Metro Brands IPO: राकेश झुनझुनवाला के निवेश वाली कंपनी का इश्यू आज खुला, जानिए क्या निवेश करना ठीक है?

कंपनी के इश्यू का प्राइस बैंड 485-500 रुपए है, 500 रुपये के ऊपरी प्राइस बैंड के हिसाब से, कंपनी इस आईपीओ से करीब 1,367.5 रुपये जुटाने की तैयारी में है

Metro Brands IPO: राकेश झुनझुनवाला के निवेश वाली मेट्रो ब्रांड्स (Metro Brands) के शेयर 10 दिसंबर को खुलेंगे और 14 दिसंबर को बंद होंगे। कंपनी के इश्यू का प्राइस बैंड 485-500 रुपए है। 500 रुपये के ऊपरी प्राइस बैंड के हिसाब से, कंपनी इस आईपीओ से करीब 1,367.5 रुपये जुटाने की तैयारी में है। इसमें 295 करोड़ रुपये का फ्रेश इश्यू और 1,072.5 करोड़ रुपये का ऑफर-फॉर-सेल (OFS) शामिल है। ऑफर-फॉर-सेल (OFS) के तहत, कंपनी के प्रमोटर और शेयरहोल्डर्स अपने करीब 2.14 करोड़ शेयर बिक्री के लिए रखेंगे।

देश की सबसे बड़ी फुटवियर स्पेशियल्टी रिटेलर्स, मेट्रो ब्रांड्स लिमिटेड (Metro Brands Limited) का इनीशियल पब्लिक ऑफर (IPO) 10 दिसंबर को खुलने वाला है। Metro Brands Limited (MBL) के पास फुटवियर इंडस्ट्री के कुछ सबसे बड़े ब्रांड्स जैसे- मेट्रो (Metro), मोची (Mochi), वॉकवे (Walkway), डा विंची (Da Vinchi) और जे फोंटिनी (J. Fontini) आदि शामिल हैं। इसके अलावा इसके पास क्रॉक्स (Crocs), स्केचर्स (Skechers), क्लार्क्स (Clarks), फ्लोरशैम (Florsheim) और फिटफ्लॉप (Fitflop) जैसे कुछ थर्ड पार्टी ब्रांड्स भी हैं। 1955 में मुंबई से शुरू हुई इस कंपनी में दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला का भी निवेश हैं।

क्या करें निवेशक?

चॉइस ब्रोकिंग का मानना है कि मेट्रो ब्रांड सबसे बड़ी फुटवेयर कंपनियों में से एक है। ऑर्गेनाइज्ड मार्केट में इसकी 3-4% हिस्सेदारी है। इन सबको देखते हुए चॉइस ब्रोकिंग ने इसको खरीदने की सलाह दी है।

फिस्कल ईयर 2021 में कोरोनावायरस संक्रमण का फुटवेयर मार्केट पर बहुत असर पड़ा है। 500 रुपए के अपर प्राइस बैंड के मुताबिक, इसका P/E 89.2 गुना है। यह प्रतिद्वंदी कंपनियों के मुकाबले ज्यादा है। प्रतिद्वंदी कंपनियों का P/E 71.7 गुना है।

कंपनी के प्रमोटरों के पास फिलहाल कंपनी की 83.99 पर्सेंट हिस्सेदारी है और आईपीओ के बाद उनकी हिस्सेदारी घटकर 74.27 %  पर आ जाएगा। वहीं दूसरी तरफ कंपनी में पब्लिक शेयरहोल्डिंग 16.01 पर्सेंट से बढ़कर 25.73 पर्सेंट हो जाएगी।

Metro Brands IPO: राकेश झुनझुनवाला के निवेश वाली एक और कंपनी का आया IPO, निवेश से पहले जानिए डिटेल

आईपीओ का 50 पर्सेंट हिस्सा क्वालिफाइड इंस्टीट्यूशनल बायर्स (QIB) के लिए आरक्षित रखा गया है, जबकि रिटेल निवेशकों के लिए 35 पर्सेंट हिस्सा अलग रखा गया है। वहीं नॉन-इंस्टीट्यूशनल इनवेस्टर्स (NII) के लिए 15 पर्सेंट हिस्सा रिजर्व रहेगा।

कहां होगा फंड का इस्तेमाल?

IPO से कंपनी को 295 करोड़ रुपये मिलेंगे। इसमें से 225 करोड़ रुपये का इस्तेमाल मेट्रो, मोची, वॉकवे और क्रॉक्स ब्रांड्स के नए स्टोर्स खोलने पर खर्च किए जाएंगे। वहीं बाकी रकम दूसरे कॉरपोरे उद्देश्यों को पूरा करने में किया जाएगा।

आईपीओ के लिए रिटेल इनवेस्टर्स लॉट में बोली लगा सकते हैं। एक लॉट में कंपनी के 30 इक्विटी शेयर होंगे। अधिकतम 13 लॉट के लिए बोली लगाई जा सकती है। न्यूनतम एक लॉट की बोली लगाने के लिए निवेशकों को 15,000 रुपये और अधिकतम 13 लॉट की बोली लगाने के लिए 1.95 लाख रुपये निवेश करने होंगे।

क्या चल रहा है GMP?

IPO watch के मुताबिक ग्रे मार्केट में मेट्रो ब्रांड्स लिमिटेड (MBL) के शेयर 40 रुपए प्रीमियम पर ट्रेड कर रहे हैं। यह एक दिन पहले के मुकाबले यह 30 रुपए कम हो गया है। बाजार के जानकारों का कहना है कि इश्यू खुलने से पहले इसके प्रीमियम में उतार-चढ़ाव जारी है।

कब होगी लिस्टिंग

कंपनी के शेयरों का अलॉटमेंट 17 दिसंबर को होगा और कंपनी की योजना इसे 22 दिसंबर को BSE और NSE पर लिस्ट करने की है।

क्या करती है कंपनी?

मेट्रो ब्रांड्स लिमिटेड ने 1955 में मुंबई में अपना पहला स्टोर खोला था। आज देश के करीब 134 शहरों में कंपनी के 586 स्टोर हैं। जूतों के मामले में यह देश की सबसे बड़ी रिटेलर्स है। कंपनी ने बताया कि सितंबर तिमाही में उसकी आमदनी 490 करोड़ रुपये रही थी और इसका नेट प्रॉफिट 43 करोड़ रुपये रहा था।

यह भी पढ़े:  Business Idea: करें इस ‘हरे सोने’ का कारोबार, पूरे साल देगा मोटा मुनाफा और कभी नहीं होगा फेल
close