LIC इस महीने के तीसरे हफ्ते तक सेबी में दाखिल कर सकती है अपने IPO की अर्जी- रिपोर्ट

एलआईसी का आईपीओ करीब 1 लाख करोड़ रुपये होगा। ये भारत का अब तक का सबसे बड़ा आईपीओ इश्यू होगा।

Times of India में छपी खबर के मुताबिक एलआईसी अपने प्रस्तावित आईपीओ के लिए सेबी में जनवरी महीने के तीसरे हफ्ते तक ड्राफ्ट पेपर ( अर्जी) दाखिल कर सकता है।

टाइम्स ऑफ इंडिया को सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक एलआईसी के अधिकारियों ने ग्लोबल निवेशकों के साथ हुए बातचीत में इस बात के संकेत दिए हैं। वित्त मंत्रालय के अधिकारी पिछले कई महीने से यह कहते रहें है कि आईपीओ की लिस्टिंग वित्त वर्ष 2022 के पहले संपन्न हो जाएगी।

मनीकंट्रोल इस खबर की स्वतंत्र रुप से पुष्टि नहीं करता है।

डिजिटल कम्युनिकेशन कमिशन की अहम बैठक आज, जानिये कौन से 3 बड़े प्रस्तावों को मिल सकती है हरी झंडी

गौरतलब है कि एलआईसी का आईपीओ करीब 1 लाख करोड़ रुपये होगा। ये भारत का अब तक का सबसे बड़ा आईपीओ इश्यू होगा। एलआईसी के अधिकारियों ने निवेशकों से हुई अपनी बातचीत में यह भी कहा है कि कंपनी नॉन पार्टिसिपेटिंग प्रोडक्ट्स जैसे पेंशन, एन्यूइटी, हेल्थ इंश्योरेंस और ULIPS पर अपना फोकस बड़ा रही है। यह कंपनी के प्रोडक्ट पोर्टफोलियों को डायवर्सिफाइ करने की योजना के तहत किया जा रहा है। इसके अलावा कंपनी नए नॉन पार्टिसिपेंटिग प्रोडक्ट लॉन्च करने की तैयारी में है।

अधिकारियों ने यह भी बताया है कि आगे कंपनी की फोकस bancassurance (बैंकाश्योरेंस) जैसे प्रोडक्ट पर रहेगा। कंपनी bancassurance प्रोडक्ट में अपनी हिस्सेदारी बढ़ाना चाहती है इसके लिए वह अधिक से अधिक पार्टनर के साथ करार भी कर रही है। bancassurance पार्टनर्स की प्रोडिक्टिव बढ़ाने के लिए एलआईसी डिजिटलीकरण पर भी फोकस कर रही है। LIC की लिस्टिंग के बाद यह मार्केट कैप के हिसाब से देश की सबसे बड़ी कंपनी बन जाएगा। कंपनी का वैल्यूएशन 8-10 लाख करोड़ रुपए हो सकता है।

यह भी पढ़े:  Adani Wilmar का IPO इसी महीने में हो सकता है लॉन्च, साइज घटाकर ₹3,600 करोड़ किया

Redirecting in 10 seconds

Close
close