LIC के IPO को ‘सुपरहिट’ बनाने की तैयारी, विदेशी निवेश को लेकर यह बड़ा कदम उठाने जा रही सरकार

DPIIT के सेक्रेटरी अनुराग जैन ने कहा कि इंश्योरेंस सेक्टर से जुड़ी मौजूदा FDI पॉलिसी LIC की विनिवेश प्रक्रिया को आसान नहीं बनाएगी

LIC IPO: लाइफ इंश्योरेंस कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (LIC) की विनिवेश प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए कॉमर्स एंड और इंडस्ट्री मिनिस्ट्री, FDI पॉलिसी में बदलाव करने की तैयारी कर रही है। एक शीर्ष सरकारी अधिकारी ने गुरुवार 6 जनवरी को यह जानकारी दी।

डिपार्टमेंट फॉर प्रमोशन ऑफ इंडस्ट्री एंड इंटरनल ट्रेड (DPIIT) के सेक्रेटरी अनुराग जैन ने कहा कि इंश्योरेंस सेक्टर से जुड़ी मौजूदा FDI पॉलिसी LIC की विनिवेश प्रक्रिया को आसान नहीं बनाएगी। इसलिए इसमें संशोधन की जरुरत है।

अनुराग जैन ने कहा, “हम FDI पॉलिसी को और आसान बनाने पर काम कर रहे हैं। इस बदलाव की तुरंत जरुरत है क्योंकि हमें LIC का विनिवेश करना है। इसी को ध्यान में रखते हुए संशोधित FDI पॉलिसी ला रहे हैं, जो एलआईसी की विनिवेश प्रक्रिया को आसान बनाएगी।” उन्होंने बताया कि इस बारे में डिपार्टमेंट ऑफ फाइनेंशियल सर्विसेस (DFS) और डिपार्टमेंट ऑफ इनवेस्टमेंट एंड पब्लिक एसेट मैनेजमेंट (DIPAM) के साथ चर्चा की जा रही है।

Upcoming IPO: पैसे लगाने के लिए हो जाइए तैयार, अडानी विल्मर सहित इन 8 कंपनियों के आने वाले हैं आईपीओ

जैन ने कहा, “हमारे स्तर पर अभी तक दो दौर की चर्चा हो चुकी है और तीनों विभागों में इसको लेकर सहमति है। हम FDI पॉलिसी में जरुरी बदलावों का मसौदा तैयार करने की प्रक्रिया में हैं और इसे मंजूरी के लिए मंत्रिमंडल के पास भेजेंगे।”

बता दें कि मौजूदा FDI पॉलिसी के मुताबिक, इश्योरेंस सेक्टर में ऑटोमेटिक रूट से 74 फीसदी तक विदेशी निवेश की अनुमति है। हालांकि, यह नियम एलआईसी पर लागू नहीं होते हैं क्योंकि इसकी स्थापना संसद में एक एक्ट पास करके की गई थी। यूनियन कैबिनेट ने पिछले साल जुलाई में LIC के इनीशियल पब्लिक ऑफर (IPO) को लाने की मंजूरी दी थी। LIC के आईपीओ को 31 मार्च 2022 से पहले लाने की योजना है।

यह भी पढ़े:  Paytm IPO Subscription: दूसरे दिन तक 48% भरा इश्यू, रिटेल पोर्शन 1.23 गुना भरा, जानिए क्या है GMP

Redirecting in 10 seconds

Close
close