LIC IPO के लिए सिरिल अमरचंद मंगलदास होगी लीगल एडवाइजर

सरकार के लिए इस फाइनेंशियल ईयर में डिसइनवेस्टमेंट का टारगेट पूरा करने में कंपनी का पब्लिक ऑफर मददगार होगा

लाइफ इंश्योरेंस कॉरपोरेशन (LIC) के IPO के लिए सरकार ने सिरिल अमरचंद मंगलदास को लीगल एडवाइजर के तौर पर शॉर्टलिस्ट किया है। चार लॉ फर्मों क्रॉफोर्ड बेली, सिरिल अमरचंद मंगलदास, लिंक लीगल और शार्दूल अमरचंद मंगलदास ने डिपार्टमेंट ऑफ इनवेस्टमेंट एंड पब्लिक एसेट मैनेजमेंट (DIPAM) को 24 सितंबर को प्रेजेंटेशन दी थी।

प्रेजेंटेशन  के बाद सिरिल अमरचंद मंगलदास को इस IPO के लिए लीगल एडवाइजर चुना गया है।

DIPAM ने लीगल एडवाइजर्स से बिड्स मंगाने के लिए 15 जुलाई को RFP जारी किया था। हालांकि, इसे लेकर अधिक रिस्पॉन्स नहीं मिला था। इसके बाद 2 सितंबर को नया RFP जारी किया गया था।

केंद्र सरकार ने जलन के कारण मुझे रोम ग्लोबल पीस मीटिंग में नहीं जाने दियाः ममता बनर्जी

LIC के  IPO के लिए 10 मर्चेंट बैंकर्स को पहले ही चुना जा चुका है। यह देश में अभी तक का सबसे बड़ा पब्लिक ऑफर हो सकता है। इसके मर्चेंट बैंकर्स में गोल्डमैन सैक्स ग्रुप, ICICI सिक्योरिटीज, सिटीग्रुप, कोटक महिंद्रा कैपिटल कंपनी, JM फाइनेंशियल और नोमुरा होल्डिंग्स शामिल हैं।

सरकार अगले वर्ष मार्च तक कंपनी का IPO लाना चाहती है। देश की इस सबसे बड़ी इंश्योरेंस कंपनी में स्टेक लेने की विदेशी इनवेस्टर्स को अनुमति देने पर भी विचार किया जा रहा है।

कैपिटल मार्केट रेगुलेटर सेबी के नियमों के अनुसार, फॉरेन पोर्टफोलियो इनवेस्टर्स (FPI) को पब्लिक ऑफर में शेयर्स खरीदने की अनुमति है। हालांकि, LIC एक्ट में विदेशी इनवेस्टमेंट का कोई प्रावधान नहीं होने के कारण कुछ बदलाव करना होगा।

सरकार इस फाइनेंशियल ईयर में डिसइनवेस्टमेंट का 1.75 लाख करोड़ रुपये का टारगेट पूरा करने के लिए LIC की लिस्टिंग पर निर्भर है। सरकार ने अभी तक PSU में कुछ हिस्सेदारी और एक्सिस बैंक में स्टेक बेचकर लगभग 9,110 करोड़ रुपये जुटाए हैं।

सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।

 

 

यह भी पढ़े:  GST अधिकारियों ने मुंबई जोन में ₹22 करोड़ के नकली इनपुट टैक्स क्रेडिट रैकेट का किया भंडाफोड़, दो गिरफ्तार
close