनके हिस्से के लिए आरक्षित कैटेगरी में 119.44 गुना अधिक बोली देखने को मिली। आईपीओ में एक हिस्सा कंपनी के कर्मचारियों के लिए भी रिजर्व रखा गया है, जिन्होंने 3.87 गुना अधिक बोली लगाई।

क्वालिफाइड इंस्टीट्यूशनल इनवेस्टर्स (QIB) के रिजर्व हिस्से को 145.8 गुना अधिक सब्सक्राइब किया गया। जबकि नॉन-इंस्टीट्यूशनल इनवेस्टर्स ने अपने हिस्से के लिए आरक्षित शेयर की 850.66 गुना अधिक बोली लगाई। इस तरह Latent View Analytics के आईपीओ को कुल 326.49 गुना अधिक सब्सक्राइब किया गया।

Latent View Analytics का आईपीओ बुधवार 10 नवबंर को बोली के लिए खुला था। कंपनी ने आईपीओ के लिए 190-197 रुपये का प्राइस बैंड तय किया है, जिसे कई एनालिस्ट वाजिब बता रहे हैं। अधिकतर ब्रोकरेज ने इस आईपीओ को सब्सक्राइब करने की सलाह दी थी।

Latent View Analytics IPO GMP

एक रिपोर्ट के मुताबिक, अनलिस्टेड मार्केट में Latent View Analytics के शेयर करीब 500 रुपये के भाव पर ट्रेड कर रहा है। यह आईपीओ के लिए तय ऊपरी प्राइस बैंड से करीब 300 रुपये अधिक है। इसे देखते हुए कई निवेशक 100 पर्सेंट से अधिक की लिस्टिंग गेन की उम्मीद कर रहे हैं।

Latent View Analytics अपने IPO से 600 करोड़ रुपए जुटाने वाली है। इस इश्यू में 474 करोड़ रुपए का फ्रेश इश्यू और 126 करोड़ रुपए का ऑफर फॉर सेल (OFS) होगा। इस ऑफर फॉर सेल में कंपनी के प्रमोटर Adugudi Viswanathan Venkatraman अपनी हिस्सेदारी बेचेंगे। इसके अलावा गोपीनाथ कोटीश्वरन, रमेश हरिहरन, शुभ्रमण्यम रामचंद्रन, दिव्या बालकृष्णन, राजकुमार कलिया पेरूमल, रियाबालकृष्णन और नवीन लोगनाथन जैसे दूसरे प्रमोटर और शेयर होल्डर अपनी हिस्सेदारी बेचेंगे।

कैसा है कंपनी का कारोबार?

Latent View का ज्यादातर काम कस्टमर एनालिटिक्स से जुड़ा हुआ है। हालांकि ग्लोबल कस्टमर एनालिटिक्स का मार्केट कुल एनालिटिक्स खर्च का सिर्फ 9% है। लेकिन 2020-2024 के दौरान यह 26% CAGR से बढ़ने की उम्मीद है।

कंपनी की अधिकतम कमाई अमेरिका से होती है। कंपनी की इनकम में अमेरिकी हिस्सेदारी 92.88% है, जबकि कंपनी के आय में UK कारोबार की हिस्सेदारी 1.85 फीसदी है। वित्त वर्ष 2021 में कंपनी के कंसोलिडेट मुनाफे में 25.6 फीसदी की बढोत्तरी रदेखने को मिली थी और यह 91.46 करोड़ रुपये रही था। हालांकि इसी अवधि में कपनी की आय 1.4 फीसदी घटी थी और यह 305.88 करोड़ रुपये पर रही थी।

सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।

यह भी पढ़े:  Business Idea: IRCTC के साथ शुरू करें यह बिजनेस, हर महीने होगी मोटी कमाई
close