LIC IPO: एलआईसी के IPO को ‘लुभावना’ बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती भारत सरकार

LIC IPO: एलआईसी के IPO का साइज 40,000 करोड़ रुपये से 1 लाख करोड़ तक के होने का अनुमान है

LIC IPO: लाइफ इंश्योरेंस कॉरपोरेशन (LIC) के इनीशियल पब्लिक ऑफर (IPO) को सफल बनाने के लिए भारत सरकार कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती है। इसमें कैपिटल मार्केट के नियमों में बदलाव से लेकर फोन मैसेज भेजना, अखबारों में विज्ञापन देने तक, भारत सरकार के अधिकारी यह सुनिश्चित करने की हर कोशिश कर रहे है कि LIC का आईपीओ सफल हो।

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार के आर्थिक एजेंडे में LIC का आईपीओ एक प्रमुख एजेंडा है। इस आईपीओ का साइज 40,000 करोड़ रुपये से 1 लाख करोड़ तक के होने का अनुमान है। आईपीओ से मिलने वाली रकम का इस्तेमाल भारत सरकार अरने राजकोषीय घाटे को पूरा करने में करेगी।

मुंबई मुख्यालय Piper Serica Advisors के फंड मैनेजर अभय अग्रवाल ने बताया, “LIC का आईपीओ साइज लुभावना है। सरकार के लिए इस आईपीओ को लाने के विए नियमों में बदलाव करना तो आसान होगा। हालांकि 50,000 करोड़ के साइज को पार करने के लिए मार्केटिंग के स्तर पर काफी प्रयास करने होंगे।”

VIVO की जगह अगले साल से TATA ग्रुप होगा IPL का टाइटल स्पॉन्सर

हाल ही में एक अधिकारी ने बताया कि सरकार LIC में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) को आसान बनाने के लिए FDI नियमों में संशोधन करने की तैयारी कर रही है, जिससे विदेशी निवेशकों को आकर्षित किया जा सके। अधिकतर भारतीय इंश्योरेंस कंपनियों में विदेशी निवेशों के लिए इक्विटी हिस्सेदारी की इजाजत है। हालांकि यह नियम अब तक LIC पर नहीं लागू होता है क्योंकि LIC संसद के एक एक्ट के जरिए पास कर बनाई गई एक अलग कंपनी है। अब इसमें सरकार बदलाव कर रही है।

सरकार न सिर्फ LIC के मेगा आईपीओ में विदेशी निवेशकों को बोली लगाने की इजाजत देगी, बल्कि वह उन्हें एक्सचेजों पर लिस्ट होने के बाद उन्हें LIC में और अधिक हिस्सेदारी खरीदने की भी इजाजत देगी।

‘तैयार रहें’

LIC के आईपीओ के लिए तैयारियां अब अपने आखिरी चरण में है। इसके साथ ही LIC अपने पॉलिसीधारकों को SMS भेजकर और अखबारों में विज्ञापन देकर आईपीओ के लिए तैयार रहने को कह रही है। LIC ने अपने ग्राहकों को पहले ही कुछ पर्सनल डिटेल्स को अपडेट कराने की सलाह दी है, जिससे उन्हें आईपीओ को सब्सक्राइब करते समय कोई दिक्कत न आए।

यह भी पढ़े:  JBM Auto के शेयर में लगा 5% का अपर सर्किट, ग्रुप कंपनियों में 51% स्टेक खरीदने की खबर से तेजी
close