Shriram Properties : 20% कमजोरी के साथ लिस्ट हुआ शेयर, अब क्या करें इनवेस्टर्स?

कमजोर लिस्टिंग के साथ इनवेस्टर्स के मन में यही सवाल है कि आगे इस शेयर में क्या रणनीति होनी चाहिए। उनकी इस चिंता को दूर करने के लिए हम यहां 5 मार्केट एक्सपर्ट की राय सामने रख रहे हैं…

Shriram Properties Share : रियल एस्टेट डेवलपर श्रीराम प्रॉपर्टीज (एसपीएल) की सोमवार यानी 20 दिसंबर को कमजोर मार्केट में 20 फीसदी डिस्काउंट पर लिस्टिंग हुई। हालांकि कंपनी के पहले पब्लिक इश्यू को 8-10 दिसंबर के दौरान 4.6 गुने सब्सक्रिप्शन के साथ इनवेस्टर्स की तरफ से अच्छा समर्थन मिला था। श्रीराम ग्रुप की कंपनी ने पब्लिक इश्यू के जरिये से 113-118 रुपये प्रति इक्विटी शेयर के प्राइस बैंड पर 600 करोड़ रुपये जुटाए हैं।

लिस्टिंग के पहले ही दिन इतने बड़े नुकसान से इनवेस्टर्स की चिंता बढ़ गई है। ऐसे में उनके मन में यही सवाल है कि आगे इस शेयर में क्या रणनीति होनी चाहिए, क्या उन्हें शेयर होल्ड करने चाहिए या एक्जिट कर जाना चाहिए। उनकी इस चिंता को दूर करने के लिए हम यहां 5 मार्केट एक्सपर्ट की राय सामने रख रहे हैं…

1. मीडियम टर्म के लिए करें होल्ड : राजनाथ यादव, रिसर्च एनालिस्ट, चॉइस ब्रोकिंग

हमने इश्यू के लिए ‘सब्सक्राइब’ रेटिंग दी थी। हालांकि, इनवेस्टर्स की तरफ से कमजोर डिमांड और मार्केट में निगेटिव सेंटीमेंट के चलते लिस्टिंग कमजोर रही है। हालांकि, सस्ते होम लोन, रेजीडेंशियल सेक्टर में स्थिर कीमतों और कुछ बाजारों में स्टैम्प ड्यूटी में कमी से हमारा अभी भी सेक्टर को लेकर पॉजिटिव व्यू है।

एसपीएल बंगलुरू और चेन्नई जैसे प्रमुख बाजारों में मौजूदगी के साथ दक्षिण भारत की अग्रणी रियल एस्टेट कंपनियों में शामिल है। ये दोनों बाजार आगे भी ग्रोथ के लिहाज से देश के टॉप शहरों में बने रहेंगे। महामारी के दौरान एसपीएल का बिजनेस बुरी तरह प्रआवित हुआ, इसलिए आगामी तिमाहियों में इसका प्रदर्शन बेहतर रहने का अनुमान है। कंपनी में दिग्गज इनवेस्टर्स का निवेश है और उसके प्रोजेक्ट्स से फाइनेंशियल इनवेस्टर्स भी जुड़े हुए हैं। इसलिए, हम इनवेस्टर्स को मीडियम टर्म में इसके शेयरों को होल्ड करने की सलाह देते हैं।

LIC IPO: इस वित्त वर्ष में LIC के IPO की आने की उम्मीद नहीं, जानिए किस वजह से हो रही है देरी

2. स्टॉक को खरीदने से बचें इनवेस्टर : लिखिता शेपा, सीनियर रिसर्च एनालिस्ट, कैपिटलवाया ग्लोबल रिसर्च

बाजार में उतार-चढ़ाव को देखते हुए हम इनवेस्टर्स को मौजूदा स्तरों पर इस स्टॉक को अपने पोर्टफोलियो में शामिल नहीं करने की सलाह देते हैं। हम अगले कुछ सेशंस में इसमें लगभग 15 फीसदी की और गिरावट देखते हैं।

यूएस फेडरल रिजर्व की बांड खरीद बढ़ाने की योजना के साथ, हम उम्मीद करते हैं कि आने वाले महीनों में एफआईआई की बिकवाली की उम्मीद करते हैं। इससे इन्फ्रास्ट्रक्चर और रियल्टी जैसे हाई-बीटा सेक्टरों में गिरावट देखने को मिल सकती है। शॉर्ट टर्म इनवेस्टर इस समय स्टॉक को खरीदने से बचें और लॉन्ग टर्म इनवेस्टर 75-80 रुपये के स्तर पर इसे खरीदने पर विचार कर सकते हैं।

3. अपनी पोजिशन खत्म कर लें इनवेस्टर : मोहित निगम, हेड-पीएमएस- हेम सिक्योरिटीज

कमजोर मार्केट और ओमीक्रोन की चिंताओं के चलते श्रीराम प्रॉपर्टीजी के शेयर की डिस्काउंट पर लिस्टिंग हुई है। फंडामेंटली कंपनी को नुकसान हुआ है, कर्ज बढ़ रहा है और लगातार प्रोजेक्ट्स पूरा करने में देरी से उसकी कमजोर क्षमताएं सामने आई हैं। अपनी आईपीओ रिपोर्ट में, हमने इनवेस्टर्स को इससे बचने की सलाह दी थी। अब जिन इनवेस्टर्स के पास इसके शेयर हैं, उन्हें अपनी पोजिशन खत्म कर लेनी चाहिए।

Flipkart अगले साल ला सकती है अपना IPO, भारत की जगह विदेश में लिस्टिंग की तैयारी

4. एग्रेसिव इनवेस्टर लॉन्ग टर्म के लिए खरीदें : संतोष मीणा, रिसर्च हेड, स्वास्तिका इनवेस्टमेंट

घाटे के चलते आईपीओ के लिए सीमित डिमांड रही, जबकि पिछले दो साल में आईपीओ में लगातार तेजी बनी हुई है। ऐसे में सिर्फ एग्रेसिव इनवेस्टर्स को ही श्रीराम प्रॉपर्टीज को खरीदने की सलाह दी जाती है, जबकि अन्य शोभा, प्रिस्टीज या ब्रिगेड खरीद सकते हैं। एग्रेसिव इनवेस्टर लॉन्ग टर्म के लिए इसे खरीद सकते हैं, जबकि शॉर्ट टर्म इनवेस्टर को क्लोजिंग बेसिस पर 80 रुपये का स्टॉप लॉस लगाना चाहिए।

5. सोनम श्रीवास्तव, फाउंडर, राइट रिसर्च

श्रीराम प्रॉपर्टीज रियल एस्टेट सेक्टर की अच्छी कंपनी है और पिछले दो साल में निगेटिव प्रॉफिटेबिलिटी दूसरी कंपनियों की तर्ज पर ही है। आईपीओ की कीमत उसकी बुक वैल्यू की तुलना में दोगुनी है।

हमें रियल एस्टेट सेक्टर में मजबूती आने की उम्मीद है और हम इनवेस्टर्स को स्टॉक खरीदने की सलाह देंगे, लेकिन उन्हें ओमीक्रोन वैरिएंट को लेकर सतर्क रहने की जरूरत है और इनवेस्टर्स को शेयर खरीदने से पहले कुछ तिमाहियों तक कंपनी के प्रदर्शन पर नजर रखनी चाहिए।

यह भी पढ़े:  Whatsapp Updates: एडमिन कर पाएगा ग्रुप का कोई मैसेज डिलीट, वॉट्सऐप ने शुरू किया नया फीचर
close