LIC दिसंबर में आईपीओ के लिए दाखिल कर सकती है अर्जी, एंकर निवेशकों से बातचीत अगले हफ्ते में मुमकिन

एलआईसी का आईपीओ मार्च 2022 तक बाजार में लाया जाएगा। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन ने पिछले महीने कहा था कि इस आईपीओ में होने वाली किसी भी देरी की वजह सरकार की इच्छा शक्ति की कमजोरी नहीं होगी।

सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक अगले हफ्ते से बैंकर एलआईसी के आईपीओ में निवेश करने वाले संभावित एंकर निवेशकों से संपर्क करना शुरु कर सकते हैं। आईपीओ से जुड़े बैंकर यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि देश के अब तक के सबसे बड़े शेयर सेल की पर्याप्त डिमांड देखने को मिले।

मामले की जानकारी रखने वाले सूत्रों ने नाम की गोपनीयता बनाए रखने के शर्त पर बताया है कि करीब 100 ग्लोबल इन्वेस्टरों की सूची इस डील पर काम पर रहे 10 बैंकों को दी गई है। इसके बाद ये बैंक अलग-अलग निवेशकों से संपर्क साधेंगे।

एक सूत्र ने यह भी बताया कि एक बार कंपनी का वैल्यूएशन तय हो जाने पर एलआईसी अपने आईपीओ की अर्जी सेबी में दिसंबर के पहले हफ्ते दाखिल कर सकती हैं। हालांकि मीडिया को एलआईसी की तरफ से इस खबर पर अभी तक सीधे कोई जवाब नहीं मिला है।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद एलआईसी के आईपीओ को लेकर सक्रिय भूमिका निभा रहे हैं। इस आईपीओ के जरिए एलआईसी 400 अरब रुपये से 1 खरब रुपये तक जुटा सकती है जिससे बढ़ते बजटीय घाटे को पूरा किया जा सकेगा।

भारत सरकार इस आईपीओ के लिए एलआईसी का वैल्यूएशन 8 खरब रुपये से 10 खरब रुपये के बीच रखना चाहती है। भारत सरकार अपने विनिवेश लक्ष्य के तहत एलआईसी में अपनी 5 से 10 फीसदी तक हिस्सेदारी बेच सकती है। सरकार अलग-अलग निवेशकों को देश में आकर्षित करने के लिए एलआईसी में सीधे विदेशी निवेश को भी मंजूरी दे सकती है।

संभावित निवेशकों से बातचीत के चलते आईपीओ की तरफ कदम बढ़ते नजर आएंगे। हालांकि इस दिशा में अभी तक होने वाली प्रगति काफी धीमी रही है। एलआईसी के इम्बेडेड वैल्यू के मूल्यांकन में अभी तक लगभग 8 महीने का समय बीच चुका है लेकिन इसको अंतिम रुप नहीं मिल पाया है। इस मूल्यांकन के संपन्न हो जाने पर ही यह आईपीओ की प्रक्रिया आगे बढ सकती है।

सरकार ने एलान किया है कि एलआईसी का आईपीओ मार्च 2022 तक बाजार में लाया जाएगा। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन ने पिछले महीने कहा था कि इस आईपीओ में होने वाली किसी भी देरी की वजह सरकार की इच्छा शक्ति की कमजोरी नहीं होगी।

बता दें कि सरकार ने इस आईपीओ के प्रबंधन के लिए Kotak Mahindra Bank, Goldman Sachs Group Inc, JPMorgan Chase & Co और ICICI Securities Ltd सहित 10 बैंकों की नियुक्ति की है।

यह भी पढ़े:  Aether Industries ने आईपीओ के लिए सेबी में दाखिल की अर्जी, जानिए अहम बातें
close