LIC IPO: इस वित्त वर्ष में LIC के IPO की आने की उम्मीद नहीं, जानिए किस वजह से हो रही है देरी

LIC के वैल्यूएशन का काम अभी पूरा नहीं हुआ है। इसके पूरे होने के बाद भी इश्यू से संबंधित कई रेगुलेटरी प्रोसेस को पूरा करने में वक्त लगेगा

LIC IPO News: देश की सबसे बड़ी इंश्योरेंस कंपनी भारतीय जीवन बीमा निगम (Life Insurance Corporation -LIC) का आईपीओ चालू वित्त वर्ष 2021-22 में आने की संभावना कम ही दिख रही है। इसकी वजह ये है कि इसके वैल्यूएशन का काम अभी बाकी है। इसमें अभी और टाइम लग सकता है।

एक मर्चेंट बैंकर के एक सीनियर अधिकारी ने कहा कि वैल्यूएशन में वास्तव में जरूरत से ज्यादा समय लग रहा है और इसलिए अब तक इससे जुड़ी औपचारिकताएं ही पूरी नहीं हो पाई है। कई मसले हैं जिनकी वजह से LIC का वैल्यूएशन पूरा करने में दिक्कत आ रही है। वैल्यूएशन का काम पूरा हो जाने के बाद भी IPO से जुड़ी रेगुललेटरी प्रॉसेस को पूरा करने में वक्त लगेगा।

मर्चेंट बैंकर के साथ काम कर रहे एक अधिकारी ने कहा कि किसी कंपनी के IPO लाने से पहले सिक्योरिटी एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (Securities and Exchange Board of India –SEBI) को न सिर्फ उस बारे में पूरी जानकारी देनी होती है बल्कि कारोबार करने वाली कंपनी के रेगुलेटर से भी मंजूरी लेनी होती है। मजेदार बात यह है कि इंश्योरेंस रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (Insurance Regulatory and Development Authority of India -Irdai) के प्रमुख का पद पिछले 7 महीने से खाली है।

LIC IPO: 10 लाख करोड़ का वैल्यूएशन चाहती है भारत सरकार, इस घाटे को करेगी पूरा

LIC के पास है बड़ी संपत्ति

LIC देश की ही नहीं दुनिया की सबसे बड़ी बीमा कंपनियों में से एक है। एक अन्य अधिकारी ने कहा कि इसके वैल्यूएशन में दिक्कत इसलिए आ रही है क्योंकि इसके बड़े आकार प्रोडक्ट मिक्स, रियल स्टेट एसेट (real estate assets), सहयोगी सब्सिडियरी और मुनाफा शेयर करने के स्ट्रक्चर (subsidiaries and profitability sharing structure) काफी जटिल प्रक्रिया हैं। वैल्यूएशन का काम पूरा नहीं होने तक शेयर बिक्री का साइज भी नहीं तय किया जा सकता है।

Flipkart अगले साल ला सकती है अपना IPO, भारत की जगह विदेशों में लिस्टिंग की तैयारी

अधिकारी ने आगे कहा कि भारत में किसी कंपनी को शेयर बाजार में लिस्ट कराने की प्रक्रिया इतनी जटिल है कि LIC का वैल्यूएशन पूरा करने के बाद भी बाकी औपचारिकताएं पूरी करने में 3-4 महीने का समय लग सकता है। इस हिसाब से चालू वित्त वर्ष में LIC का IPO आने की उम्मीद नहीं है। बता दें कि सरकार चालू वित्त वर्ष में ही LIC का IPO लाने की कोशिश में लगी हुई है। दरअसल इस वित्त वर्ष के विनिवेश लक्ष्य 1.75 लाख करोड़ रुपये को हासिल करने में यह IPO अहम भूमिका निभा सकता है। इसके अलावा सरकार को BPCL की रणनीतिक बिक्री से भी काफी उम्मीद है।

यह भी पढ़े:  HP Adhesives IPO: एडहेसिव बनाने वाली इस कंपनी का इश्यू आज खुला, जानिए क्या इसमें निवेश करना ठीक है?

Redirecting in 10 seconds

Close
close