Upcoming IPO: बाजार में उतार-चढ़ाव के बावजूद अगले महीने 7,000 करोड़ रुपए के IPO होंगे लॉन्च, जानें डिटेल

अगर ये सभी कंपनियां IPO लाने में सफल होती हैं, तो यह भारतीय IPOs के लिए रिकॉर्ड पर सबसे व्यस्त दिसंबर बन सकता है

भारतीय कंपनियों का एक ग्रुप दिसंबर में इनिश्यल पब्लिक ऑफरिंग से संयुक्त रूप से 1 बिलियन डॉलर से ज्यादा जुटाने पर जोर दे रहा है। इसे Paytm की उथल-पुथल वाली लिस्टिंग के बाद से मार्केट के एक अहम टेस्ट की तरह माना जा रहा है।

इस मामले से जुड़े लोगों के मुताबिक, Warburg Pincus के निवेश वाली फार्मेसी चेन MedPlus Health Services Ltd. और Healthium Medtech Ltd, बायआउट फर्म एपेक्स पार्टनर्स द्वारा नियंत्रित सर्जिकल इंस्ट्रूमेंट्स के निर्माता, अगले महीने शेयर बेचने का लक्ष्य रखने वाले उम्मीदवारों की इस लिस्ट में शामिल हैं।

इन लोगों ने कहा कि डेवलपर श्रीराम प्रॉपर्टीज लिमिटेड साल के आखिर से पहले अपना IPO लाने पर विचार कर रहा है। इसके अलावा शादी के परिधान बनाने वाली वेदांत फैशन लिमिटेड भी दिसंबर में अपनी शेयर बिक्री शुरू कर सकते हैं।

ब्लूमबर्ग शो के डेटा के अनुसार, अगर ये सभी कंपनियां IPO लाने में सफल होती हैं, तो यह भारतीय IPOs के लिए रिकॉर्ड पर सबसे व्यस्त दिसंबर बन सकता है, जो 2012 के इसी महीने में जुटाए गए 972 मिलियन डॉलर के रिकॉर्ड को पार कर जाएगा।

अगले कुछ हफ्तों में ये पता चलेगा कि मुंबई IPO इनवोस्टर्स टेक्नोलॉजी इंडस्ट्री के बाहर लिस्टिंग को ज्यादा तवज्जो देते हैं? इनकी हैरान करने वाली वैल्यूएशन ने पेटीएम के लिए एक कठिन शुरुआत की।

Medplus को नवंबर के बीच में 219 मिलियन डॉलर के IPO के लिए मंजूरी दी गई थी, जबकि श्रीराम प्रॉपर्टीज ने अप्रैल में 107 मिलियन डॉलर तक के शेयरों को बेचने की अनुमति के लिए आवेदन किया था। Healthium को भी मंजूरी दे दी गई है।

Star Health IPO: राकेश झुनझुनवाला के निवेश वाली कंपनी का इश्यू आज खुला, जानिए क्या आपको निवेश करना चाहिए?

इनमें से एक शख्स ने कहा कि वेदांत, जो अपने कपड़ों के ब्रांड मान्यवर के लिए जाना जाता है, एक लिस्टिंग से लगभग 30 करोड़ डॉलर जुटा सकता है। कंपनी अपने IPO के लिए मार्केट रेगुलेटर की मंजूरी का इंतजार कर रही है।

अरबपति निवेशक राकेश झुनझुनवाला के निवेश वाला मेडिकल बीमाकर्ता स्टार हेल्थ एंड एलाइड इंश्योरेंस कंपनी इस हफ्ते अपना IPO लेकर आई है, जिसके 975 मिलियन डॉलर तक जुटाने की उम्मीद है। कुल मिलाकर, दिसंबर की लिस्टिंग से 1 बिलियन डॉलर से ज्यादा की बढ़ोतरी होगी।

हेल्थियम, मेडप्लस, श्रीराम प्रॉपर्टीज और स्टार हेल्थ के एक बाहरी प्रतिनिधि ने कहा कि उन्हें रेगुलेटर से मंजूरी मिल गई है और वे जल्द ही अपने IPO लॉन्च करने की योजना बना रहे हैं। हालांकि, वेदांत की तरफ से इस पर अभी कुछ नहीं कहा गया है।

एक बात ये भी है कि फिनटेक दिग्गज पेटीएम के पहले दो कारोबारी दिनों में 37% की गिरावट के बाद से देश के डिजिटल स्टार्टअप्स के लिए चीजें उतनी आसान भी नहीं दिख रही हैं। मामले की जानकारी रखने वाले लोगों ने कहा कि राइवल पेमेंट प्रोवाइडर Mobikwik ने अपनी लिस्टिंग को अगले साल तक के लिए टालने की योजना बनाई है।

लॉजिस्टिक्स कंपनी delhibery लिमिटेड और Oyo Hotels और ऑनलाइन फ़ार्मेसी PharmEasy के संचालकों ने ड्राफ्ट प्रॉस्पेक्टस दाखिल किए हैं और रेगुलेटर की मंजूरी का इंतजार कर रहे हैं।

MobiKwik के एक प्रवक्ता ने कहा कि कंपनी के पास मुनाफे का एक साफ रास्ता है और वह सही समय पर लिस्ट होगी।

भारतीय फर्मों ने इस साल IPO वॉल्यूम के रिकॉर्ड को पहले ही पार कर लिया है, जिसमें अब तक 15.5 बिलियन डॉलर जुटाए गए हैं। हालांकि, एक्सपर्ट्स ने चिंता जताई की है कि Paytm की ऑफरिंग पर मिला रिस्पांस भारतीय शेयरों की वैल्यूएशन पर असर डाल सकता है।

यह भी पढ़े:  SBI अलर्ट: आज 6 घंटे से अधिक बंद रहेगी एसबीआई की ऑनलाइन सर्विस, जानें डिटेल्स
close